राष्ट्रीय

Noida News: पीएम मोदी ने किया देश के सबसे बड़े जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास, जानिए इसकी खासियत

Janjwar Desk
25 Nov 2021 9:00 AM GMT
Noida News: पीएम मोदी ने किया देश के सबसे बड़े जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास, जानिए इसकी खासियत
x

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सबसे बड़े जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास किया। 

Noida News: जेवर एयरपोर्ट दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। इसके निर्माण में 29,650 करोड़ रुपए खर्च होंगे। यहां एक साथ 178 विमान खड़े हो सकेंगे।

Noida News : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 ( Uttar Pradesh Assembly Election ) से ठीक पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने गुरुवार को देश के सबसे बड़े जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट ( Jewar International Airport ) का शिलान्यास ( Foundation Stone ) किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जेवर एयरपोर्ट से दिल्ली एनसीआर और पश्चिमी यूपी के लोगों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी का भारत बेहतर आधारभूत ढांचा तैयार कर रहा है। यहां देश को पहला एयरपोर्ट कार्गो भी बनाया जाएगा। इस एयरपोर्ट से करोड़ों लोगों को फायदा होगा। यह यूपी का पांचवां इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा। जेवर एयरपोर्ट उत्तर भारत का गेटवे बनेगा।

जिन्ना के समर्थकों ने गन्ने की मिठास को फीका किया

सीएम योगी ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर विकास कार्य हुए हैं। पीएम मोदी ने एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना पूरी की। पहले की सरकारों ने पश्चिम यूपी में दंगे करवाए। पश्चिम यूपी को विकास की नई गाथा लिख रहे हैं। जिन्ना के अनुयायियों ने गन्ने की मिठास को फीका किया।

जेवर दिल्ली एयरपोर्ट से आगे जाएगा

केंद्रीय उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यूपी के लोगों ने जिस एयरपोर्ट का सपना देखा था उसे आज पीएम मोदी ने पूरा किया है। इसी के साथ आज पीएम मोदी का संकल्प भी पूरा हो गया है। इंटरनेशनल एयरपोर्ट यूपी के लोगों की नई चमक का पर्याय बनेगा। 2024 तक एयरपोर्ट का पहला फेज पूरा होगा। एयरपोर्ट को रोड, रेल, और मेट्रो नेटवर्क से भी जोड़ा जाएगा। जेवर एयरपोर्ट दिल्ली एयरपोर्ट से भी आगे जाएगा।

रनवे पर 178 विमान खड़े होने की क्षमता

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट ( जेवर एयरपोर्ट ) दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। इसके निर्माण में 29,650 करोड़ रुपए खर्च होंगे। यहां एक साथ 178 विमान खड़े हो सकेंगे। पहली फ्लाइट यहां से सितंबर 2024 में उड़ेगी। जेवर एयरपोर्ट 5,845 हेक्टेयर जमीन पर बनेगा। पहले चरण में इसका निर्माण 1,334 हेक्टेयर जमीन पर होगा। फर्स्ट फेज में यहां दो यात्री टर्मिनल और दो रनवे बनाए जाएंगे। बाद में यहां कुल पांच रनवे बनेंगे।

फ्लोरिडा और ऑरलैंडो को पछाड़ बनेगा दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एयरपोर्ट

जेवर एयरपोर्ट पूरी तरह से विकसित होने के बाद फ्लोरिडा के ऑरलैंडो अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को पछाड़कर दुनिया के चौथे बड़े हवाई अड्डे की सूची में अपना स्थान बना चुका होगा। हालांकि, यह एयरपोर्ट कम से कम साल 2030 तक दिल्ली जैसा अंतरराष्ट्रीय आकार ले पाएगा। एयर ट्रैफिक बढ़ने पर इससे अधिक रनवे बनाए जा सकते हैं। घरेलू उड़ानों में 40 फीसदी मांग मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद व चेन्नई जैसी मेट्रो सिटी में आने-जाने वाले यात्रियों की है। इसलिए जेवर एयरपोर्ट से शुरुआत में 8 घरेलू उड़ानें शुरू की जाएंगी।

जेवर एयरपोर्ट चार एक्सप्रेसवे, मेट्रो, बुलेट ट्रेन व पॉड टैक्सी से जुड़ा होगा। इसकी सबसे खास बात यह है कि मेट्रो और बुलेट ट्रेन का स्टेशन एयरपोर्ट की टर्मिनल बिल्डिंग में बनेगा, जिसमें हवाई सफर करने वाले यात्रियों के लिए हर सुविधा का ख्याल रखा गया है।

Next Story

विविध

Share it