Top
शिक्षा

'देशविरोधी' गतिविधियों में न हों शामिल, आईआईटी बॉम्बे का हॉस्टल में रहने वाले छात्रों को नया फरमान

Nirmal kant
30 Jan 2020 8:37 AM GMT

जनज्वार। आईआईटी बॉम्बे ने ईमेल के जरिए हॉस्टल के छात्रों को नया फरमान जारी किया है। आईआईटी बॉम्बे के डीन ऑफ स्टुडेंट अफेयर्स ने 28 जनवरी को हॉस्टल नियमों को लेकर छात्रों को ईमेल किया। इसमें कहा गया है कि आईआईटी बॉम्बे में रहने वाले किसी भी देश विरोधी, समाज विरोधी या फिर किसी भी अवांछित गतिविधि में हिस्सा ने लें।

मेल में 15 नियमों के साथ छात्रों को चेताया गया है। हालांकि इस ई-मेल में यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि उन्होंने ये नियम क्यों जारी किए। ये नोटिस ऐसे वक्त में आया है जब मुंबई समेत देशभर में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर प्रदर्शन हो रहे हैं। इससे पहले मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर जेएनयू और जामिया को लेकर हुए विरोध प्रदर्शनों में आईआईटी बॉम्बे के छात्र शामिल हुए थे।

में डीन ने सभी को संबोधित करते हुए लिखा है कि यहां कुछ हॉस्टल नियमों को जारी किया जा रहा है जिनको 28 जनवरी से सख्ती के साथ लागू किया जाएगा। नियम नंबर 1, 2 और 3 के मुताबिक बिना डीन ऑफ स्टूडेंट अफेयर या संबंधित हॉस्टल काउंसिल की इजाजत के किसी भी हॉस्टल में पर्चे न बांटें।

संबंधित खबर : दिल्ली पुलिस ने CAA-NRC के विरोध में रैली निकालने की नहीं दी इजाजत

'भाषण, नाटक, संगीत या भी कोई भी गतिविधि जो हॉस्टल के माहौल को खराब करे ऐसा करने की सख्त मनाही है। भले ही फैकल्टी समूह में शामिल हों फिर भी ये सब करने की गतिविधि नहीं है। डीन ऑफ स्टूडेंट अफेयर्स की अनुमति के बाद ही कार्यक्रम किए जा सकते हैं। हॉस्टल में रहने वाले सभी लोग हॉस्टल के अंदर और बाहर शालीनता के साथ व्यवहार करेंगे।'

डीन की ओर से जारी नये नियमों के मुताबिक सभी छात्र अपना आइडेंटिटी कार्ड साथ में रखेंगे और मांगे जाने पर दिखाएंगे। कोई भी पायरेटेड/अनाधिकृत/गैर-लाइसेंसी फिल्म का प्रदर्शन प्रतिबंधित है। फर्नीचर या फिर कोई भी सामान एक जगह से दूसरी जगह बिना अनुमति के न ले जाएं। दीवारें, दरवाजे, अलमारी और खिड़कियों को अंदर या बाहर से कोई नुकसान न पहुंचाएं। रैगिंग करना अपराध है।

ईमेल के अनुसार नियम नंबर 9 और 10 में कहा गया है कि स्मोकिंग, शराब या नार्कोटिक ड्रग का आईआईटी कैंपस के अंदर सेवन करना सख्त मना है। आईआईटी कैंपस में नशे की हालात में प्रवेश करना भी प्रतिबंधित है। आईआईटी बॉम्बे में रहने वाले किसी भी देशविरोधी, समाज विरोधी या फिर किसी भी अवांछित गतिविधि में हिस्सा न लें।

संबंधित खबर : कन्हैया कुमार बिहार के चंपारण से हुए गिरफ्तार, जन-गण-मन यात्रा में हुए थे शामिल

मेल के मुताबिक रात 10 बजे के बाद कोई भी गेस्ट या विपरीत लिंग का कोई भी व्यक्ति हॉस्टल में नहीं रुकेगा। सिर्फ आईआईटी बॉम्बे के छात्र ही एकेडमिक काम से हॉस्टल के कमरों में जा सकते हैं। उनको आईआईटी का पहचान पत्र हॉस्टल सिक्योरिटी के पास जमा करना होगा और विजिटर बुक में जानकारी देनी होगी। मां-बाप भाई-बहन को हॉस्टल में रहने के लिए सिर्फ वॉर्डन की इजाजत लेनी होगी। मां-बाप या फिर कोई भी विजिटर बिना इजाजत के हॉस्टल में नहीं रुक सकते।

'हॉस्टल में मां, पिता, भाई, बहन ज्यादा से ज्यादा 7 दिन रुक सकते हैं। मेडिकल मामलों में इसमें राहत दी जा सकती है।हॉस्टल में रहने वाले छात्र कैंपस में टू-व्हीलर और फोर-व्हीलर का उपयोग नहीं कर सकते।' बता दें कि हाल के दिनों में आईआईटी बॉम्बे के निदेशक सुभाशीष चौधरी ने छात्रों से कहा था कि वे अपने राजनीतिक विचार कैंपस के बाहर जाहिर करें। इस बयान के बाद यह नियमावली छात्रों के सामने रखी गई है।

Next Story

विविध

Share it