Top
राजनीति

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता का उपचार करने वाले डॉक्टर की संदिग्ध मौत, कल है इस मामले की सुनवाई

Prema Negi
13 Jan 2020 11:08 AM GMT
उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता का उपचार करने वाले डॉक्टर की संदिग्ध मौत, कल है इस मामले की सुनवाई
x

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता को बुरी तरह मारने-पीटने के बाद जिला अस्पताल लाया गया था, तब डॉक्टर प्रशांत ही इमरजेंसी में थे। इन्होंने ही पीड़िता के पिता को उपचार के बाद जेल भेजा था, जेल में हुई थी पीड़िता के पिता की संदिग्ध हालात में मौत...

जनज्वार। उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता का इलाज करने वाले डॉक्टर प्रशांत उपाध्याय की संदिग्ध स्थितियों में मौत हो गयी है।

गौरतलब है कि डॉक्टर प्रशांत उपाध्याय वही डॉक्टर हैं, जिन्होंने उन्नाव गैंगरेप केस की पीड़िता के पिता का इलाज किया था। जब पीड़िता के पिता को बुरी तरह मारने-पीटने के बाद जिला अस्पताल लाया गया था, तब डॉक्टर प्रशांत ही इमरजेंसी में थे। इन्होंने ही पीड़िता के पिता को उपचार के बाद जेल भेजा था। बाद में जेल में ही पीड़िता के पिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी थी।

भाजपा के निष्कासित विधायक सेंगर ने नाबालिग के साथ 2017 में बलात्कार किया था, जिसके लिए अब वह सलाखों के पीछे है। जब उन्नाव रेप पीड़िता की शिकायत पुलिस में दर्ज हुई थी तो उसी दौरान उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव डाला गया था। इसी कड़ी में उसके पिता को पुलिस ने बेबुनियाद आधार पर थाने में प्रताड़ित किया, जहां से बहुत बुरी हालत में उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां उनका इलाज डॉक्टर प्रशांत उपाध्याय ने किया था। अब उन्हीं प्रशांत उपाध्याय की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गयी है।

यह भी पढ़ें : बीजेपी एमएलए द्वारा बलत्कृत महिला के पिता की संदिग्ध हालत में मौत, कल किया था योगी आवास के सामने आत्मदाह का प्रयास

न्नाव मामला मीडिया में आने के बाद जब इस केस की सीबीआई जांच शुरू हुई तो डॉक्टर प्रशांत उपाध्याय को भी सस्पेंड कर दिया गया था। बाद में काफी समय बाद इनकी पुनर्बहाली हुई थी। इस दिनों प्रशांत उपाध्याय फतेहपुर में तैनात थे। तैनाती के दौरान ही आज 13 जनवरी को संदिग्ध परिस्थितियों में उनकी डॉक्टर की मौत हो गई है।

स मामले में एक बात और भी गौर करने वाली है कि कल 14 जनवरी को उन्नाव केस से जुड़े मामले में तीस हजारी कोर्ट में सुनवाई होनी है। ऐसे में सवाल उठने शुरू हो गये हैं कि कहीं प्रशांत उपाध्याय कोई ऐसा खुलासा करने वाले तो नहीं थे, जिससे सेंगर की मुश्किलें और बढ़तीं, और इसीलिए तो उन्हें ठिकाने न लगा दिया गया हो।

बीजेपी के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को 2017 के उन्नाव दुष्कर्म मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई जा चुकी है। कोर्ट ने सेंगर पर 25 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है, जिसमें से 10 लाख रुपये पीड़िता को दिए जाने हैं और 15 लाख रुपये अभियोजन को मिलेंगे। पीड़िता और उसके परिवार को पहले ही एक साल के लिए घर मुहैया कराया गया है।

हालांकि प्रशांत उपाध्याय की मौत के बाद जारी रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि डॉ. प्रशांत उपाध्याय शुगर के मरीज थे।

Next Story

विविध

Share it