Top
उत्तराखंड

मजदूर पिता ने अपाहिज बेटे को घर ले जाने के लिए साइकिल चुराई, चिट्ठी में लिखा कसूरवार हूँ भाई माफ करना

Raghib Asim
16 May 2020 8:30 AM GMT
मजदूर पिता ने अपाहिज बेटे को घर ले जाने के लिए साइकिल चुराई, चिट्ठी में लिखा कसूरवार हूँ भाई माफ करना

मज़दूर मोहम्मद इकबाल ने सोमवार देर रात साहब सिंह के घर भरतपुर जिले के रारह गांव से एक साइकिल चुरा ली। साहब सिंह ने अपने घर के बरामदे में झाडू लगाते हुए पत्र पाया। जिसमे मज़दूर ने अपनी बेबसी का जिक्र करते हुए चोरी के लिए माफ़ी मांग ली...

जनज्वार। राजस्थान के भरतपुर में एक मज़दूर ने उत्तर प्रदेश स्थित अपने घर बरेली में 250 किलोमीटर की दूरी तय करने के लिए एक साइकिल चुरा ली। बेबस पिता ने अपने इस अपराध के लिए साइकिल मालिक से माफी भी मांग ली।

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, मज़दूर मोहम्मद इकबाल ने सोमवार देर रात साहब सिंह के घर भरतपुर जिले के रारह गांव से एक साइकिल चुरा ली। साहब सिंह ने अपने घर के बरामदे में झाडू लगाते हुए पत्र पाया। जिसमे मज़दूर ने अपनी बेबसी का जिक्र करते हुए चोरी के लिए माफ़ी मांग ली।

यह भी पढ़ें : कोरोना वायरस से भाजपा नेता की मौत, 15 दिन पहले पिता की भी संक्रमण से हुई थी मौत

ज़दूर मोहम्मद इकबाल ने अपने माफीनामा में लिखा “मैं मज़दूर हूँ, मज़दूर भाई। मै आपक गुनहगार हूँ। आपकी साइकिल लेकर जा रहा हूँ। मुझे माफ़ कर देना। मुझे बरेली तक जाना है। मैं आपका अपराधी हूं। लेकिन, मैं एक मजदूर हूं और असहाय भी हूं। मैं आपकी साइकिल ले रहा हूं। मुझे माफ कर दीजिए। मेरे पास पहुंचने के लिए कोई और साधन नहीं है मेरे पास विकलांग बच्चा है।

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक समाजशास्त्री राजीव गुप्ता ने कहा यह “घटना मजदूरों की बेबसी और सरकारों की विफलता को दर्शाती है। लॉकडाउन लगाने से पहले, सरकार को उनके लिए परिवहन सुविधाओं की व्यवस्था करनी चाहिए थी, ताकि वे अपने मूल स्थानों पर पहुंच सकें। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कई मजदूर महीनों से भूखे हैं। वे खुद को और न ही अपने परिवार के सदस्यों को नहीं खिला सकते हैं, ”।

संबंधित खबर : 15 जनवरी से 23 मार्च तक विदेश से आने वाले सिर्फ 19% यात्रियों की हुई स्क्रीनिंग, RTI से बड़ा खुलासा

गुप्ता ने कहा कि इन मजदूरों के मालिकों और ठेकेदारों ने उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया। “उन्हें न तो भोजन दिया गया और न ही लंबित वेतन। यही कारण है कि लोग उन चीजों को करने के लिए मजबूर होते हैं जो कानूनी रूप से गलत हो सकते हैं। सरकार की अनदेखी के कारण देश में पहली बार हो रहा है कि लोग शहरों से गांवों में जा रहे हैं। आमतौर पर, गांवों के लोग रोजगार और अवसरों की तलाश में बड़े शहरों की ओर पलायन करते हैं।

Next Story

विविध

Share it