Top
उत्तर प्रदेश

योगी के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने NDTV वाले रवीश कुमार को बताया 'बेशर्म पत्रकार'

Janjwar Desk
12 Dec 2020 1:35 PM GMT
योगी के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने NDTV वाले रवीश कुमार को बताया बेशर्म पत्रकार
x
योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार ने अपने ट्वीट में लिखा कि 'ग़लत तरीक़े से फँसाया गया', 'आरोपी बनाया गया' असम को काटने की इच्छा रखने वाले, दिल्ली में आग लगाने वाले और देश के टुकड़े करने के मंसूबे रखने वालों का बखूबी बचाव कर रहा है यह बेशर्म पत्रकार....

जनज्वार ब्यूरो/लखनऊ। एनडीटीवी के मैनेजिंग एडिटर और पत्रकारिता का ऑस्कर यानी मैग्सेसे पुरस्कार प्राप्त रवीश कुमार पांडेय को योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने बेशर्म पत्रकार बताया है। मृत्युंजय कुमार ने रवीश को उनके प्राइम टाइम में किसानों पर खबर पेश करने को लेकर उन्हें यह कहा।

दरअसल रवीश कुमार किसान आंदोलन पर अपना प्राइम टाइम कर रहे थे। इस दौरान रवीश ने कहा 'किसान आंदोलन हर दिन साहस का नया प्रदर्शन कर रहा है, विस्तार कर रहा है। किसान जिनका नाम आते ही गोदी मीडिया आक्रामक होने लगता है।' प्राइम टाइम में दिल्ली के टिकरी बॉर्डर की फुटेज दिखाते हुए रवीश ने कहा 'भीमा कोरेगाँव से लेकर दिल्ली दंगों तक कथित रूप से आरोपी बनाए गए इन लोगों को कई-कई महीनों, सालो जमानत नहीं मिली।'

आगे रवीश ने अपने शो में कहा 'पंजाब किसान यूनियन के सुदर्शन नट ने कहा कि इन सबको गलत तरीके से फंसाकर जेल भेजा गया है, हम उनकी रिहाई की मांग करते हैं। पंजाब से आई महिला किसानों ने इनके पोस्टरों को हाथों में उठा लिया। आगे रवीश ने बरबरा राव, उमर खालिद, सुधा भारद्वाज, गौतम नवलखा, सरजील इमाम, स्टैन स्वामी, सुरेंद्र गाडलिग, खालिद सैफी आदि के भी नाम लिए।'

इस खबर से भड़के योगी आदित्यनाथ के मीडिया सलाहकार ने अपने ट्वीट में लिखा कि "ग़लत तरीक़े से फँसाया गया" "आरोपी बनाया गया" असम को काटने की इच्छा रखने वाले, दिल्ली में आग लगाने वाले और देश के टुकड़े करने के मंसूबे रखने वालों का बखूबी बचाव कर रहा है यह "बेशर्म पत्रकार।"

मृत्युंजय कुमार के इस ट्वीट पर एक अन्य यूजर जितेंद्र कुमार लिखते हैं कि 'केंद्र में आपकी सरकार, स्टेट में आपकी सरकार उसके बाद भी लोग ऐसा कर रहे है तो शर्म आपको आनी चाहिए इन जैसो को नही, 300+ सीट जिताया है ट्विटर पर खेलने के लिए नही इन जैसो देश के गद्दारो को सजा दिलाने के लिए।'

Next Story

विविध

Share it