Top
राजनीति

असम चुनाव के तीसरे चरण में आगे नजर आ रहा कांग्रेस के नेतृत्व वाला महाजोत, 6 अप्रैल को अंतिम चरण के लिए मतदान

Janjwar Desk
5 April 2021 6:48 AM GMT
असम चुनाव के तीसरे चरण में आगे नजर आ रहा कांग्रेस के नेतृत्व वाला महाजोत, 6 अप्रैल को अंतिम चरण के लिए मतदान
x
महाजोत के पक्ष में अधिकांश राजनीतिक विश्लेषकों का ध्यान सीएए कारक पर केंद्रित है, जो मानते हैं कि ऊपरी असम और अन्य क्षेत्रों में भाजपा की संभावनाओं को नुकसान पहुंचा सकता है जहां असमिया और स्थानीय मतदाता महत्वपूर्ण हैं या परिणाम निर्धारित करने में निर्णायक हैं.....

वरिष्ठ पत्रकार दिनकर कुमार का विश्लेषण

असम में 86 विधानसभा सीटों को कवर करने वाले दो चरणों के चुनावों के पूरा होने के साथ अब 40 सीटों पर ध्यान दिया जा रहा है जो ज्यादातर निचले असम की सीटें हैं और जहां 6 अप्रैल को अंतिम चरण के चुनाव होने वाले हैं।

हालांकि चुनावों से काफी पहले बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को आसानी से चुनाव जीतने का दावेदार माना जा रहा था, एनडीए के खिलाफ महागठबंधन बनाने के कांग्रेस और एआईयूडीएफ के फैसले ने लड़ाई को और दिलचस्प बना दिया है। राजनीतिक विश्लेषकों के एक वर्ग की राय है कि बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए से आगे की तरफ इस महाजोत का अंकगणित नजर आ रहा है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि कांग्रेस और बदरुद्दीन अजमल की एआईयूडीएफ के साथ आने से बीजेपी के लिए लड़ाई कठिन हो गई है। असम में मुसलमानों की बड़ी आबादी है जो राज्य की आबादी का 34 प्रतिशत हिस्सा है। मुसलमान महाजोत के समर्थन में मतदान कर रहे हैं।

हालांकि प्रभावशाली असमिया-वर्चस्व वाले ऊपरी असम में, जिसने पहले चरण में मतदान किया, महाजोत द्वारा भाजपा विरोधी सभी वोटों को छीनने की संभावना नहीं है। चूंकि एआईयूडीएफ के साथ कांग्रेस के गठबंधन के फैसले और एक अन्य गठबंधन एजेपी और रायजोर दल की उपस्थिति के कारण ऊपरी असम में त्रिकोणीय मुक़ाबला होने की बात कही जाती रही है।

ऐसा माना जाता है कि एजेपी-रायजोर दल गठबंधन एनडीए के वोटों का एक हिस्सा छीन सकता है, विशेष रूप से राज्य की सबसे पुरानी मौजूदा क्षेत्रीय पार्टी एजीपी के वोट इस गठबंधन को स्थानांतरित हो सकते हैं। चूंकि राज्य में एजीपी की कीमत पर भाजपा आगे बढ़ी है, इस क्षेत्रीय गठबंधन को भगवा पार्टी के वोटों के एक हिस्से में भी कटौती की उम्मीद है।

महाजोत के पक्ष में अधिकांश राजनीतिक विश्लेषकों का ध्यान सीएए कारक पर केंद्रित है, जो मानते हैं कि ऊपरी असम और अन्य क्षेत्रों में भाजपा की संभावनाओं को नुकसान पहुंचा सकता है जहां असमिया और स्थानीय मतदाता महत्वपूर्ण हैं या परिणाम निर्धारित करने में निर्णायक हैं। इस तथ्य को नजरअंदाज कर दिया जाता है कि बीजेपी हिंदुत्व, असमिया क्षेत्रवाद, विकास, कल्याणकारी योजनाओं और शांति के मिश्रण के माध्यम से अपने खिलाफ सीएए विरोधी गुस्से को कम करने में काफी सक्षम है।

यह सच है कि असमिया आबादी के बीच सीएए के खिलाफ गुस्सा मौजूद है, लेकिन यह किस हद तक भाजपा की किस्मत को नुकसान पहुंचाएगा अभी कह पाना आसान नहीं होगा। सीएए विरोधी वोट कांग्रेस और एजेपी-रायजोर दल गठबंधन के बीच विभाजित होने की संभावना है - और एनडीए भी सीएए विरोधी गुस्से के कारण अपने वोटों के एक हिस्से को खोने जा रहा है।

गौरतलब है कि भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए ने 2019 के लोकसभा चुनावों में राज्य में निर्णायक जीत हासिल की, बावजूद इसके कि सीएबी लाने के लिए भगवा पार्टी के खिलाफ गुस्सा था, जो अब सीएए है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बोगीबिल ब्रिज और ढोला सदिया ब्रिज के उद्घाटन ने भाजपा की विकास-समर्थक छवि को मजबूत किया है। जनता के लिए यह मोदी की अगुवाई वाली भाजपा सरकार है जो इन पुलों और अन्य लंबित कार्यों की गति बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है और जिस सरकार ने राज्य के सबसे अविकसित है क्षेत्र बराक घाटी में लंबे समय से लंबित ब्रॉड-गेज रेल कनेक्टिविटी को पूरा किया है।

15 विधानसभा सीटों के लिए बराक वैली ने दूसरे चरण में मतदान किया - और भगवा पार्टी इस क्षेत्र से विकास और सीएए फैक्टर पर सवार अधिकांश सीटें जीतने की उम्मीद कर रही है, क्योंकि बंगाली हिंदू इस क्षेत्र में सीएए के प्रबल समर्थक हैं। 2019 में बीजेपी ने कांग्रेस और एआईयूडीएफ को दो लोकसभा सीटों सिलचर और करीमगंज में इस क्षेत्र से हराया।

पहाड़ी जिलों की पांच सीटों पर, जहां दूसरे चरण में वोट दिया गया था, भाजपा एक मजबूत दावेदार है। इन जिलों में भगवा पार्टी द्वारा अपनी कल्याणकारी योजनाओं, भूमि पट्टों के वितरण और आरएसएस के माध्यम से आदिवासियों तक पहुँचने का प्रयास किया गया है। ऊपरी असम और अन्य क्षेत्रों के आदिवासियों को समायोजित करने के लिए, बीजेपी ने छोटे जनजातीय समूहों जैसे मिसिंग, राभा, सोनोवाल-कछारी आदि को पार्टी में शामिल किया है। राज्य की जनजातीय आबादी का 12.4 प्रतिशत है।

बोडोलैंड टेरिटोरियल रीजन (बीटीआर) में 12 विधानसभा सीट है। बीपीएफ के शामिल होने के कारण महाजोत आशान्वित है। बीटीआर क्षेत्र के अधिकांश जिले निचले असम में आते हैं। गौरतलब है कि एजेपी-रायजोर दल गठबंधन ने निचले असम के कई निर्वाचन क्षेत्रों में मुस्लिम उम्मीदवारों को भी खड़ा किया है। इससे महाजोत को कुछ नुकसान हो सकता है।

कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन ने इस चुनाव में अपने अभियान में व्यापक सुधार किया है। लेकिन यह भी उतना ही सच है कि भाजपा की अगुवाई में एनडीए राज्य में मजबूत विकेट पर है, जो विकास के अपने एजेंडे पर चल रहा है और असमिया क्षेत्रवाद, हिंदुत्व और राष्ट्रवाद की परतों के साथ मिश्रित है।

Next Story

विविध

Share it