राजस्थान

Curfew after Jodhpur voilence : गहलोत के गृहनगर में ईद पर सियासी बवाल, कांग्रेस-भाजपा में वार-पलटवार, कई इलाकों में कर्फ़्यू?

Janjwar Desk
3 May 2022 8:48 AM GMT
Curfew after Jodhpur voilence : गहलोत के गृहनगर में ईद पर सियासी बवाल, कांग्रेस-भाजपा में वार-पलटवार, कई इलाकों में कर्फ़्यू?
x

Curfew after Jodhpur voilence : गहलोत के गृहनगर में ईद पर सियासी बवाल, कांग्रेस-भाजपा में वार-पलटवार, कई इलाकों में कर्फ़्यू?

Curfew after Jodhpur voilence : कई इलाकों में दो समुदायों के बीच हिंसक घटना जारी रहने के बाद से जिला प्रशासन कर्फ़्यू लगाने का ऐलान किया।

Curfew after Jodhpur voilence : बीती रात से जोधपुर ( Jodhpur ) के विभिन्न इलाकों में हिंसक घटना अब भी जारी हैं। जोधपुर सीएम अशोक गहलोत ( CM Ashok Gehlot ) का गृहनगर है। हिंसक घटनाओं की वजह से स्थिति नाजुक स्थिति में पहुंच गई है। कई इलाकों में दो समुदायों के बीच हिंसक घटना जारी रहने के बाद से जिला प्रशासन कर्फ़्यू ( Curfew imposed ) लगाने का ऐलान किया। जोधपुर में करीब 15 घंटे में हिंसा ( Jodhpur Violence ) की चार घटनाएं सामने आई हैं।

अब जोधपुर में हिंसक घटनाओं की सीसीटीवी फुटेज भी सामने आई गई हें। सीसीटीवी फुटेज में उपद्रवी तलवार लहराते हुए नजर आ रहे हैं। साथ ही उपद्रवी पत्थरबाजी भी कर रहे हैं। उपद्रवी तलवारें लहराते नजर आये।

जोधपुर के 10 इलाकों में कर्फ़्यू

सोमवार रात 12 बजे के बाद से जोधपुर में दो समुदायों के बीच जारी हिसंक घटना के बाद 10 इलाकों कर्फ़्यू लगाने की घोषणा की गई है। कर्फ़्यू लगाने का ऐलान जिला प्रशासन ने किया। कर्फ़्यू बुधवार रात 12 बजे तक जारी रहेगा। स्थिति में संतोषजनक सुधार न होने पर अवधि बढ़ाया भी जा सकता है। जिन 10 इलाकों में कर्फ़्यू लगाने की घोषणा की गई उनमें उदय मंदिर, सदर कोतवाली, सदर बाजार, प्रताप नगर, देव नगर, नागोरी गेट, खंडाफलसा, प्रतापनगर, प्रतापनगर सदर, सरदारपुरा और सुरसागर का नाम शामिल है।

इस बीच सीएम अशोक गलतोत ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आपात बैठक की है। उन्होंने अधिकारियों से स्थिति को नियंत्रित करने और उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया है। सीएम की आपात बैठक के बाद ही जोधपुर के 10 इलाकों में कर्फ़्यू लगाया गया है।

कांग्रेस-भाजपा ने एक-दूसरे को ठहराया हिंसा के लिए जिम्मेदार

अशोक गहलोत सरकार में मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास ने जोधपुर हिंसा के भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि अब यूपी में हिंसा नहीं होगा। भाजपा अब उन राज्यों में हिंसा कराएगी, जिन राज्यों में चुनाव होने हैं। उन्होंने कहा कि अब हिंसक घटनाएं कर्नाटक और राजस्थान में होती रहेंगी। यह भाजपा की सोची समझी राजनीति है। भाजपा हर जगह चुनाव को ध्रुवीकरण के आधार पर कराना चाहती है।

जोधपुर में तालीबानी राज जैसा माहौल

दूसरी तरफ भाजपा ने गहलोग सरकार की सांप्रदायिक नीतियों को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहरया है। पूर्व केंद्रीय मंंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने कहा है कि हिंसक घटनाएं कांग्रेस की तुष्टिकरण की राजनीति की वजह से हो रही है। कांग्रेस नरे करौली में जयश्री के नारे लगाने पर हिंसा करवाए और जोधपुर में हनुमान चालीसा और भगवा झंडो को लेकर हिंसा करवाए हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान में पूरी तरह से तालीबान जैसा राज लग रहा है। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत जोधपुर पहुंच गए हैं। वह चार बजे मीडिया को संबोधित कराएंगे।

जोधपुर में बीती राज से जारी हिंसक घटनाओं पर केंद्रीय गृह मंत्रालय की भी नजर है। ताजा अपडेट यह है कि जोधपुर में भापजा विधायक सूर्यकांत व्यास के आवास के सामने उपद्रवियों ने आगजनी की घटना को अंजाम दिया है। झंडे और लाउउस्पीकर के नाम पर चार बार हिंसक घटनाकों की वजह से पुलिस ने लाठीचार्ज के साथ आंसू गैल के गोले भी छोड़े हैंं। वहीं हिंदूवादी संगठनों ने हनुमान चालीसा का पाठ कर अपना विरोध जताया है।

कबूतर चौक पर लूटे गए दुकान

Curfew after Jodhpur voilence : बता दें कि राजस्थान के जोधपुर में सोमवार रात झंडे और लाउडस्पीकर लगाने को लेकर दो समुदायों के बीच पत्थरबाजी हुई। यह विवाद मंगलवार को फिर तूल पकड़ता नजर आ रहा है। यहां के जालोरी गेट इलाके में आज सुबह एक समुदाय के लोग दोबारा जुटे और फिर से उपद्रव फैलाने की कोशिश की। इलाके में पत्थरबाजी और आगजनी की घटनाएं भी हुई है। कबूतर चौक पर दुकानों को लूटा गया है। उपद्रवियों ने 20 से ज्यादा गाड़ियों के कांच तोड़ दिए और कई एटीएम में भी तोड़फोड़ की है। आज हुए पथराव में एक पुलिसकर्मी को भी चोटें आई हैं। इससे पहले सोमवार रात दोनों पक्षों के बीच 2 बार हिंसा हुई थी। मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मंगलवार को अनंतनाग में मस्जिद के बाहर पत्थरबाजी हुई। ईद की नमाज के बाद प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षाबलों पर पत्थर फेंके।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध