Top
राजनीति

मोदी के खिलाफ फिर से बोलने लगे केजरीवाल

Janjwar Team
29 Sep 2017 2:21 PM GMT
मोदी के खिलाफ फिर से बोलने लगे केजरीवाल

बिपासना से लौटने के बाद केजरीवाल नई एनर्जी से भरे हुए हैं पर उन्होंने अपनी पुरानी रणनीति में थोड़ा सा बदलाव किया है...

दिल्ली से स्वतंत्र कुमार की रिपोर्ट

दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल ने एक बार फिर से मोदी सरकार पर हमले शुरू कर दिए हैं. अरविन्द केजरीवाल इसी महीने 10 से 19 सितम्बर को मैडिटेशन के लिए बिपासना गए थे. दिल्ली में बवाना विधानसभा उपचुनाव में जीत दर्ज़ करने के बाद अपनी आम आदमी पार्टी की भविष्य की रणनीति बनाने के लिए बिपासना में 10 दिन तक ध्यान मग्न रहने के बाद लौटकर अब फिर से अरविन्द केजरीवाल ने मोदी सरकार पर हमले शुरू कर दिए हैं। इसके बारे में हम आपको इत्मीनान से बताते हैं.

इस बार अरविन्द केजरीवाल ने अपनी रणनीति में थोड़ा बदलाव किया है. इस बार अरविन्द सीधा मोदी को निशाना न बनाकर उनकी सरकार को टारगेट कर रहे हैं। सबसे पहले अरविन्द केजरीवाल ने बीएचयू लड़कियों पर हुए लाठीचार्ज को लेकर भाजपा की यूपी सरकार को घेरने के लिए कई ट्वीट्स किये। इसके बाद कुछ पत्रकारों द्वारा भाजपा की एवीबीपी की कॉलेजो में चुनाव में हार पर ट्वीट्स किये। हालाँकि बीच बीच में एलजी के साथ चलने वाले रोजमर्रा के विवादों को लेकर भी ट्वीट किये। इसके बाद भाजपा की मोदी सरकार के और दिल्ली सरकार को लेकर ट्वीट्स किये।

इसके बाद यशवंत सिन्हा के इंडियन एक्सप्रेस में छपे लेख का हवाला देते हुए अरुण जेटली पर प्रहार किया और इंडियन एक्सप्रेस के उस लेख को भी शेयर किया। इसके बाद मोदी सरकार की खिल्ली उड़ाते हुए एक पत्रकार के मोदिआबिंद नाम के वीडियो को शेयर किया।

इसके बाद केजरीवाल ने जीएसटी पर अपनी ही एमएलए अलका लांबा द्वारा किये गए ट्वीट को शेयर किया, जिसमें लिखा था कमल का फूल हमारी भूल. इसके बाद यशवंत सिन्हा द्वारा मीडिया में मोदी सरकार के खिलाफ दिए गए इंटरव्यू को अरविन्द केजरीवाल ने शेयर किया। गोदी मीडिया बताने वाले एक मीडियाकर्मी द्वारा मोदी को लिखा गया एक पत्र केजरीवाल ने अपने ट्वीटर अकाउंट से शेयर किया। इस पत्रकार ने अपने पत्र में मोदी पर खूब भड़ास निकाली हुई थी.

दरअसल अब अरविन्द ने अपनी रणनीति में बदलाव कर दिया है। अब वे सीधा मोदी पर अटैक नहीं कर रहे, बल्कि मोदी सरकार की खामियों पर अटैक कर रहे हैं. अरविन्द को समझ आ गया है कि सीधा मोदी पर हमला बैक फायर कर जाता है. इसलिए वो पीएम मोदी पर सीधा हमले करने से बच रहे हैं.

हालाँकि पहले इसी साल फरवरी में हुए पंजाब के विधानसभा चुनाव और अप्रैल में दिल्ली में हुए नगर निगम के चुनाव में मिली बुरी हार के बाद अरविन्द केजरीवाल के मुँह पर ताला लग गया था और केजरीवाल बिलकुल भी मोदी या मोदी सरकार को लकेर बात नहीं करते थे. बल्कि एक कार्यक्रम में कुछ लोगों ने पूछ लिया था केजरीवाल जी! आप आजकल मोदी के खिलाफ कुछ नहीं बोलते हैं तो अरविन्द ने बड़े चिढ़ते अंदाज़ में कहा था कि जब मैं बोलता हूँ तब परेशानी, जब नहीं बोलता तब परेशानी।

अब देखना होगा कि गुजरात के दौरे पर चुनावी सभा में केजरीवाल मोदी पर सीधा हमला करेंगे या नहीं। आम आदमी पार्टी ने गुजरात में चुनाव लड़ने की तैयारी कर ली है. इसलिए अब मोदी और केजरीवाल की जंग गुजरात चुनाव के दौरान देखने को मिल सकती है.

Next Story

विविध

Share it