Begin typing your search above and press return to search.
उत्तराखंड

Uttarkashi Avalanche: उत्तरकाशी में हुए हिमस्खलन में 10 पर्वतारोहियों की मौत, 24 अभी भी लापता, 22 सितंबर से चल रहा था प्रशिक्षण

Janjwar Desk
4 Oct 2022 12:51 PM GMT
Uttarkashi Avalanche: उत्तरकाशी में हुए हिमस्खलन में 10 पर्वतारोहियों की मौत, 24 अभी भी लापता, 22 सितंबर से चल रहा था प्रशिक्षण
x

Uttarkashi Avalanche: उत्तरकाशी में हुए हिमस्खलन में 10 पर्वतारोहियों की मौत, 24 अभी भी लापता, 22 सितंबर से चल रहा था प्रशिक्षण

Uttarkashi Avalanche: उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में डोकरानी बामक ग्लेशियर में मंगलवार को हुए हिमस्खलन (एवलांच) में अभी तक दस लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। 24 पर्वतारोही इस हिमस्खलन की चपेट में आकर अभी और 24 पर्वतारोही लापता हैं।

Uttarkashi Avalanche: उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में डोकरानी बामक ग्लेशियर में मंगलवार को हुए हिमस्खलन (एवलांच) में अभी तक दस लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। 24 पर्वतारोही इस हिमस्खलन की चपेट में आकर अभी और 24 पर्वतारोही लापता हैं। एवलांच की चपेट में आने वाले सभी पर्वतारोही नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) के प्रशिक्षण के लिए यहां मौजूद थे।

नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) के प्राचार्य कर्नल अमित बिष्ट ने बताया कि 'निम' के 34 प्रशिक्षु पर्वतारोहियों और सात प्रशिक्षकों की एक टीम वापस आते समय हिमस्खलन में फंस गई। उन्होंने कहा कि दस शव दिखे हैं जिनमें से चार को बरामद कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि हिमस्खलन सुबह 8.45 बजे हुआ। जबकि डीआईजी एसडीआरएफ रिद्धिम अग्रवाल ने बताया कि एयरफोर्स से शासन ने संपर्क किया है। तीन हेलीकॉप्टर पूरे क्षेत्र की रेकी करेंगे। एसडीआरएफ कमांडेंट मणिकांत मिश्रा ने बताया कि सहस्त्रधारा हेलीपैड से एसडीआरएफ की पांच टीमें घटनास्थल के लिए रवाना हो गई हैं। तीन टीमों को रिजर्व में रखा गया है। जरूरत पड़ने पर इन टीमों को भी रवाना किया जाएगा।


22 सितंबर से चल रहा था प्रशिक्षण

नेहरु पर्वतारोहण संस्थान निम का डोकरानी बामक ग्लेश्यिर में द्रोपदी डांडा-2 पहाड़ी पर बीते 22 सितंबर से बेसिक/एडवांस का प्रशिक्षण चल रहा था। जिसमें बेसिक प्रशिक्षण 97 प्रशिक्षार्थी, 24 प्रशिक्षक व निम के एक अधिकारी समेत कुल 122 लोग शामिल थे। जबकि एडवांस कोर्स में 44 प्रशिक्षणार्थी व नौ प्रशिक्षक समेत कुल 53 लोग शमिल थे।

जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि फंसे लोगों को निकालने के लिए निम द्वारा रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है। घटना स्थल पर निम के पास दो सेटेलाइट फोन मौजूद हैं। रेस्क्यू अभियान के लिए निम के अधिकारियों के साथ निरन्तर समन्वय किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने केंद्र से लगाई गुहार

प्रदेश के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने हिमस्खलन की चपेट में आए पर्वतारोहियों के बचाव के लिए रक्षा मंत्री से मदद मांगी है। धामी ने ट्वीट पर जानकारी दी कि उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से इस मामले में बात की है। उन्होंने लिखा कि रेस्क्यू अभियान में तेजी लाने के लिए सेना की मदद लेने के लिए अनुरोध किया गया है, जिसको लेकर उन्होंने हमें केंद्र सरकार की ओर से हर संभव सहायता देने के लिए आश्वस्त किया है।

Janjwar Desk

Janjwar Desk

    Next Story