राजनीति

Hanuman Chalisa Row : पीएम मोदी और अमित शाह के घर जाकर करें हनुमान चालीसा का पाठ, सामना में शिवसेना का BJP पर हमला

Janjwar Desk
25 April 2022 6:54 AM GMT
Hanuman Chalisa Row : पीएम मोदी और अमित शाह के घर जाकर करें हनुमान चालीसा का पाठ, सामना में शिवसेना का BJP पर हमला
x

Hanuman Chalisa Row : पीएम मोदी और अमित शाह के घर जाकर करें हनुमान चालीसा का पाठ, सामना में शिवसेना का BJP पर हमला

Hanuman Chalisa Row : शिवसेना (Shiv Sena) ने अपने मुखपत्र सामना (Saamana) में लिखा है कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने हिंदुत्व के नाम पर जो हंगामा शुरू किया है उसका समर्थन नहीं किया जा सकता, हिंदुत्व एक संस्कार और संस्कृति है हंगामा नहीं...

Hanuman Chalisa Row : महाराष्ट्र (Maharashtra) में शुरू हुए हनुमान चालीसा विवाद (Hanuman Chalisa Row) पर शिवसेना (Shiv Sena) ने एक बार फिर बीजेपी पर हमला बोला है। शिवसेना (Shiv Sena) ने अपने मुखपत्र सामना (Saamana) में लिखा है कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने हिंदुत्व के नाम पर जो हंगामा शुरू किया है उसका समर्थन नहीं किया जा सकता। हिंदुत्व एक संस्कार और संस्कृति है हंगामा नहीं।

शिवसेना ने सामना में क्या लिखा?

बता दें कि शिवसेना (Shiv Sena) ने सामना में लिखा है कि इस राज्य में हनुमान चालीसा का जाप प्रतिबंधित नहीं है। इसके बावजूद राणा दंपति (अमरावती से सांसद नवनीत राणा और पति विधायक रवि राणा) मातोश्री (मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का आवास) के सामने ही इसका जप क्यों करना चाहते थे। शिवसेना ने कहा है कि अगर वे राष्ट्रीय स्तर पर हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का जाप करना चाहते थे, तो उन्हें मातोश्री के बजाय लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आवास पर इसका जाप करना चाहिए था।

बीजेपी खराब करना चाहती है मुंबई का माहौल

शिवसेना ने अपने मुखपत्र में लिखा, हनुमान चालीसा पर किसी राज्य ने प्रतिबंध नहीं लगाया है। इसके बावजूद मतोश्री पर जाकर पाठ करने का हठ क्यों। दरअसल भाजपा ने ही राणा दंपति को आगे करके मुंबई का माहौल खराब करने की योजना बनाई थी। उसी आदेश के अनुसार सब कुछ किया गया है। सामना में लिखा है कि अब ये राणा कौन है। इनमें इतना अहंकार, मस्ती कहां से पैदा हुई। यह ईडी जैसी एजेंसियों के लिए जाँच का विषय है।

नवनीत राणा ने गलत तरीके से जीता चुनाव

बता दें कि शिवसेना की तरफ से आरोप लगाया गया गई कि नवनीत राणा ने फर्जी जाति प्रमाणपत्र के आधार पर अमरावती से लोकसभा चुनाव लड़ा और जीता था। नवनीत कौर राणा और उनके पिता हरभजन सिंह कुंडलेस ने जाति प्रमाणपत्र बनवाने के लिए फर्जी दस्तावेज जमा किए थे। चुनाव लड़ने के लिए नवनीत कौर राणा ने अनुसूचित जाति का फर्जी प्रमाणपत्र बनवाया। इस जालसाजी पर मुंबई उच्च न्यायालय ने मुहर लगाई, लेकिन मामले को सर्वोच्च न्यायालय में ले जाकर समय व्यतीत किया जा रहा है।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू—ब—रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध