राष्ट्रीय

UP : बीयर पीने पर चौकी इंचार्ज व 2 सिपाहियों ने युवक को दो दिन तक बांधकर पीटा, 1 लाख लेकर छोड़ा, 3 निलंबित

Janjwar Desk
26 July 2021 10:03 PM GMT
UP : बीयर पीने पर चौकी इंचार्ज व 2 सिपाहियों ने युवक को दो दिन तक बांधकर पीटा, 1 लाख लेकर छोड़ा, 3 निलंबित
x

पुलिसिया पिटाई के बाद सहारा लेकर चलता युवक. (photo - social media)

पीड़ित सुरेन्द्र ने बताया कि चौकी में उसके हाथ पैर बांधकर उसकी डंडों से बुरी तरह पिटाई की गई। फिर दूसरे दिन यानी 24 जुलाई को उसके घर पर सूचना दी। सूचना मिलने पर उसका भाई छुड़ाने पहुंचा तो उसे धमकी देते हुए एक लाख रुपये की मांगे...

जनज्वार, ललितपुर। यूपी में पुलिस पूरे तौर पर बेलगाम हो चुकी है। अब नया मामला ललितपुर से निकलकर आया है, जिसमें एक बार फिर पुलिस का अमानवीय चेहरा देखने को मिला है। यहां की कोतवाली सदर क्षेत्र के अंतर्गत बिरधा चौकी इंचार्ज और दो पुलिस कर्मियों ने एक युवक को चौकी में बंदकर 2 दिनों तक महज इसलिए पीटा क्योंकि उन्होने बियर पी थी।

पिटाई के बाद, छोड़ने के एवज में उनके परिजनों से 1 लाख रुपये वसूले गये। बाद में धारा 151 में युवक का चालान काटकर रिहा किया। जमानत पर छूटने के बाद पीड़ित युवक जब घर पहुंचा तो उसकी हालत बिगड़ गयी। परिजनों ने उसे रविवार 25 जुलाई की शाम अस्पताल में भर्ती कराया। मामले की जानकारी मिलने पर पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार ने चौकी इंचार्ज सहित दोनों पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है।

क्या था पूरा मामला

कोतवाली सदर स्थित आजादपुरा द्वितीय के रहने वाले 25 वर्षीय सुरेन्द्र उर्फ मोनू ने बताया कि 23 जुलाई को अपने दो दोस्तों के साथ रात सबा 8 बजे बाइक से बिरधा अपने रिश्तेदार के घर जा रहा था। सतरवांस पुलिया के पास उसके दोस्त बीयर पीने लगे, तभी चौकी इंचार्ज बिरधा दयाशंकर सिंह, दो कांस्टेबल पंकज सिंह व अमित यादव के साथ आये और उसे पकड़ लिया। जबकि उसके दोस्त मौका देखकर भाग निकले। इसके बाद वे उसे पकड़कर चौकी ले गये, जहां पर उसके साथ बेरहमी की गई।

परिजनो से 1 लाख रूपये लेकर छोड़ा

पीड़ित सुरेन्द्र ने बताया कि चौकी में उसके हाथ पैर बांधकर उसकी डंडों से बुरी तरह पिटाई की गई। फिर दूसरे दिन यानी 24 जुलाई को उसके घर पर सूचना दी। सूचना मिलने पर उसका भाई छुड़ाने पहुंचा तो उसे धमकी देते हुए एक लाख रुपये की मांगे। जब उसने एक लाख रुपये दे दिये तो उसका चालान 151 में कर दिया। बाद में परिजनों ने उसे जमानत पर रिहा कराया।

सुरेन्द्र के भाई छोटू यादव ने बताया कि जमानत कराकर जब वह रविवार शाम घर पहुंचा तो सुरेन्द्र की हालत बिगड़ने लगी। जिसके बाद सुरेन्द्र ने उसे आपबीती बताई और कपड़े उतारकर पूरे शरीर में चोटों के निशान दिखाए। जिसके बाद परिजनों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया।

पूरे घटनाक्रम पर एसपी प्रमोद कुमार ने बताया कि चौकी इंचार्ज बिरधा व दो पुलिसकर्मियों पर मारपीट का आरोप लगा है। चौकी इंचार्ज और दोनों पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही मामले की जांच कराई जा रही है।

Next Story

विविध

Share it