Top
अंधविश्वास

ओडिशा में डायन के शक में बुजुर्ग महिला को कुल्हाड़ी से उतार दिया मौत के घाट

Prema Negi
17 Jan 2020 2:18 PM GMT
ओडिशा में डायन के शक में बुजुर्ग महिला को कुल्हाड़ी से उतार दिया मौत के घाट

बुजुर्ग महिला की बेटी के देवर को था शक कि वह करती है तंत्र—मंत्र और उसकी भाभी को भी सिखा रही है, पहले भी दे चुका था धमकी कि दोबारा उनके घर आयीं तो कर देगा हत्या...

जनज्वार। डायन, बिसही, भूत—प्रेत, तंत्र—मंत्र, जादू—टोना के नाम पर देश के कोने कोने से हत्याओं, लिंचिंग और पेशाब—मल तक खिला देने की घटनायें सामने आती रहती हैं। अब ऐसा ही एक मामला ओडिशा में सामने आया है, जहां एक वृद्ध महिला की डायन के नाम पर कुल्हाड़ी से मारकर हत्या कर दी गयी।

जानकारी के मुताबिक ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले के बणई थाना अंतर्गत टिकरापोष गांव में बुधवार 15 जनवरी की रात को डायन के संदेह में बुधनी ओराम नाम की एक वृद्धा की कुल्हाड़ी से मारकर हत्या कर दी गई। हमले में बुजुर्ग महिला की हत्या के अलावा एक डेढ़ साल का मासूम जख्मी हो गया, उसे राउरकेला​ स्थित एक अस्पताल में भर्ती कराया गया।

ommcomnews में प्रकाशित खबर के मुताबिक बुधनी ओराम नाम की बुजुर्ग महिला अपनी बेटी के पास बणई पुलिस थानान्तर्गत आने वाले गांव टिकरापोष गांव में घूमने आयी हुई थी। टिकायतपाली थाना अंतर्गत आने वाले गांव चिटकीनाली गांव की 60 वर्षीय बुधनी ओराम शाम को भोजन करने के बाद जब घर के पास ही आग ताप रही थी, तभी उसकी बेटी के देवर रतिकांत ओराम ने उस पर कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ वार कर दिये, जिसमें वृद्धा की मौत हो गयी।

ब रतिकांत ओराम बुजुर्ग महिला पर कुल्हाड़ी से ताबड़तोड़ वार कर रहा था, तभी वहां डेढ़ साल का मासूम बच्चा भी बैठा हुआ था, जो गंभीर रूप से घायल हो गया। स्थानीय लोगों की सहायता से उसे इलाज के लिए राउरकेला सरकारी अस्पताल भेजा गया।

बुजुर्ग महिला की हत्या की सूचना पर बणई थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और लाश को अपने कब्जे में लेकर 16 जनवरी की सुब पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पुलिस ने घटनास्थल से हत्या में प्रयोग की गयी कुल्हाड़ी को भी अपने कब्जे में लिया।

सपास के लोगों और घरवालों के मुताबिक बुजुर्ग महिला बुधनी ओराम की बेटी के देवर को शक था कि वह जादू—टोना करती है और अपनी बेटी यानी उसकी भाभी को भी यही सिखा रही थी। साथ ही रतिकांत ओराम को शक था कि जब से बुजुर्ग महिला उनके घर आ-जा रही है, घर के लोग बीमार हो रहे हैं।

डायन कहकर कुल्हाड़ी से मौत के घाट उतार दी गयी बुजुर्ग बुधनी ओराम की लाश के साथ ग्रामीण

स बारे में वह बुजुर्ग महिला के दामाद यानी अपने बड़े भाई से भी बात कर चुका था कि तुम्हारी सास डायन है और उसके कदम हमारे घर के लिए अशुभ हैं। इतना ही नहीं रतिकांत ने पहले ही बुजुर्ग महिला के अपने घर आने पर हत्या की धमकी भी दी थी। बुजुर्ग महिला को मौत के घाट उतारने के बाद रतिकांत वहां से फरार हो गया, पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

गौरतलब है कि ओडिशा और अन्य आदिवासी बहुल राज्यों में अंधविश्वास के नाम पर की जाने वाली हिंसा पर अंकुश लगाने के लिए कड़े कानूनों के बावजूद इन पर लगाम नहीं लगी है। अंधविश्वास के नाम पर सबसे ज्यादा महिलायें ही शिकार बनती हैं। आदिवासी इलाकों में तो खासतौर पर महिलायें अंधविश्वास का आसान शिकार हैं। शासन—प्रशासन स्तर पर तमाम जागरूकता कार्यक्रमों के बावजूद अंधविश्वास से समाज मुक्त नहीं हो पा रहा है।

Next Story

विविध

Share it