Top
उत्तर प्रदेश

पत्रकार ने हमले की जताई आशंका तो DM ने कहा आप पर कौन हमला करेगा, अब गुंडों ने पत्रकार को जिंदा जलाकर मार डाला

Janjwar Desk
28 Nov 2020 12:43 PM GMT
पत्रकार ने हमले की जताई आशंका तो DM ने कहा आप पर कौन हमला करेगा, अब गुंडों ने पत्रकार को जिंदा जलाकर मार डाला
x
घटना के समय पत्रकार राकेश सिंह की पत्नी अपनी दो बेटियों के साथ मायके गई हुई थीं, इस भीषण हादसे में कई रहस्यों से अभी पर्दा उठना बाकी है, पुलिस तहकीकात में जुटी है लेकिन कई ऐसे साक्ष्य हैं जो गंभीर घटना की ओर इशारा करते हैं....

बलरामपुर। उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में एक पत्रकार राकेश कुमार के घर में गुंडों ने कथित तौर पर आग लगा दी। इस घटना में आग ने बाद में भीषण रूप ले लिया। इस दौरान राकेश सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इसके बाद उन्हें लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था जहां उनकी मौत हो गई। घटना कोतवाली देहात क्षेत्र के कलवारी गांव की है।

पत्रकार राकेश सिंह ने अपनी मौत से पहले बताया था कि दबंगों ने उनके घर में आग लगाकर जिंदा जलाने का प्रयास किया है।आग इतनी भीषण लगाई गई कि घर का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया और दीवार टूट कर गिर गई। इस दर्दनाक हादसे में पत्रकार राकेश सिंह 90 प्रतिशत से ज्यादा जल चुके हैं, जबकि मकान के क्षतिग्रस्त हिस्से में एक युवक का बुरी तरह जला हुआ शव बरामद हुआ है। आशंका व्यक्त की जा रही है कि यह शव पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक के मित्र पिंटू साहू का है, जो घटना के समय राकेश सिंह के घर में ही मौजूद था। पुलिस शव की शिनाख्त में जुटी है।

शुक्रवार की रात लगभग 11:30 बजे पत्रकार राकेश सिंह के मकान में भीषण आग लगने और आग से मकान का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त होने की सूचना पर मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया। तब तक एक युवक का शव जलकर राख हो चुका था। पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक जलने के कारण गंभीर रूप से घायल हो गए थे। घायल राकेश सिंह को पुलिस ने जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां उसकी गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे ट्रॉमा सेंटर रेफर कर दिया गया था।

खबरों के मुताबिक अस्पताल में भर्ती पत्रकार राकेश सिंह ने बताया था कि दबंगों ने उसके घर में आग लगाई है। कुछ नकाबपोश लोग उसके घर में घुसे थे और पहले मारपीट की उसके बाद आग लगा दी। आग लगाए जाने के बाद बेडरूम और किचन का हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया और दीवार टूट कर गिर गई।

घटना के समय पत्रकार राकेश सिंह की पत्नी अपनी दो बेटियों के साथ मायके गई हुई थीं। इस भीषण हादसे में कई रहस्यों से अभी पर्दा उठना बाकी है। पुलिस तहकीकात में जुटी है लेकिन कई ऐसे साक्ष्य हैं जो गंभीर घटना की ओर इशारा करते हैं। मौके पर मौजूद सीओ सिटी राधा रमण सिंह ने बताया कि पुलिस तथ्यों के आधार पर छानबीन कर रही है। फॉरेंसिक टीम भी लगाई गई है और यह घटना कैसे हुई इसको लेकर छानबीन की जा रही है।

वहीं पत्रकार राकेश सिंह की मौत पर इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स के वाइस प्रेसीडेंट हेमंत तिवारी ने दुख जताते हुए प्रदेश की योगी सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

तिवारी ने कहा कि बलरामपुर जिले में तैनात अधिकारियों की नाक के नीचे बीते काफी समय से पत्रकारों का उत्पीड़न और उन पर हमले होते रहे हैं पर सरकार ने कोई एक्शन नहीं लिया। बलरामपुर जिले में लंबे समय से तैनात जिलाधिकारी ने न केवल पत्रकार की सुरक्षा की मांग की अनदेखी की बल्कि कई पत्रकारों पर मुकदमे दर्ज कराया।

उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी से दिवंगत पत्रकार ने अपनी हत्या की आशंका भी जताई थी। राकेश ने कई पत्रकारों की मौजूदगी में डीएम से कहा था कि उन पर हमला हो सकता है तो जवाब मिला था कि अरे, आप पर कौन हमला करेगा।

उन्होंने कहा कि बलरामपुर मे पत्रकार के घर पर दबंगों ने हमला बोल कर आग लगा दी जिसमें एक व्यक्ति की मौके पर जलकर मौत हो गई। बुरी तरह से जले पत्रकार राकेश सिंह की लखनऊ ट्रामा सेंटर में मौत हो गई।

Next Story

विविध

Share it