राष्ट्रीय

RJD Crisis : तेजस्वी-तेजप्रताप में सुलह कराने रातोंरात पटना आईं राबड़ी, घर के बाहर खड़ी रहीं पर बेटे ने नहीं की मुलाकात

Janjwar Desk
10 Oct 2021 6:39 PM GMT
RJD Crisis : तेजस्वी-तेजप्रताप में सुलह कराने रातोंरात पटना आईं राबड़ी, घर के बाहर खड़ी रहीं पर बेटे ने नहीं की मुलाकात
x

(दोनों बेटों के बीच सुलह कराने राबड़ी देवी महीनों  बाद पटना आईं हैं) file pic

RJD Crisis : बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी लगभग छह माह के बाद रविवार की रात को दिल्ली से पटना पहुंची। पटना हवाई अड्डे पर पहुंचते ही उन्होंने तेज प्रताप से मिलने की इच्छा जताई थी..

RJD Crisis : (जनज्वार)। बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी (Rabdi Devi) लगभग छह माह के बाद रविवार, 10 अक्टूबर 2021 की रात को दिल्ली से पटना पहुंची। पटना हवाई अड्डे (Patna Airport) पर पहुंचते ही उन्होंने तेज प्रताप से मिलने की इच्छा जताई और सीधे वहां से तेज प्रताप के आवास पर गईं। उनके साथ बिस्कोमान के अध्यक्ष व राजद एमएलसी सुनील सिंह भी थे।

लेकिन वहां राबड़ी देवी की मुलाकात तेज प्रताप (Tejpratap yadav) से नहीं हो सकी। नाराज चल रहे तेजप्रताप मां राबड़ी देवी के आने की खबर पा अपने आवास से अचानक निकल गए। लिहाजा राबड़ी देवी पांच मिनट में ही वहां से लौटकर अपने आवास 10, सर्कुलर रोड चली गईं।

वहां उन्होंने अपने आवास पर आए छपरा जिले के कुछ नेताओं से मुलाकात की।हालांकि, पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरे घर में कोई लड़ाई नहीं है।

हालांकि, कहा यह जा रहा है कि राबड़ी देवी को दोनों भाइयों में सुलह कराने के लिए राजद प्रमुख लालू प्रसाद (Lalu prasad yadav) ने पटना भेजा है। विधानसभा की दो सीटों पर उपचुनाव को लेकर दोनों भाइयों के बीच ठनी हुई है। इससे परिवार की किरकिरी हो रही है।

सूचना है कि राबड़ी देवी की मुलाकात तेजप्रताप से नहीं हो पाई। तेजप्रताप को पहले ही पता चल गया था कि राबड़ी उनके सरकारी आवास पर आने वाली हैं। इसलिए वह अपने आवास से बाहर चले गए। दोनों की मुलाकात नहीं हो पाई है। राबड़ी बहुत देर तक इंतजार करती रहीं। फिर अपने आवास लौट गईं। राबड़ी ने काफी देर तक तेजप्रताप से संपर्क करने की भी कोशिश की, लेकिन उनसे बात नहीं हो सकी।

बता दें कि लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप हाल के दिनों दिए अपने कई बयानों से परिवार से नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। उन्होंने कहा था कि लालू को दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया है। इसके बाद कुछ ही दिन पर राजद के स्टार प्रचारकों की सूची से उन्हें बाहर कर दिया गया।

दो दिन पहले तेजस्वी ने एकबार फिर राबड़ी और मीसा के समर्थन में आकर पार्टी के खिलाफ बयान दे दिया था। उन्होंने कहा था कि मेरा नाम स्टार प्रचारकों में होता या न होता कम से कम मां और बहन का तो होना चाहिए, बिहार की महिलाएं सब याद रखेंगी।

Next Story

विविध

Share it