समाज

केरल में संपत्ति हड़पने के लिए महिला ने ससुराल के पूरे परिवार को रहस्यमयी तरीके से उतार दिया मौत के घाट

Prema Negi
7 Oct 2019 6:32 AM GMT
केरल में संपत्ति हड़पने के लिए महिला ने ससुराल के पूरे परिवार को रहस्यमयी तरीके से उतार दिया मौत के घाट
x

जॉली थोमस ने पैसे के लालच में अंधी होकर 14 सालों के भीतर एक-एक कर अपने ससुराल में 6 लोगों की हत्या ऐसे की, जिससे किसी को उस पर शक भी न जाये और पूरी संपत्ति भी उसके नाम हो जाये...

जनज्वार। पैसे के लालच में आदमी कितना नीचे गिर सकता है, यह आये दिन मीडिया की सुर्खियां बनी खबरें साबित करती रहती हैं। कोई पैसे के लिए मां-बाप का कत्ल कर देता है, कोई बीवी-बच्चों का तो कोई बीवी पति को मौत के घाट उतार देती है। पैसे के लालच में जो हत्यायें होती हैं, उनमें 95 फीसदी मामलों में परिवार के लोग शामिल रहते हैं।

पैसे के लिए नृशंसता की हदें पार करने वाले घटनाक्रम का खुलासा केरल के कोझीकोडे जनपद में क्राइम ब्रांच पुलिस ने किया है। यहां कैथोलिक परिवार की महिला जॉली थोमस ने पैसे के लालच में अंधी होकर 17 सालों के भीतर एक-एक कर अपने ससुराल में 6 लोगों की हत्या ऐसे की, जिससे किसी को उस पर शक भी न जाये और पूरी संपत्ति भी उसके नाम हो जाये।

स मामले में पुलिस ने जॉली थोमस और 2 अन्य आरोपियों एमएस मैथ्यू और प्राजिकुमार को शनिवार 5 अक्टूबर को पूरे परिवार को मौत के घाट उतारने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया है। इन आरोपियों में शामिल मैथ्यू एक ज्वैलरी स्टोर में कर्मचारी है और प्राजिकुमार ज्वैलरी स्टोर के लिए आभूषण बनाता है। जॉली को दोनों लंबे समय से जानते थे। प्राजिकुमार वह आदमी है, जो जॉली को साइनाइड उपलब्ध कराता था। पुलिस के मुताबिक एक ही परिवार में 14 सालों में हुईं ये 6 हत्यायें खाने में पोटेशियम साइनाइड मिलाकर की गयीं।

जॉली द्वारा एक-एक कर पूरे परिवार को मौत के घाट उतारने का सिलसिला 2002 में 17 साल पहले शुरू हुआ था। उसने 2002 से 2016 के बीच कुल 14 सालों में अपने परिवार के एक के बाद एक 6 सदस्यों को बड़ी चालाकी से मार दिया और उन्हें प्राकृतिक मौत भी साबित कर दिया।

स मामले की जांच तब शुरू हुई जब अमेरिका में रहने वाले टॉम थोमस के दूसरे बेटे मोजो थोमस यानी जॉली के देवर संदेह के आधार पर शिकायत दर्ज करायी। एक परिवार में एक के बाद बड़े शातिर तरीके से की गई इन हत्याओं का पर्दाफाश शायद कभी नहीं हो पाता, अगर मोजो थोमस ने अपने परिवार में हुई मौतों पर संदेह न जताया होता।

मोजो थोमस की शिकायत के बाद जब पुलिस ने 14 सालों के दौरान एक-एक कर मरे सभी परिवार वालों की कब्रें खोदकर लाशें बाहर निकालीं। पुलिसिया जांच के मुताबिक जॉली थोमस नाम की महिला ने सबसे पहले अपनी सास अनम्मा थोमस को 2002 में ठिकाने लगाया और 2008 में ससुर टॉम थोमस की भी पोटेशियम साइनाइड की मदद से हत्या कर दी। 2011 में जॉली ने अपने पति रॉय थोमस और उसके बाद 2014 में रॉय के चाचा मैथ्यू को इसी तरह मौत के घाट उतारा। उसके बाद 2016 में जॉली थोमस ने एक अन्य रिश्तेदार साइली और उसके एक साल के मासूम बेटे को भी इसी तरह ठिकाने लगा दिया।

पुलिसिया जांच में यह बात सामने आयी कि मरने वाले सभी लोगों की खाना खाते ही मौत हो गयी। इतना ही नहीं हर मौत के समय जॉली घटनास्थल पर मौजूद रही। पुलिस को संदेह है कि या तो जॉली थोमस ने किसी अन्य के साथ संबंध होने के चलते पूरे परिवार को खत्म कर डाला या फिर उसने जायदाद हड़पने के लिए 14 सालों में बड़े शातिर तरीके से पूरे परिवार की हत्या कर दी।

जॉली के बारे में जब पुलिस ने जांच-पड़ताल की तो पता चला कि उसने शाजू नाम के एक अन्य शख्स से दूसरी शादी कर ली है। इसी दौरान उसने थोमस परिवार की पूरी संपत्ति पर दावा भी पेश किया। ताज्जुब की बात तो यह है कि शाजू के बेटे और पहली पत्नी की मौत भी उसी तरह के हालातों में हुई, जैसे जॉली के परिवार के लोगों की हुई थी।

गौरतलब है कि जॉली द्वारा बड़े चालाकी से कत्ल कर दिये गये पूरे परिवार में से सिर्फ उसके पति रॉय थोमस की मौत के बाद शव का पोस्टमार्टम किया गया था। उसमें सामने आया था कि मौत जहर के कारण हुई है, मगर तब इसे आत्महत्या करार देकर मामला रफा-दफा कर दिया गया था।

केरल के कोझीकोड जनपद के एसपी केजी साइमन ने जनज्वार से हुई बातचीत में कहा कि, 'फॉरेंसिक जांच पूरी होने पर हम चार्जशीट दाखिल करेंगे और संभव है कि और लोगों का गिरफ्तारी की जाए। शाजू और दो अन्य को हिरासत में लिया जा चुका है। ये घटना सत्य है। अभी जांच चल रही है। यह मामला के बाद और अधिक साफ हो पायेगा और जानकारी भी उसके बाद ही मिल पायेगी।'

Next Story
Share it