Top
विमर्श

जल संकट के चलते 10 सालों में हिंसा हुई दुगुनी, भारत में 31 लोगों को गंवानी पड़ी जान

Prema Negi
2 Jan 2020 5:28 PM GMT
जल संकट के चलते 10 सालों में हिंसा हुई दुगुनी, भारत में 31 लोगों को गंवानी पड़ी जान
x

देश में जून 2017 में पानी की कमी के लिए आन्दोलन करते 5 किसान पुलिस की गोली से मारे गए थे, इस वर्ष भी गर्मियों में जब पूरा देश पानी की समस्या से जूझ रहा था, तब भी पानी के लिए आपसी मारपीट और हत्या की खबरें आईं...

महेंद्र पाण्डेय की टिप्पणी

गभग दो दशक पहले से यह आशंका जताई जा रही है कि अगला विश्वयुद्ध पानी के कारण होगा। विश्वयुद्ध तो अब तक नहीं हुआ, पर एक नयी रिपोर्ट के अनुसार पानी के कारण हिंसा पिछले दशक (2010 से 2019) में इसके पीछे के दशक की तुलना में दुगुने से अधिक हो चुकी हैं।

स रिपोर्ट को अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया में स्थित पैसिफ़िक इंस्टिट्यूट ने प्रकाशित किया है, जो दुनियाभर में पानी से सम्बंधित प्रकाशित विवादों का लेखा—जोखा रखता है। इस रिपोर्ट में भारत में साल दर साल बढ़ते पानी से सम्बंधित विवादों और हिंसा का विशेष तौर पर जिक्र है।

मृदु पानी की घटती उपलब्धता, बेतहाशा बढ़ती जनसंख्या, जल संसाधनों का अवैज्ञानिक उपयोग और बदलते जलवायु और तापमान वृद्धि के कारण जल संसाधनों पर प्रभाव के कारण पानी पर असर पड़ रहा है। पैसिफिक इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष पीटर ग्लिक के अनुसार, पानी सबके लिए जरूरी है और धीरे-धीरे इसकी उपलब्धता कम होती जा रही है, इसलिए लोग अपनी मौलिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं।

पैसिफिक इंस्टीट्यूट 1980 के दशक से पानी से सम्बंधित हिंसा के प्रकाशित आंकड़े को एकत्रित कर रहा है। इस दशक के आंकड़ों के बारे में यह भी कहा गया कि आज के दौर में सोशल मीडिया के प्रभाव से ऐसे मामले अधिक संख्या में प्रकाशित किये जा रहे हैं, इसलिए इस दशक में पानी से सम्बंधित हिंसा के आंकड़े अधिक हैं। इसके जवाब में पीटर ग्लिक कहते हैं कि, 1990 से 1999 के दशक की तुलना में 2000 से 2009 के दशक में ऐसी हिंसा के मामले कम प्रकाशित किये गए और वह दौर सोशल मीडिया का नहीं था।

पीटर ग्लिक के अनुसार मध्य पूर्व देशों में जहां पानी की भयानक कमी है और सीरिया, लीबिया, येमन और इराक जैसे देश गृह युद्ध की आग में लम्बे समय से झुलस रहे हैं – इन देशों में पानी को हथियार जैसा इस्तेमाल किया जा रहा है। सीरिया में पानी की पाइपलाइन पर अनेक बार विस्फोट किये जा चुके हैं।

क्रेन में भी जून 2019 में होर्लिव्का नामक शहर में पानी की पाइपलाइन पर गोले दागे गए थे, जिससे लगभग 30 लाख लोग प्रभावित हुए थे। भारत में जून 2017 में पानी की कमी के लिए आन्दोलन करते 5 किसान पुलिस की गोली से मारे गए थे। इस वर्ष भी गर्मियों में जब पूरा देश पानी की समस्या से जूझ रहा था, तब भी पानी के लिए आपसी मारपीट और हत्या की खबरें आई थीं।

स वर्ष कुछ राज्यों में पानी के टैंकर सुरक्षाकर्मियों के घेरे में भेजे गए थे, जिससे उन्हें कोई लूट ना ले। इंडोनेशिया के वेस्ट पापुआ नामक शहर में वाटर टैंकरों के दल पर स्वचालित हथियारों से आक्रमण किया गया था। सीरिया में जल संसाधनों में विष मिलाने की वारदातें होतीं हैं।

र्ल्ड रिसोर्स इंस्टीट्यूट के अनुसार दुनिया में भारत समेत 17 देश ऐसे हैं जहां पानी की भयानक कमी है, इनमें से 12 देश मध्य-पूर्व में स्थित हैं। भारत में पिछले दशक के दौरान प्रकाशित खबरों के अनुसार 31 लोग पानी से सम्बंधित हिंसा में मारे गए, जबकि इसके पहले के दशक में केवल 11 ऐसी मौतें हुई थीं।

न आंकड़ों के बीच भारत समेत विश्व के 92 देशों के 1100 से अधिक वैज्ञानिकों ने भू-जल की समस्याओं से दुनिया को आगाह किया है। काल ऑफ़ एक्शन के नाम से संयुक्त राष्ट्र में भेजे गए इस पत्र के अनुसार पूरी दुनिया में भूजल खतरे में है और इसका विवेकहीन इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे नयी समस्याएं उठ खडी होंगी, क्योंकि दुनिया की लगभग दो अरब आबादी इस पर पूरी तरह से निर्भर है, और दुनिया भर में कृषि में जितने पानी का उपयोग किया जाता है, उसमें से 70 प्रतिशत से अधिक का आधार भूजल ही है। अमेरिका में भूजल जितना नीचे पहुँच गया है, उतना नीचे कभी नहीं रहा। इस दल के एक सदस्य आईआईटी खड़गपुर के वैज्ञानिक अभिजित बनर्जी के अनुसार भारत में भी यही हाल है।

र्तमान में विश्व में उपलब्ध मृदु जल के भण्डार में से 99 प्रतिशत भूजल के तौर पर उपलब्ध है। लगभग 15 प्रतिशत नदियाँ और झीलें पूरी तरह से भूजल पर आधारित हैं और अनुमान है कि वर्ष 2050 तक अधिकतर नदियाँ भूजल पर आश्रित होंगी क्योंकि दुनियाभर के ग्लेशियर तेजी से पिघल रहे हैं। ऐसे में यदि भूजल भी उपलब्ध नहीं होगा या फिर प्रदूषित होगा तब मानवता के सामने एक बड़ी समस्या होगी।

जाहिर है, पानी एक बड़ी समस्या बनकर उभर रहा है और इसके चलते हिंसा हो रही है। पानी को हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया जाने लगा है, ऐसे में क्या पानी की इस चुनौती को दुनिया गंभीरता से लेगी या फिर जलवायु परिवर्तन की तरह इस पर केवल चर्चा ही होती रहेगी?

Next Story

विविध

Share it