Top
राष्ट्रीय

अर्णब के मामले में प्रेस काउंसिल ने कहा, वाहियात पत्रकारिता के खिलाफ भी हिंसा ठीक नहीं

Manish Kumar
24 April 2020 5:16 AM GMT
अर्णब के मामले में प्रेस काउंसिल ने कहा, वाहियात पत्रकारिता के खिलाफ भी हिंसा ठीक नहीं
x

काउंसिल ने गुरुवार को एक बयान जारी अर्णब पर हुए कथित हमले की निंदा की. बयान में कहा गया कि इस देश के हर नागरिक को अपनी बात रखने की आजादी है और इसमें पत्रकार भी शामिल हैं...

नई दिल्लीः प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी पर हमले की निंदा करते हुए कहा है कि बुरी पत्रकारिता के खिलाफ भी हिंसा ठीक नहीं है.

काउंसिल ने गुरुवार को एक बयान जारी अर्णब पर हुए कथित हमले की निंदा की. बयान में कहा गया- काउंसिल पत्रकार अर्णब गोस्वामी पर हुए कथित हमले को लेकर हैरान है. इस देश के हर नागरिक को अपनी बात रखने की आजादी है और इसमें पत्रकार भी शामिल हैं.

यह भी पढ़ें- अर्णब गोस्वामी को गिरफ्तार हो न जाना पड़े जेल, स्टे के लिए पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

बयान में कहा गया, 'किसी व्यक्ति द्वारा ऐसे विचार भी प्रकट किए जा सकते हैं जो बहुत से लोगों को पसंद न आए लेकिन इससे किसी को यह अधिकार नहीं मिल जाता कि वह किसी की आवज को दवाए. बुरी पत्रकारिता के खिलाफ भी अगर हिंसा की जाती है तो वह जवाब नहीं है.'

काउंसिल इस हमले की निंदा करती और उम्मीद करती है कि राज्य सरकार इस मामले में उचित कार्रवाई करे और दोषियों को जल्द न्याय के कटघरे में खड़ा करे.

संबंधित खबर : अर्णब का राजनीतिक कनेक्शन, पिता लड़ चुके BJP से एमपी चुनाव तो मामा हैं BJP सरकार में मंत्री

बता दें वहीं बुधवार शाम को अर्णब गोस्वामी ने दावा किया था कि जब वह ऑफिस से घर जा रहे थे तो उन पर और उनकी पत्नी पर 2 अज्ञात लोगों ने हमला किया. अर्णब ने इस सबंध में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई जिसके आधार पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की और कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

Image

गौरतलब है कि कांग्रेस की अंतिरम अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ एक आपत्तिजनक टिप्पणी करने के बाद अर्णब गोस्वामी विवादों के केंद्र में आ गए थे. कांग्रेस ने जहां उनकी टिप्पणी की आलोचना की थी वहीं सोशल मीडिया पर अर्णब के खिलाफ लोगों ने जमकर अपनी राय रखी.

इस मामले में उनके खिलाफ महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ राज्यों में उनके खिलाफ कई मामले दर्ज होने के बाद अर्णब गोस्वामी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. यह मामला शुक्रवार 24 अप्रैल को जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और एमआर शाह की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई के लिए सूचीबद्ध है।

Next Story

विविध

Share it