राजनीति

Bihar Top News : लालू के 'वारिस' करेंगे कांग्रेस का प्रचार, RJD के स्टार प्रचारकों में तेज प्रताप का नाम नहीं

Janjwar Desk
8 Oct 2021 6:22 AM GMT
Bihar Top News : लालू के वारिस  करेंगे कांग्रेस का प्रचार, RJD के स्टार प्रचारकों में तेज प्रताप का नाम नहीं
x
कांग्रेस नेता अशोक राम ने ये दावा कर दिया कि लालू यादव के बेटे तेज प्रताप से उनकी मुलाकात हुई है और वे कुशेश्वर स्थान में कांग्रेस के लिए चुनाव प्रचार करने आएंगे... कांग्रेस पार्टी में शामिल होने को लेकर कांग्रेस नेता ने कहा कि ये तेज प्रताप के ऊपर है कि वे अधिकारिक तौर पर कांग्रेस में शामिल होंगे या नहीं...

Bihar News, जनज्वार। चुनाव का ऐलान होते ही राजनीतिक पार्टियों में जोड़ तोड़ आम बात है। बिहार (Bihar) में भी इनदिनों कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है। बिहार के दो विधानसभा सीटों पर उपचुनाव का ऐलान होते ही राष्ट्रीय जनता दल(RJD) और कांग्रेस के महागठबंधन में भी दरार पड़ गई। साथ ही लालू यादव का परिवार भी दो खेमें में बंट गया। आरजेडी से अलगाव के बीच कांग्रेस ने दावा किया है कि उपचुनाव में लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप कांग्रेस के लिए प्रचार प्रसार करेंगे।

दरअसल, बिहार के दरभंगा जिले से कुशेश्वर स्थान और मुंगेर जिला का तारापुर सीट पर 30 अक्टूबर को उपचुनाव होनें है। दोनों सीटें जनता दल यूनाइटेड की सिटिंग सीट थीं मगर तारापुर के विधायक मेवालाल चौधरी और कुशेश्वरस्थान के विधायक शशिभूषण हजारी के निधन के कारण दोनों सीटों पर उपचुनाव कराये जा रहे हैं। ऐसे में आरजेडी और कांग्रेस में दोनों सीटों को लेकर तनातनी हो गई। दोनों सीटों पर जेडीयू के खिलाफ आरजेडी (RJD) और कांग्रेस ने अपने-अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी।

कुशेश्वरस्थान सीट पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अशोक राम (Ashok Ram) के बेटे अतिरेक कुमार कांग्रेस की टिकट पर चुनावी मैदान में हैं। हाल ही में अशोक राम ने ये दावा कर दिया कि लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप से उनकी मुलाकात हुई है और वे कुशेश्वर स्थान में अतिरेक कुमार के लिए चुनाव प्रचार करने आएंगे। कांग्रेस पार्टी में तेज प्रताप (Tej Pratap) के शामिल होने को लेकर कांग्रेस नेता अशोक राम ने कहा कि ये तेज प्रताप के ऊपर है कि वे अधिकारिक तौर पर कांग्रेस में शामिल होंगे या नहीं।

आरजेडी के प्रचारकों में तेज प्रताप का नाम शामिल नहीं

लालू के पुत्र तेज प्रताप (Tej Pratap Yadav) का कांग्रेस पार्टी के लिए प्रचार करने को लेकर बयान तब आया है जब आरजेडी के स्टार प्रचारकों की सूची में तेज प्रताप का नाम शामिल नहीं किया गया। बिहार विधानसभा उपचुनाव 2021 के चुनाव प्रचार के लिए राष्ट्रीय जनता दल की ओर से मुख्य निर्वाचन आयुक्त को जो स्टार प्रचारकों की लिस्ट दी गई है, उसमें कहीं भी तेज प्रताप यादव का नाम नहीं है। गौरतलब है कि आरजेडी के स्टार प्रचारकों की लिस्ट में टॉप पर लालू प्रसाद यादव और दूसरे नंबर पर छोटे बेटे तेजस्वी यादव का नाम है।

आरजेडी ने कहा तेज प्रताप पार्टी का हिस्सा नहीं

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप के अलगाव की खबरें खाफी पहले से चल रहीं है। हालांकि, लालू प्रसाद के परिवार के तरफ से इसको लेकर कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आयी है पर आरजेडी के वरिष्ठ नेता ने तेज प्रताप यादव के अलगाव को लेकर साफ साफ बयान दे दिया है। हाजीपुर में आरजेडी के प्रशिक्षण शिविर के दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि, 'तेजप्रताप पार्टी में हैं कहां? उन्होंने नया संगठन बना लिया है।' उन्होंने कहा कि, 'तेज प्रताप को निष्कासित करने का कोई सवाल नहीं है। वह स्वयं ही निष्कासित हो चुके हैं। उन्होंने जो संगठन बनाया और उसमें लालटेन का सिंबल लगाया था। तभी उनको पार्टी के तरफ से कह दिया गया था कि वे आरजेडी का सिंबल नहीं लगा सकते है।'

पार्टी से निकालने का पत्र दें RJD- तेज प्रताप के करीबी

आपको बता दें कि लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप बिहार की राजनीति में अलग राह तलाश कर रहे है। पिछले दिनों ही उन्होंने आरजेडी के वरिष्ठ नेताओं से नाराज होकर छात्र जनशक्ति परिषद के नाम से अगल संगठन का ऐलान कर दिया था। इसके बाद से ही लालू परिवार में भी कलह की चर्चा तेज हो गई। वहीं, तेज प्रताप यादव के करीबी और छात्र जनशक्ति परिषद के मुख्य प्रवक्ता मोहित शर्मा ने कहा कि किसी नेता के कहने से तेज प्रताप यादव आरजेडी से बाहर नहीं चले जाएंगे। तेज प्रताप आरजेडी के टिकट से विधायक चुने गए हैं।

मोहित शर्मा ने कहा कि पार्टी के अंदर मौजूद कुछ लालू परिवार में फूट डालने की कोशिश कर रहे हैं। तेज प्रताप यादव को अगर आरजेडी से निकालना है तो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष इस संबंध में कोई बयान देंगे या पत्र जारी करेंगे। मोहित ने ये भी साफ किया कि तेज प्रताप यादव द्वारा का संगठन छात्र जनशक्ति परिषद अक एनजीओ की तरह काम करने वाली संस्था है। यह कोई राजनीतिक पार्टी नहीं है।

Next Story

विविध

Share it