Top stories

Aaj Ka Mausam: चक्रवात 'शाहीन' का कहर, कई राज्यों में लगातार बारिश से बाढ़ जैसे हालात

Janjwar Desk
2 Oct 2021 6:05 PM GMT
Aaj Ka Mausam: चक्रवात शाहीन का कहर, कई राज्यों में लगातार बारिश से बाढ़ जैसे हालात
x
Aaj Ka Mausam: चक्रवाती तूफान शाहीन के आगे बढ़ने की हवा की गति 80 से 90 किमी प्रति घंटे से लेकर 100 किमी प्रति घंटे तक बताई जा रही है... मौसम विभाग ने बताया है कि चक्रवाती तूफान के तेज होने के बाद हवा की गति 90 से लेकर 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बहने की संभावना है...

Aaj Ka Mausam: चक्रवात 'शाहीन' के मद्देनजर भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने देश के सात राज्यों में अलर्ट जारी कर दिया है। इसमें बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक और गुजरात शामिल हैं जहां मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के ताजा अनुमान की मानें तो अरब सागर में जो गहरा दबाव का क्षेत्र बना था, वो अब चक्रवात 'शाहीन' में तब्दील हो गया है।

मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि अरब सागर में गहरा दबाव चक्रवात 'शाहीन' में तब्दील हो गया है। इस चक्रवात का असर भारत समेत पाकिस्तान और ईरान में देखने को मिलेगा। भारत के कई राज्यों में चक्रवात के खतरनाक रूप लेने की आशंका जताई गई है। आइएमडी के अनुसार भीषण चक्रवाती तूफान 'शाहीन' शनिवार को उत्तर पश्चिमी अरब सागर पर केंद्रित हो गया है। इसके 4 अक्टूबर को ओमान तट को पार करने की संभावना है। चक्रवाती तूफान शाहीन के आगे बढ़ने की हवा की गति 80 से 90 किमी प्रति घंटे से लेकर 100 किमी प्रति घंटे तक बताई जा रही है। मौसम विभाग ने बताया है कि चक्रवाती तूफान के तेज होने के बाद हवा की गति 90 से लेकर 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बहने की संभावना है। चक्रवात शाहीन के अरब सागर में भारत के तटों से दूर जाकर पाकिस्तान में मकरान के तटों की तरफ बढ़ने की आशंका है।

मौसम विभाग का मानना है कि तूफान 'शाहीन' चक्रवात गुलाब से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण बना है, जो 26 सितंबर को पूर्वी तट से टकराया था। मध्य भारत, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और गुजरात के कुछ हिस्सों को पार करने के बाद चक्रवात गुलाब की तीव्रता कम हो गई थी। लेकिन जैसे ही यह अरब सागर में दाखिल हुआ तो गहरा दबाव बनकर एक नए तूफान के रुप में बदल गया। वैज्ञानिकों की मानें तो यह एक असाधारण घटना है, जिसमें पूर्वी तट के बंगाल की खाड़ी में उत्पन्न तूफान देश के विभिन्न हिस्सों को पार करते हुए पश्चिमी तट पर पहुंचा और फिर से एक बड़े तूफान में तब्दील हो गया।

राजधानी दिल्ली में बारिश की आशंका

राजधानी दिल्ली में शनिवार को आंशिक रूप से बादल छाए रहे। इसके साथ ही मौसम विभाग ने बताया कि दिल्ली में रविवार को हल्की बारिश या बूंदा बांदी की संभावना है। आइएमडी के ताजा अनुमान के अनुसार नोएडा, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद और गुरुग्राम के आसपास के इलाकों में भी हल्की बारिश संभाव है। बारिश के दौरान अगले कुछ दिन तक राजधानी में अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 26 डिग्री सेल्सियस तक बने रहने की संभावना है।

बंगाल में भारी बारिश से बाढ़ की स्थिति

पहले चक्रवात गुलाब औरफिर शाहीन के कारण बंगाल के कई इलाकों में भारी बारिश से बाड़ जैसे हालात बन गए हैं। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने शनिवार को पश्चिम बंगाल के उत्तरी भाग के सभी जिलों में 2 अक्टूबर से 4 अक्टूबर तक भारी बारिश के लिए अलर्ट जारी किया। इस दौरान मौसम विभाग ने कहा कि उत्तर बंगाल में गरज के साथ बौछारें पड़ने की बहुत संभावना है। साथ ही 3-4 अक्टूबर को दक्षिण बंगाल में समान गतिविधि बढ़ने की संभावना बनी हुई है।

मौसम विभाग ने कहा कि एक कम दबाव का क्षेत्र पश्चिम बिहार और उससे सटे पूर्वी उत्तर प्रदेश पर बना है। इसके पूर्व की ओर बढ़ने और 3 से 4 अक्टूबर के दौरान पूर्वी बिहार और उससे सटे उत्तर बंगाल तक पहुंचने की आशंका है। 2-4 अक्टूबर के दौरान उत्तर बंगाल के जिलों में बारिश की गतिविधि बढ़ने की संभावना है।

मौसम विभाग की ताजा जानकारी के अनुसार पश्चिम बंगाल में फिलहाल बारिश के मौसम से छुटकारा मिलने वाला नहीं है। पश्चिम बंगाल मौसम विभाग की ओर से ऑरेंज और येलो अलर्ट जारी किया गया है। इसके साथ ही आशंका जताई जा रही है कि उत्तर बंगाल के कई जिलों में भारी बारिश होगी। उत्तर बंगाल के दार्जीलिंग, कलिम्पोंग, अलीपुरदुआर, उत्तर दिनाजपुर और दक्षिण दिनाजपुर में 2 से 4 अक्टूबर तक भारी बारिश होने का अनुमान है।

भारी बारिश की वजह से बंगाल के कई जिलों में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया। हेलीकॉप्टर से बाढ़ग्रस्त इलाकों का जायजा लेने के दौरान तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने कहा कि दामोदर वैली कॉर्पोरेशन के पानी छोड़ने की वजह से बंगाल के 8 जिलों में बाढ़ आ गयी है। प्रभावित इलाकों से 4 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। वहीं भारी बारिश से एक लाख मकान क्षतिग्रस्त हो गये हैं।

Next Story