Top
राष्ट्रीय

उग्रवादी संगठन उल्फा-आई ने 104 दिनों के बाद बंधक को किया मुक्त

Janjwar Desk
4 April 2021 1:30 AM GMT
उग्रवादी संगठन उल्फा-आई ने 104 दिनों के बाद बंधक को किया मुक्त
x
एक रक्षा बयान में कहा गया है कि एक सीमा पर गश्त के दौरान, असम राइफल्स के जवान दक्षिण अरुणाचल प्रदेश में शनिवार को चांगलांग जिले में भारत-म्यांमार सीमा को क्रास करते देखा।

गुवाहाटी। उग्रवादी संगठन यूनाइटेड लिबरेशन फ्रंट ऑफ असोम (इंडिपेंडेट) ने नई दिल्ली स्थित निजी तेल और गैस कंपनी के दो अगवा कर्मचारियों में से एक को 104 दिनों बाद रिहा कर दिया है। हालांकि, अपुष्ट रिपोर्ट से पता चला है कि उल्फा-आई ने अरुणाचल प्रदेश के विभिन्न स्थानों में दो बंधकों को रिहा कर दिया है।

अरुणाचल प्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक रवींद्र यादव ने बताया कि वे तथ्यों का सत्यापन कर रहे हैं।

एक रक्षा बयान में कहा गया है कि एक सीमा पर गश्त के दौरान, असम राइफल्स के जवान दक्षिण अरुणाचल प्रदेश में शनिवार को चांगलांग जिले में भारत-म्यांमार सीमा को क्रास करते देखा।

बयान के अनुसार, व्यक्ति की पहचान क्विपो ऑयल एंड गैस इंफ्रा लिमिटेड के एक कर्मचारी प्रणव कुमार गोगोई के रूप में की गई, जिसे पिछले साल 21 दिसंबर को उल्फा-आई ने अरुणाचल प्रदेश के इनाऊ से अगवा कर लिया था। व्यक्ति को लोंगवी में अरुणाचल प्रदेश पुलिस को सौंप दिया गया है।

अरुणाचल प्रदेश के एक अन्य पुलिस अधिकारी ने कहा कि थोड़ी पूछताछ और कोविड-19 परीक्षण के बाद गोगोई को असम पुलिस या उनके परिवार को सौंप दिया जाएगा।

दिल्ली स्थित क्विपो ऑयल एंड गैस इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड के एक रेडियो ऑपरेटर राम कुमार और ड्रिलिंग सुपरिटेंडेंट गोगोई को अरुणाचल प्रदेश में कंपनी के कुमचिखा हाइड्रोकार्बन ड्रिलिंग साइट से अपहरण कर लिया गया था। प्रणब गोगोई असम के शिवसागर जिले से हैं, वहीं राम कुमार बिहार से हैं।

Next Story

विविध

Share it