समाज

सोनभद्र जिले में मिला सोने का विशाल भंडार, जमीन के अंदर है 3000 टन सोना

Janjwar Team
20 Feb 2020 1:18 PM GMT
सोनभद्र जिले में मिला सोने का विशाल भंडार, जमीन के अंदर है 3000 टन सोना
x

सोनभद्र जिले के सोन पहाड़ी में 2943.25 टन व हरदी क्षेत्र में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार मिला है। 2005 में जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) की टीम ने अध्यन करके सोनभद्र में सोना होने की बात कही थी, जिसके बाद से इसे पता लगाने को लेकर काम हो रहा था...

सोनभद्र से पवन जायसवाल की रिपोर्ट

जनज्वार। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में सोने का विशाल भंडार मिला है। जमीन के अंदर 3000 टन सोना मिला है जिसे निकालने का काम जल्द ही शुरू किया जायेगा। भूतत्व एवं खनिज निदेशालय ने भी इसकी पुष्टि कर दी है। 22 फरवरी तक इस संबंध में रिपोर्ट जिओ टैगिंग करके लखनऊ सौंपी जायेगी।

सोनभद्र जिले के सोन पहाड़ी में 2943.25 टन व हरदी क्षेत्र में 646.15 किलोग्राम सोने का भंडार मिला है। 2005 में जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) की टीम ने अध्यन करके सोनभद्र में सोना होने की बात कही थी, जिसके बाद से इसे पता लगाने को लेकर काम हो रहा था। सोना मिलने के बाद यूपी सरकार ने अब सोने के ब्लॉक के आवंटन के संबंध में प्रक्रिया शुरू कर दी है।

संबंधित खबर : यूपी के सोनभद्र में सरकारी स्कूल का रखा गया जातिसूचक नाम, भीम आर्मी ने दी चेतावनी

-टेंडरिंग के माध्यम से ब्लॉकों के नीलामी के लिए शासन ने सात सदस्यीय टीम भी गठित कर दी है। यही टीम पूरे क्षेत्र की जिओ टैगिंग करेगी और 22 फरवरी को अपनी रिपोर्ट भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशालय लखनऊ को सौंपेगी। जिले के खनिज अधिकारी के अनुसार जिले में यूरेनियम के भी भंडार होने की संभावना है जिसकी तलाश की जा रही है।

जिस पहाड़ी में सोना पत्थर मिलने की पुष्टि हुई है, उसके सीमांकन के लिए गुरुवार को विजय कुमार मौर्य खनिकर्म प्रभारी अधिकारी सोनभद्र की अगुवाई में नौ सदस्यीय टीम जंगल में पहुंची और सीमांकन की प्रक्रिया शुरू किए जाने को लेकर वन विभाग के अधिकारियों से बात की।

मौके पर मौजूद प्रभारी अधिकारी ने कहा कि पहाड़ी में 646 किलो सोना मिलने का अनुमान डीजीएम लखनऊ द्वारा बताया गया है। जिसकी ई टेंडरिंग के लिए वन विभाग व राजस्व विभाग के संयुक्त सहयोग से सीमाकंन का कार्य किया जा रहा है।

टीम में शामिल एक अधिकारी के मुताबिक अभी यह सीमांकन किया जाएगा कि जमीन वन विभाग की है या राजस्व व भूमिधरी है। इसके बाद सोने के खनन के लिए संबंधित भूमि का सीमांकन कर ई टेंडरिंग की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। इसके बाद खनन शुरू होने की संभावना है।

हीं क्षेत्र के आसपास की पहाड़ियों में लगातार 15 दिनों से हेलीकॉप्टर द्वारा हवाई सर्वे भी किया जा रहा है। बताया जा रहा हवाई सर्वे के माध्यम से यूरेनियम होने का भी पता लगाया जा रहा है। इसकी प्रबल संभावना बताई जा रही है।

Next Story

विविध

Share it