Top
समाज

133 करोड़ के देश में सिर्फ 500 लोग करते हैं हर साल अंतर्जातीय विवाह

Janjwar Team
5 Feb 2020 6:28 AM GMT
133 करोड़ के देश में सिर्फ 500 लोग करते हैं हर साल अंतर्जातीय विवाह
x

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक डॉ. वेदप्रताप वैदिक बता रहे हैं सरकार को करने होंगे कौन से वो 7 काम जिनसे होगा जातीय व्यवस्था का खात्मा

जनज्वार। अंतरजातीय विवाहों को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार ढाई लाख रुपए का अनुदान देती है यानी यह पैसा उनको मिलता है, जो अनुसूचित जाति या वर्ग के वर या वधू से शादी करते हैं लेकिन खुद होते हैं, सामान्य वर्ग के। सामान्य का अर्थ यहां ऊंची जाति ही है। यानी ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य! इनमें तथाकथित पिछड़े भी शामिल हैं। इस अनुदान-राशि के बावजूद देश में हर साल 500 शादियां भी नहीं होतीं।

वा अरब लोगों के देश की इस हालत को ऊंट के मुंह में जीरा नहीं तो क्या कहेंगे? इसका एक कारण सरकार ने अभी-अभी खोज निकाला है। वह यह है कि यह अनुदान राशि उन्हीं जोड़ों को मिलती है, जो अपना रजिस्ट्रेशन ‘हिंदू मेरिज एक्ट’ के तहत करवाते हैं। आर्यसमाज आदि में हुई शादियों को यह मान्यता नहीं है। अब उन्हें मान्य कर लिया जाएगा। यह अच्छा है, सराहनीय है लेकिन इससे भी कौन सा किला फतह होने वाला है?

यह भी पढ़ें : महाराष्ट्र सरकार बनाएगी ऐसा कानून कि दूसरी जाति और धर्म में शादी करने वालों की हो सके सुरक्षा

क्या देश के आर्यसमाजों में हर साल हजारों-लाखों शादियां होती हैं? देश की जातीय-व्यवस्था में परिवर्तन तभी होगा, जबकि प्रतिवर्ष लाखों शादियां अंतर्जातीय हों, लेकिन इस मामले में हमारे नेता लोग ठन-ठन गोपाल हैं, शून्य हैं, बिल्कुल अकर्मण्य हैं। जो उन्हें करना चाहिए, वह वे बिल्कुल नहीं करते।

बसे पहले नौकरियों से जातीय आरक्षण खत्म करना चाहिए।

दूसरा, जातीय आधार पर चुनावी उम्मीदवार तय नहीं करना चाहिए। तीसरा, जातीय नाम या उपनाम रखने वाले को चुनावी टिकिट नहीं देना चाहिए।

चौथा, लोगों से आग्रह करना चाहिए कि वे जातीय उपनाम रखना बंद करें।

पांचवां, किसी भी सरकारी कर्मचारी द्वारा जाति या उप-जातिसूचक नाम रखने पर प्रतिबंध होना चाहिए।

ठा, संगठनों, धर्मशालाओं, अस्पतालों और मोहल्लों के जातिसूचक नाम बंद होने चाहिए।

सातवां, सबसे बड़ा काम यह है कि मानसिक श्रम और शारीरिक श्रम का भेद मिटना चाहिए। कुर्सीतोड़ और कमरतोड़ कामों के मुआवजे में अधिक से अधिक 1 और 10 का अनुपात होना चाहिए।

दियों से चली आ रही इस रुढ़ि ने ही देश में ऊंची और नीची जातियों का भेदभाव खड़ा किया है। क्या सिर्फ़ ढाई लाख रुपए के लालच में ही अंतरजातीय विवाह हो जाएँगे? हां, इनसे उनकी मदद जरूर हो जाएगी।

Next Story

विविध

Share it