राष्ट्रीय

बेटी के कातिल बाप ने पैरोल पर छूटकर की एक और हत्या, खुद की मौत दिखाने के लिए मिस्त्री को मार डाला

Janjwar Desk
12 Dec 2021 3:31 AM GMT
बेटी के कातिल बाप ने पैरोल पर छूटकर की एक और हत्या, खुद की मौत दिखाने के लिए मिस्त्री को मार डाला
x

(दो दो कत्ल का आरोपी सुदेश और उसकी पत्नी अनुपमा)

Gaziabad Crime News: आरोपी अपनी बेटी की हत्या मामले में जेल में बंद था। पूरी जिंदगी सजा से बचने कि लिए उसने जेल में ही साजिश रची और फिर पैरोल पर बाहर आकर अपनी हत्या बताकर मिस्त्री को मार डाला...

Gaziabad Crime News: अपनी बेटी की हत्या के मामले में जेल में बंद एक आरोपी ने सजा से बचने के लिए एक और खून कर दिया और खुद की हत्या की कहानी (Self Murder) रच डाली। जेल में बंद आरोपी ने पैरोल पर से बाहर आकर एक मजगूर को अपने कपड़े पहनाकर उसकी हत्या कर दी और पहचान छिपाने के लिए शव को कुचलकर बुरी तरह जला दिया। पूरी साजिश में कातिल का साथ उसकी पत्नी ने भी दिया। उसने पत्नी से कह दिया कि लाश की शिनाख्त वह अपने पति के रूप में करे। घर से लाश मिलने के बाद पुलिस मामले में काफी समय तक उलझी रही, लेकिन उसकी पत्नी से सख्ती से पूछताछ के बाद मामले का खुलासा हो गया। गाजियाबाद पुलिस (Ghaziabad Police) ने दो दो कत्ल के आरोपी पति और पत्नी को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस को मिली अधजली लाश

दरअसल, उत्तर-पूर्वी दिल्ली (North east Delhi) के करावल नगर के लोनी इलाके के एक खाली प्लॉट में 20 नवंबर को एक अज्ञात लाश (36 वर्ष) मिली थी। लाश अधजली थी और चेहरा बुरी तरह से कुचला हुआ था। पुलिस ने लाश को कब्जे में लिया और आसपास के लोगों से पूछताछ करनी शुरू की। छानबीन के दौरान करावल नगर की रहने वाली एक महिला अनुपमा ने लाश की शिनाख्त अपने पति के तौर पर की। उसने कहा कि उसके पति का नाम सुदेश था। पुलिस ने अनुपमा के बयान के बाद हत्या का मामला दर्ज किया और जांच शुरू कर दी। पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी, मृतक सुदेश की कॉल डिटेल्स और उसकी प्रोफाइल खंगाली। इस दौरान पता चला कि सुदेश ने साल 2018 में अपनी 13 साल की बेटी वंशिका की हत्या की थी। हत्या के आरोप में वह जेल में बंद था। अभी हाल ही में पैरोल पर छूटकर आया है। इसके बाद गाजियाबाद पुलिस ने उसकी पत्नी अनुपमा को बुलाया और कड़ाई से पूछताछ करनी शुरू की।

आरोपी की पत्नी ने दिया साथ

पूछताछ में अनुपमा ने जो खुलासा किया, उसे सुनकर पुलिस दंग रह गई। पुलिस ने पाया कि कातिल कोई और नहीं, बल्कि खुद सुदेश ही था। वही सुदेश जिसकी हत्या की गुत्थी में पुलिस उलझी हुई थी। पुलिस को जिसकी लाश मिली थी, वह किसी और की लाश थी। खुद को जेल की सजा से बचने के लिए आरोपी ने अपनी हत्या (False Self Murder) की साजिश रची और दूसरे शख्स का कत्ल करके पुलिस को भ्रम में डाल दिया।

आरोपी सुदेश ने बताया कि साल 2018 में गलत चाल चलन के कारण उसने अपनी 13 साल की बेटी की हत्या कर दी थी। इस मामले में वो जेल में बंद था। जेल के बाकी कैदियों ने उससे कहा कि इस केस में उसे सजा हो जाएगी और पूरी जिंदगी जेल में कट जाएगी। सजा से बचने कि लिए उसने जेल में ही साजिश रची और फिर पैरोल पर बाहर आ गया।

मजदूर का कत्ल किया

आरोपी के इनुसार, 20 नवंबर को उसने लोनी इलाके के अपने छत की मरम्मत करने के लिए एक मिस्त्री बुलाया। दिल्ली के करावल नगर से वह मिस्त्री को लेकर लोनी इलाके में पहुंचा, जहां उसकी बीवी अनुपमा पहले से मौजूद थी। सुदेश ने मिस्त्री से पहले काम करवाया और शाम को जमकर शराब पिलाई। फिर लालच देकर उसने मिस्त्री को अपने कपड़े पहला दिए। उसके बाद सुदेश ने मिस्त्री की निर्ममता से हत्या कर दी। लाश की पहचान छिपाने के लिए कातिल ने मिस्त्री के चेहरे को कुच दिया और लाश को जला दिया।

इसके बाद सुदेश ने अपनी पत्नी अनुपमा से कहा कि जब पुलिस लाश की पहचान के लिए कहे तो मेरी लाश बताना, इससे मैं हमेशा के लिए मरा हुआ साबित हो जाऊंगा और सजा से बच जाऊंगा। मगर अनुपमा ज्यादा देर तक पुलिस के सामने राज को छिपा नहीं पाई और पुलिस के सामने सारा सच उगल दिया। सुदेश जिसने बेटी के कत्ल की सजा से बचने के लिए अपनी हत्या की साजिश रची, वह खुद ही दो दो कत्ल का आरोपी बन गया। पुलिस ने सुदेश और उसकी पत्नी अनुपमा को गिरफ्तार कर लिया है।


Next Story

विविध