Top
चुनावी पड़ताल 2019

लोकसभा चुनाव जीतने के लिए बीजेपी खर्च करेगी 90,000 हजार करोड़ : प्रशांत भूषण

Prema Negi
31 March 2019 6:44 AM GMT
लोकसभा चुनाव जीतने के लिए बीजेपी खर्च करेगी 90,000 हजार करोड़ : प्रशांत भूषण
x

file photo

प्रशांत भूषण ने यह दावा कर राजनीतिक हलकों में हलचल ला दी है कि भाजपा अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए चुनाव में 90,000 हजार करोड़ का भारी-भरकम बजट खर्च करेगी

जनज्वार। सर्वोच्च न्यायालय के प्रसिद्ध वकील, सामाजिक कार्यकर्ता और स्वराज अभियान के अध्यक्ष प्रशांत भूषण ने कल 30 मार्च को एक बातचीत के दौरान कहा कि आम चुनाव-2019 में भाजपा 90,000 करोड़ रुपये का भारी भरकम बजट खर्च करेगी।

गौरतलब है कि इससे पहले भी भ्रष्टाचार के विरोध में आवाज उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण भाजपा सरकार को निशाने पर लेते रहे हैं। राफेल में हुए भ्रष्टाचार पर उन्होंने मोदी सरकार को घेरते हुए कहा था कि भाजपा ने केवल सौदे में अनिल अम्बानी की कंपनी को जगह देने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया और भारतीय वायु सेना को ‘बेबस’ छोड़ दिया।

अब इस बार प्रशांत भूषण ने यह दावा कर राजनीतिक हलकों में हलचल ला दी है कि भाजपा जीत के लिए चुनाव में 1 लाख करोड़ का भारी-भरकम बजट खर्च करेगी।

संबंधित खबर : प्रशांत भूषण से जानिए अंबानी की खातिर राफेल डील में मोदी सरकार ने कैसे निभाई दलाल की भूमिका

सामाजिक-राजनीतिक संगठन स्वराज अभियान द्वारा जारी घोषणापत्र 'रिक्लेमिंग द रिपब्लिक' पर एक व्याख्यान देते हुए प्रशांत भूषण ने कहा "अनुमान है कि लोकसभा चुनाव-2019 में एक लाख करोड़ रुपये खर्च होंगे, जिसका 90 फीसदी हिस्सा भाजपा खर्च करेगी।"

प्रशांत भूषण ने कहा, 'अफसोस है कि लोकतंत्र और चुनाव धन का बंधक बन चुका है। पूरी चुनाव प्रणाली धन पर आश्रित हो गई है और राजनीतिक दलों के खर्च की कोई सीमा नहीं है। चुनाव की फंडिंग में पारदर्शिता लाने के लिए प्रबल चुनाव सुधार की सख्त जरूरत है।'

उन्होंने कहा, 'दुनियाभर के किसी भी राष्ट्र में चुनावी बांड जैसा अपारदर्शी उपकरण नहीं है, लेकिन हमारे देश में है, जहां कॉरपोरेट और विदेशी कंपनियां गुप्त लेकिन कानूनी तरीके से किसी भी पार्टी को पैसे भेज सकती हैं।"

राफेल डील पर भी प्रशांत भूषण ने दावा किया था कि राफेल विमान सौदा इतना बड़ा घोटाला है जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। बोफोर्स 64 करोड़ रुपये का घोटाला था, जिसमें चार प्रतिशत कमीशन दिया गया था। इस घोटाले में कमीशन कम से कम 30 प्रतिशत है। अनिल अम्बानी को दिए गए 21,000 करोड़ रुपये केवल कमीशन के हैं, कुछ और नहीं।

संबंधित खबर : प्रशांत भूषण ने किया दावा, राफेल डील इतना बड़ा घोटाला जिसकी नहीं की जा सकती कल्पना भी

राफेल डील फेल डील के भ्रष्टाचार को तथ्यगत, तार्किक और सिलसिलेवार ढंग से रखते हुए हुए प्रशांत भूषण ने बताया था कि कैसे देश की जनता के लिए बनी मोदी सरकार अंबानी के जेब की चीज बन गयी है और देश की संपत्ति का अरबों रुपया सिर्फ इसलिए बर्बाद कर रही है कि प्रधानमंत्री मोदी के सबसे नजदीकी अंबानी घराने को फायदा हो।

Next Story

विविध

Share it