समाज

दहेज में नहीं मिली बुलेट तो बेरहम पति ने 6 दिन तक पत्नी को बंधक बना बंदूक की बट और बेल्ट से पीटा

Janjwar Desk
12 July 2021 7:57 AM GMT
दहेज में नहीं मिली बुलेट तो बेरहम पति ने 6 दिन तक पत्नी को बंधक बना बंदूक की बट और बेल्ट से पीटा
x

(किसी तरह पति के चंगुल से निकलकर थाना पहुंची पीड़िता ने पुलिस को अपने जख्म दिखाकर इंसाफ की गुहार लगायी है। प्रतीकात्मक तस्वीर)

पीड़िता रीना का कहना है कि 6 जुलाई की रात जब वह अपने ससुराल में सभी को खाना खिलाकर बर्तन साफ कर ही रही थी, तो उसके पति राजकुमार ने बिना किसी बात के उससे झगड़ना शुरू कर दिया और उसको बुरा भला कहने लगा....

जनज्वार। दहेज (Dowry) उत्पीड़न की घटनायें हमारे समाज में आम हो चुकी हैं। जब लोग एक बेटी के परिजनों के तौर पर सामने आते हैं तो दहेज की मुखालफत करते नजर आते हैं और वही लोग बेटे का पिता बनते ही दहेज को तरह-तरह से डिफेंड करने लगते हैं। इसकी कीमत लड़कियों को भारी कीमत यानी शारीरिक-मानसिक उत्पीड़न (Physical And Mental Harassment) या जान तक देकर चुकानी पड़ती है।

दहेज उत्पीड़न का एक मामला उत्तर प्रदेश के कौशांबी (Kaushambi) से सामने आया है। दहेज के लालची पति को जब लड़की के घर यानी ससुराल से दहेज में बुलेट नहीं मिली तो उसने अपनी ही पत्नी को 6 दिन बंधक बनाकर बंदूक की बट और बेल्ट से बुरी तरह पीटा। किसी तरह भागकर थाने पहुंची पीड़िता ने पुलिस को अपने जख्म दिखाकर इंसाफ की गुहार लगायी है।

जानकारी के मुताबिक यह घटना कौशांबी जिले के सराय अकिल थाना क्षेत्र के डहिया गांव की है। उस्मानपुर तलरी गांव के राम दास ने अपनी बेटी रीना की शादी डहिया गांव के अमृत लाल के बेटे राज कुमार से चार साल पहले की थी। रीना और राजकुमार का 2 साल का बेटा भी है।

पुलिस को मिली जानकारी के मुताबिक राज कुमार मुंबई में रहकर प्राइवेट नौकरी करता था। लॉकडाउन के दौरान वह घर आ गया क्योंकि उसकी नौकरी छूट गयी थी। घर आये राजकुमार ने अपनी पत्नी रीना पर पिछले कुछ महीनों से मायके से बुलेट खरीदकर देने का दबाव बनाना शुरू कर दिया। हालांकि रीना ने अपने पिता की प्राइवेट नौकरी और लॉकडाउन में हालात खराब होने का हवाला देकर उसको समझाने की कोशिश की, मगर राजकुमार लगातार दबाव बनाता रहा। उसने रीना के साथ मारपीट भी शुरू कर दी।

पुलिस के पास पहुंची रीना ने बताया कि पति का लगातार हिंसक होता रवैया देखकर उसने बुलेट वाली बात पिता और भाइयों को बतायी, जिसके बाद पिता ने अपने दामाद राजकुमार को समझाने की बहुत कोशिश की लॉकडाउन में उनके भी आर्थिक हालात अच्छे नहीं है। मगर राजकुमार के सिर पर ससुरालियों से बुलेट लेने का भूत सवार हो चुका था और इसके लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार था।

रीना का कहना है कि 6 जुलाई की रात जब वह अपने ससुराल में सभी को खाना खिलाकर बर्तन साफ कर ही रही थी, तो उसके पति राजकुमार ने बिना किसी बात के उससे झगड़ना शुरू कर दिया और उसको बुरा भला कहने लगा। जब रीना ने अपने पति से कहा कि वह इस तरह का दुर्व्यवहार क्यों कर रहा है तो उसने उसे बंदूक की बट और बेल्ट से जानवरों की तरह पीटना शुरू कर दिया। राजकुमार उसे तब तक पीटता रहा जब तक पत्नी अधमरी नहीं हो गई। इसके बाद राजकुमार ने यह सिलसिला रोज शुरू कर दिया। बुरी तरह पिटने के कारण रीना की हालत बहुत खराब हो चुकी थी, मगर राजकुमार के सिर से बुलेट का भूत उतर नहीं रहा था और उसने रीना को बंधक बना लिया ताकि वह कहीं भाग नहीं पाये और ससुरालियों पर बुलेट का दबाव बना रहे।

रीना ने पुलिस को बताया कि लगातार 6 दिनों तक बंधक बनाकर पिटने के बाद आखिरकार किसी तरह वह अपने पति के चंगुल से भागने में कामयाब रही। छठे दिन रविवार 11 जुलाई को दर्द से कराहती हुई हालत में पुलिस थाने पहुंची और पूरा सिलसिला बताया।

रीना की तहरीर पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। इस मामले में इंस्पेक्टर सराय अकिल बीपी त्रिपाठी का कहना है कि महिला रीना देवी ने अपने पति व ससुराल वालों के खिलाफ तहरीर दी है। महिला के शरीर पर चोट के निशान के आधार पर उसका मेडिकल कराया जा रहा है। महिला ने जेठ प्रवीण कुमार व जेठानी सविता पर भी जुल्म में साथ देने का आरोप लगाया। पति व ससुराल पक्ष को थाने बुलाया गया है। पीड़िता की तहरीर पर पति सहित अन्य लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Next Story

विविध

Share it