राष्ट्रीय

किसी भी फसल की लागत नहीं वसूल हो रही इसलिए गांजा की खेती की अनुमति दें, किसान ने मांगा अजीबोगरीब परमिशन

Janjwar Desk
26 Aug 2021 8:15 AM GMT
PM Kisan Yojana: 7 लाख किसानों से प्रधानमंत्री किसान योजना के पैसे वापस लेगी केंद्र सरकार, आखिर क्यों आई ऐसी नौबत?
x

किसानों को लौटानी पड़ सकती है PM किसान योजना की 10वीं किस्‍त


किसान अनिल पाटिल ने बुधवार को सोलापुर जिला कलेक्टर को एक आवेदन भेजा है, आवेदन में किसान ने अपनी 2 एकड़ जमीन पर गांजे की खेती करने की परमिशन मांगी है..

जनज्वार। देश में खेती-किसानी की हालत खराब रहती है। किसानों का कहना है कि उन्हें फसल की लागत भी नहीं मिल पाती और खेती घाटे का सौदा बन गई है। किसानों की एमएसपी की मांग भी काफी पुरानी है। तीन नए केंद्रीय कृषि किसानों को किसानों के लिए हानिकारक बताते हुए किसान आंदोलन महीनों से चल रहा है।

इस बीच महाराष्ट्र के एक किसान ने जिला प्रशासन को आवेदन देकर उसे गांजा की खेती करने की अनुमति देने की अजीबोगरीब मांग कर दी है। बता दें कि गांजा की खेती, बिक्री आदि प्रतिबंधित होती है। हालांकि पुलिस का कहना है कि ऐसा आवेदन किसान ने फेमस होने के लिए दिया है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, महाराष्ट्र के सोलापुर स्थित मोहोल तहसील के किसान अनिल पाटिल ने बुधवार को सोलापुर जिला कलेक्टर को एक आवेदन भेजा है। आवेदन में किसान ने अपनी 2 एकड़ जमीन पर गांजे की खेती करने की परमिशन मांगी है।

अपने आवेदन में पाटिल ने लिखा है, "अगर मेरे खिलाफ गांजे की खेती करने के लिए कोई अपराध दर्ज किया जाता है, तो प्रशासन उसका जिम्मेदार होगा।" हालांकि, मोहोल पुलिस थाने के वरिष्ठ निरीक्षक अशोक सैकर ने कहा कि किसान यह सब सिर्फ फेमस होने के लिए कर रहा है।

उन्होंने कहा, "अगर वह (गांजा की खेती) इस तरह के कृत्य का सहारा लेता है, तो हम उसके खिलाफ अपराध दर्ज करेंगे।"

सोलापुर में मोहोल तहसील के किसान अनिल पाटिल ने बुधवार को सोलापुर जिला कलेक्टर को भेजे अपने आवेदन में कहा कि किसी भी फसल के लिए कोई निश्चित मूल्य नहीं है और इसलिए, कृषि व्यवसाय घाटे में चल रहा है। किसान ने कहा कि खेती मुश्किल होती जा रही है।

अनिल पाटिल ने कहा है कि किसी भी फसल की खेती की लागत भी पूरी वसूल नहीं की जाती है। चीनी मिलों को बेचे जाने वाले गन्ने का बकाया भुगतान नहीं किया गया है। उन्होंने दावा किया कि बाजार में गांजे की अच्छी कीमत है। पाटिल ने अपनी दो एकड़ जमीन पर इसकी खेती करने की अनुमति मांगी है।

पाटिल ने जिला प्रशासन से कहा कि उसे 15 सितंबर तक खेत में गांजे के पौधे उगाने की अनुमति दें वरना 16 सितंबर से वह अपने खेत में गांजा उगाना शुरू कर देगा और समझ लेगा कि उसे अनुमति मिल गई है।

Next Story

विविध

Share it