समाज

महिलाओं के साथ छिनैती में जयपुर नंबर वन

Janjwar Team
15 Feb 2018 12:38 PM GMT
महिलाओं के साथ छिनैती में जयपुर नंबर वन
x

राजस्थान गृह मंत्रालय ने दिया आंकड़ा जयपुर है सबसे असुरक्षित महिलाओं के लिए, हालांकि भरतपुर, सवाई माधोपुर, जोधपुर, बारमेड़ और बारन में भी महिला अपराधों में भारी बढ़ोत्तरी...

जयपुर। राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने एक आंकड़ा पेश करते हुए कहा कि राज्य में महिला अपराधों में वर्ष 2013 से 2017 के बीच यानी चार सालों के अंदर 12 फीसदी की कमी आई है। साथ ही यह भी कहा कि चूंकि राज्यभर में ज्यादातर पुलिस स्टेशनों में महिला डेस्क की स्थापना होने के कारण यह अपराध कम हो पाया है।

मगर भरतपुर, सवाई माधोपुर, जोधपुर, बारमेड़ और बारन में इस समयावधि में अपराधों में भारी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। यहां महिलाओं के खिलाफ हिंसक घटनाएं और ज्यादा बढ़ी हैं। रिकॉर्डों में महिला अपराधमुक्ति की तरफ बढ़ते प्रदेश में जयपुर महिलाओं के लिए सबसे ज्यादा असुरक्षित होता जा रहा है।

जयपुर में महिलाएं लगातार असुरक्षित होती जा रही हैं, यह आंकड़ा भी राजस्थान विधानसभा में ही मिला। राजस्थान विधानसभा में भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा द्वारा पूछे गए सवाल के जवाब में गृह मंत्रालय द्वारा जानकारी दी गई कि जयपुर में महिलाओं के साथ लूट के सबसे अधिक मामले प्रकाश में आये हैं।

गौरतलब है कि जयपुर उस प्रदेश की राजधानी है जहां का प्रतिनिधित्व एक महिला ही कर रही हैं। राज्य में भाजपानीत वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री हैं। उम्मीद तो यह की जाती है कि एक महिला के राज में महिलाओं के साथ होने वाली हिंसा, छिनैती, डकैती की घटनाओं में कमी दर्ज की जाएगी, मगर यहां मामला उल्टा ही नजर आ रहा है। पहले के मुकाबले जयपुर की महिलाएं ज्यादा असुरक्षित हुई हैं।

वर्ष 2014 से जनवरी 2018 तक 742 महिलाओं के साथ जयपुर में लूट के मामले दर्ज किए गए हैं। ये तो सिर्फ वो मामले हैं जो पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज हैं, बाकी भारी संख्या में वो मामले भी हैं, जिन्हें कहीं दर्ज ही नहीं किया गया है।

भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा द्वारा पूछे गये सवाल के लिखित जवाब में गृह मंत्रालय ने बताया कि एक जनवरी 2014 से 31 जनवरी 2018 तक 42 पुलिस जिलों में महिलाओं के साथ नकदी, मोबाइल, आभूषण लूट के 1931 मामले दर्ज हुए हैं।

जयपुर के जयपुर पूर्व में सबसे अधिक 233 छिनैती की घटनाएं, जयपुर पश्चिम में 220, जयपुर दक्षिण में 197 और जयपुर ग्रामीण में 49, जयपुर उत्तर में 43 मामले रिकॉर्ड किए गए। कोटा शहर में महिलाओं के साथ लूट के 121, अजमेर में 112 और उदयपुर में 100 मामले दर्ज हैं।

महिलाओं के साथ लूट के दर्ज कुल 1931 मामलों में से 832 मामलों में सामान जब्त किया गया, तो 1835 मामलों में आरोपियों को गिरफ्तार किया गया।

Next Story

विविध