Top
शिक्षा

JNU में ABVP कार्यकर्ताओं पर छात्र को पीटने का आरोप, धमकाते हुए बोले नजीब की तरह करवा देंगे गायब

Nirmal kant
21 Jan 2020 8:50 AM GMT
JNU में ABVP कार्यकर्ताओं पर छात्र को पीटने का आरोप, धमकाते हुए बोले नजीब की तरह करवा देंगे गायब

जेएनयू में एबीवीपी से जुड़े तीन छात्रों ने कथित तौर पर छात्र राघिब अकरम को पीटा, घायल सफदरजंग अस्पताल में भर्ती, हमलावरों ने पीड़ित को भाई को भी दी जान से मारने की धमकी...

जनज्वार। दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में एबीवीपी के हमले को हुए 14 दिन भी हुए थे कि जेएनयू में हिंसा का एक और मामला सामने आया है। नर्मदा छात्रावास में रहने वाले राघिब अकरम को एबीवीपी के तीन छात्रों ने कथित तौर पर बुरी तरह पीट दिया। इसके बाद छात्र को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं दूसरी ओर केरल के एसवीआरएनएसएस वज्हूर कॉलेज में एसएफआई के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर एवीबीपी के कार्यकर्ताओं पर हमला किया।

जेएनयू में हुए हमले को लेकर पीड़ित छात्र के भाई राकिब इकराम व उसके रुममेट का कहना है कि जब हमलावरों ने हमला किया तब वह धमकी दे रहे थे कि राघिब अकरम मुस्लिम है और उसे भी नजीब की तरह गायब कर दिया जाएगा।इकराम ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि हमलावरों ने मेरे भाई के सीने और सिर पर हमला किया और उसे थप्पड़ भी मारे। उन्होंने मेरे भाई जान से मारने की धमकी भी दी है।

संबंधित खबर : जेएनयू हिंसा के वक्त दिल्ली पुलिस के पास आयी थीं 11 शिकायतें, मगर बजाय कार्रवाई के फॉरवर्ड कर दिया SIT के पास

राकिब का कहना है कि जिस दौरान वह अपने भाई को अस्पताल ले जा रहे थे तो उन्होंने हमलावरों के हॉस्टल के दरवाजे पर एबीवीपी का पोस्टर लगा हुआ देखा था। वहीं इस मामले पर 5 जनवरी को हुए जेएनयू हमले की पीड़िता जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइशी घोष ने फेसबुक पर प्रतिक्रिया दी हैं।

घोष ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा, 'जेएनयू में हमले को 14 दिन बीत गए हैं। अभी तक एक भी गिरफ्तार नहीं किया गया है। देखिए चल क्या रहा है। आज एबीवीपी से जुड़े छात्रों ने विश्वविद्यालय के एक छात्र को दोबारा पीटा। वे नर्मदा छात्रावास में घुसे और उसके साथ मारपीट की। छात्रावास के सीनियर वार्डन, प्रोक्टर को इन गुंडों पर तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए।'

हालांकि इस मामले पर जनज्वार से बात करते हुए जेएनयू एबीवीपी के पूर्व अध्यक्ष ललित पांडेय का कहना है कि नर्मदा छात्रावास में हुई मारपीट को लेकर जो आरोप एबीवीपी के ऊपर लगाए गए हैं वो पूरी तरह से गलत हैं। छात्रावास में हुई लड़ाई को लेकर उनका कहना था कि ये लड़ाई दो छात्रों के बीच हुई थी। इसमें कोई भी छात्र एबीवीपी से जुड़ा हुआ नहीं था। लेफ्ट के द्वारा जो आरोप हमारे ऊपर लगाए जा रहे हैं वो पूरी तरह से गलत हैं। एबीवीपी ऐसी किसी भी तरह की घटना जो छात्रों के खिलाफ की जाती है उसकी निंदा करता है।

संबंधित खबर : जेएनयू के समर्थन में आया बॉलीवुड : बोले बंद करो ‘सबकुछ ठीक’ दिखाना, सच्चाई से आंखें मिलाओ

वहीं इस बीच केरल में भी छात्रों पर हमले की खबर सामने आयी है। केरल के कोट्टयम में स्थित एसवीआरएनएसएस वज्हूर कॉलेज में एसएफआई के छात्रों ने कथित तौर एबीवीपी के छात्रों पर कथित तौर पर हमला कर दिया। घायलों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

हमले पर एबीवीपी का कहना है कि कल (रविवार) आयोजित एबीवीपी की कॉलेज इकाई के सम्मेलन में छात्रों की जबरदस्त प्रतिक्रिया से एसएफआई के गुंडे हड़बड़ा गए है। एसएफआई के गुंडों ने एबीवीपी द्वारा आयोजित सम्मेलनों और कार्यक्रमों मे अन्य छात्रों के भाग लेने से रोकने के लिए आज सुबह एबीवीपी के कार्यकर्ताओं पर हमला किया। एसएफआई के लोगों के द्वारा काफी लंबे समय से कैंपस में तनाव पैदा करने की कोशिश की जा रही है।

Next Story

विविध

Share it