Top
उत्तर प्रदेश

अमेठी में जमीन संबंधी मामले की नहीं हुई सुनवाई तो लखनऊ पहुंच कर मुख्यमंत्री कार्यालय के सामने मां-बेटी ने किया आत्मदाह

Janjwar Desk
17 July 2020 1:15 PM GMT
अमेठी में जमीन संबंधी मामले की नहीं हुई सुनवाई तो लखनऊ पहुंच कर मुख्यमंत्री कार्यालय के सामने मां-बेटी ने किया आत्मदाह
x
लखनऊ में मुख्यमंत्री कार्यालय के सामने आत्मदाह की घटना के बाद अफरा-तफरी मच गई...

जनज्वार। उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में मुख्यमंत्री कार्यालय लोक भवन के गेट नंबर तीन पर दो महिलाओं ने शुक्रवार (17 july 2020) को आत्मदाह कर लिया। इससे दोनों बुरी तरह झुलस गईं। दो में एक महिला की हालत गंभीर है।

दोनों महिलाएं अमेठी की रहने वाली हैं और जमीन संबंधी शिकायत की सुनवाई नहीं होने से परेशान हैं। जिला स्तर पर उनके मामले की सुनवाई नहीं हुई तो वे राजधानी पहुंचीं। जानकारी के अनुसार, महिलाओं ने मिट्टी का तेल छिड़क कर खुद को आग लगा ली। इसके बाद मौके पर अफरा-तफरी मच गई।

आत्मदाह करने वाली दोनों महिलाएं मां-बेटी हैं। मां की हालत अधिक गंभीर है और एक अस्पताल में दोनों का इलाज चल रहा है।

इस मामले में एसीपी हजरगंज अभय कुमार मिश्र ने कहा है कि बापू भवन के पास मां-बेटी ने खुद पर मिट्टी तेल छिड़क लिया और और दोनों टहलते हुए लोकभवन के पास आ गईं, जहां उन्होंने खुद को आग लगा लिया। मौके पर मौजूद पुलिस ने आग पर नियंत्रण पाया और दोनों को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। एसीपी के अनुसार, मां-बेटी अमेठी के जामो थाना क्षेत्र की रहने वाली हैं। उनका नाम सोफिया और गुड़िया है। गुड़िया आग से मामूली रूप से झुलसी हैं।

दिन का वक्त होने के कारण सड़क पर ट्रैफिक भी था और आग पूरे शरीर में फैल जाने के कारण दोनों महिलाएं बेचैनी से इधर-उधर दौड़ने लगीं। मौके पर मौजूद एक टीवी रिपोर्टर ने आग लगा चुकी महिलाओं को बचाने में मदद की।

वहीं, राज्य के चर्चित रिटायर्ड आइएएस सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट किया कि जिला प्रशासन से परेशान होकर महिला ने लोकभवन के सामने आत्मदाह करने का प्रयास किया। अब उसके ऊपर आत्मदाह कर मुख्यमंत्री की छवि खराब करने के जुर्म में एफआइआर दर्ज कर दी जाएगी, पर असल गुनहगार पर कार्यवाही नहीं होगी। यही है आज का उत्तरप्रदेश।

Next Story

विविध

Share it