Top
आर्थिक

लॉकडाउन में पत्रकारों को नौकरी से हटाने पर कोर्ट हुआ सख्त, मोदी सरकार से मांगा 2 हफ्ते में जवाब

Prema Negi
28 April 2020 3:15 AM GMT
लॉकडाउन में पत्रकारों को नौकरी से हटाने पर कोर्ट हुआ सख्त, मोदी सरकार से मांगा 2 हफ्ते में जवाब
x

सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच पत्रकारों को नौकरी से हटाने पर जाहिर की चिंता, संबंधित संस्थानों को थमाया नोटिस...

दिल्ली, जनज्वार। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार 27 अप्रैल को उन सभी मीडिया संगठनों के विरुद्ध एक नोटिस जारी किया, जिन्होंने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच अपने कर्मचारियों को नौकरी से हटा दिया है या फिर वेतन में कटौती की है।

न्यायमूर्ति एन.वी. रमना, न्यायमर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति बी.आर.गवई की पीठ ने कहा कि अगर व्यापार शुरू नहीं होता है तो लोग कितने दिन बिना नौकरी के रह पाएंगे? साथ ही पीठ ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच कर्मचारियों को नौकरी से हटाने पर चिंता जाहिर की और कहा कि इस मामले पर विचार किए जाने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें : अर्णब गोस्वामी के पत्रकारिता की हेकड़ी आ गयी हाथ में, सत्ता की सच्चाई लिखने वाला एक भी पत्रकार नहीं उनके साथ

रिष्ठ वकील कोलिन गोंसाल्वेस ने पीठ के समक्ष कहा कि कई मीडिया संस्थानों में कई पत्रकारों की नौकरियां चली गई हैं। इस पर कोर्ट ने कहा कि कुछ गंभीर मुद्दों को उठाया गया है और इस पर सुनवाई की जरूरत है, क्योंकि अन्य यूनियन भी इसी तरह के मामले उठा रहे हैं।

शीर्ष अदालत ने यह टिप्पणी नेशनल अलायंस ऑफ जर्नलिस्ट्स, दिल्ली यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स और बृहन्मुंबई यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स की संयुक्त याचिका पर की।

यह भी पढ़ें- अर्णब के मामले में प्रेस काउंसिल ने कहा, वाहियात पत्रकारिता के खिलाफ भी हिंसा ठीक नहीं

याचिकाकर्ताओं ने आरोप लगाया कि मीडिया सेक्टर के नियोक्ता मनमाना रवैया अपना रहे हैं और केंद्रीय श्रम व रोजगार मंत्रालय द्वारा जारी किए गए दिशा—निर्देशों पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं और यहां तक कि प्रधानमंत्री की अपील पर भी ध्यान नहीं दे रहे हैं।

पीठ ने आदेश दिया कि याचिका की एक प्रति केंद्र को भेजी जाए और उससे दो हफ्ते के अंदर इस पर जवाब दाखिल करने को कहा जाए।

यह भी पढ़ें : अर्णब का राजनीतिक कनेक्शन, पिता लड़ चुके BJP से एमपी चुनाव तो मामा हैं BJP सरकार में मंत्री

याचिका के अनुसार, "इस तथ्य के बावजूद कि सरकार ने प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को खासकर काम करने की इजाजत दे रखी है और प्रधानमंत्री ने अपील की है और सरकार ने एडवायजरी जारी की है कि कर्मचारियों की न तो सेवा समाप्त की जाए और न वेतन कटौती की जाए, इसके बावजूद न्यूजपेपर और मीडिया सेक्टर के कई नियोक्ताओं ने सेवाएं समाप्त करने, वेतन कटौती और कर्मचारियों को जबरन अवैतनिक छुट्टी पर भेजने का एकतरफा निर्णय लिया है।"

Next Story

विविध

Share it