Up Election 2022

UP Election Result 2022 Live Update : 40 फीसदी सीट और 'लड़की हूं लड़ सकती हूं के नारे' के बावजूद महिलाओं को खुश नहीं कर पायी कांग्रेस

Janjwar Desk
10 March 2022 1:53 PM GMT
UP Election Result 2022 Live Update : लड़की हूं लड़ सकती हूं की पोस्टर गर्ल्स को नाराज करना कांग्रेस को पड़ा भारी, इस बार कांग्रेस को सिर्फ दो सीटें
x

UP Election Result 2022 Live Update : लड़की हूं लड़ सकती हूं की पोस्टर गर्ल्स को नाराज करना कांग्रेस को पड़ा भारी, इस बार कांग्रेस को सिर्फ दो सीटें

UP Election Result 2022 Live Update : विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस की ओर से दावा किया गया था कि वह करीब 160 महिलाओं को उम्मीदवार बनाएगी। कांग्रेस अपने अभियान के जरिए आधी आबादी को साध रही थी, ताकि सत्ता में आ सके। लेकिन पोस्टर गर्ल्स की नाराजगी और आरोप से कांग्रेस पार्टी की छवि काफी को नुकसान हुआ। लड़की हूं, लड़ सकती हूं की तीनों पोस्टर गर्ल इस बार उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों के दौरान बीजेपी और योगी आदित्यनाथ के लिए समर्थन मांगतीं दिखीं थीं, इसी का असर और कांग्रेस का नुकसान अब इस बार के विधानसभा चुनाव के प​रिणामों में साफ देखने को मिल रहा है।

UP Election Result 2022 Live Update : यूपी विधानसभा चुनाव में लड़की हूं, लड़ सकती हूं पोस्टर गर्ल्स को नाराज करना और उनके आरोप कांग्रेस को भारी पड़ गया है। उत्तर प्रदेश विधानसभा के जो अब तक नतीजे और रुझान सामने आ हैं उससे तो यही पता चलता है कांग्रेस का यह नारा शायद लड़कियों के बीच ही अपनी छाप नहीं छोड़ पाया।

इस नारे से कांग्रेस के आधी आबादी को वोट बैंक में बदलने का अभियान आज नतीजों के बाद बुरी तरह से फेल साबित हो गया है। इस बार के नतीजों में कांग्रेस अब तक महज एक सीट जीत पायी है और एक सीट पर आगे चल रही है। हो सकता है है कांग्रेस पार्टी दो सीटों पर जीत दर्ज कर ले, पर महिला आबादी को लड़की हूं लड़ सकती हूं के नारे से अपनी ओर करने के इरादे में वह बुरी तरफ से विफल रही है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बीच कांग्रेस और प्रियंका गांधी के दावों की पोल खोलने का दावा करते हुए उन्हीं की पोस्टर गर्ल ने करते हुए तमाम आरोप जड़े थे। इस अभियान से जुड़ी तीनों पोस्टर गर्ल पल्लवी सिंह (Pallavi Singh), प्रियंका मौर्य (Priyanka Maurya) और वंदना सिंह (Vandana Singh) ने टिकट बेचने जैसे गंभीर आरोप लगाते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया था। इस तरह कांग्रेस के विधानसभा चुनाव में 40 प्रतिशत महिलाओं की हिस्सेदारी के दावे की पोल मतदान होने से पहले ही खुल चुके थे।

गौरतलब है ​कि इस बार विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस की ओर से ने दावा किया गया था कि वह करीब 160 महिलाओं को उम्मीदवार बनाएगी। कांग्रेस अपने अभियान के जरिए आधी आबादी को साध रही थी, ताकि सत्ता में आ सके। लेकिन माना जा रहा है कि पोस्टर गर्ल्स की नाराजगी और आरोप से कांग्रेस पार्टी की छवि काफी को नुकसान हुआ। लड़की हूं, लड़ सकती हूं की तीनों पोस्टर गर्ल इस बार उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों के दौरान बीजेपी और योगी आदित्यनाथ के लिए समर्थन मांगतीं दिखीं थीं, इसी का असर और कांग्रेस का नुकसान अब इस बार के विधानसभा चुनाव के प​रिणामों में साफ देखने को मिल रहा है।

बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और यूपी जॉइनिंग कमेटी के अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने चुनाव के दौरान ही यह दावा किया था कि कांग्रेस की चार पोस्टर गर्ल में से तीन बीजेपी के साथ हैं। वाकई अब बीजेपी को आधी आबादी का साथ भी मिल गया है। बीजेपी बहुमत से सरकार बनाएगी। इस बार के चुनाव परिणामों में उनकी यह भविष्यवाणी सही साबित हुई है।

इस बार के चुनाव नतीजों में सबसे बुरा हाल बसपा (BSP) और कांग्रेस (CONGRESS) का होता दिख रहा है। ये दोनों पार्टियां अभी तक उतनी सीटें भी नहीं जीत पाई हैं, जितने चरणों में साल 2022 के विधानसभा चुनाव हुए थे। इस बार यूपी के 403 विधानसभा सीटों सात चरणों में वोट डाले गए थे पर अब तक के रुझानों के अनुसार बसपा 2 और कांग्रेस सिर्फ 1 एक सीटों जीतती नजर आ रही है। कांग्रेस तो सोनिया गांधी के गढ़ रायबरेली में ही तीसरे नंबर पर रही है। यहां भाजपा की अदिति आगे चल रही हैं। कांग्रेस कैंडिडेट मनीष चौहान तीसरे नंबर पर हैं।

गोरखपुर में योगी और करहल में अखिलेश अपनी सीट जीत गए हैं, लेकिन चुनाव से पहले अखिलेश का हाथ थामने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य फाजिल नगर में चुनाव हार गए हैं। योगी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य भी सिराथू में चुनाव हार गए हैं।

भाजपा ने इस बार लगातार दूसरी बार बहुमत लाकर प्रदेश में एक इतिहास कायम कर दिया है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने भी सिर्फ दो सीटें ही जीतकर एक इतिहास बनाया है। इस चुनाव के परिणामों के बाद कांग्रेस को यह सोचना पड़ेगा कि क्या वह कभी प्रधानमंत्री मोदी और भारतीय जनता पार्टी को हराने की सटीक रणनीति बना पाएगी। इस बार के चुनाव चुनाव में राहुल गांधी और प्रियंका गांधी विधानसभा चुनावों के दौरान खूब सक्रिया दिखे पर लगता है वे इस बार भी जनता का मूड भांपने में असफल रहे। लड़की हूं, लड़ सकती हूं जैसे नारों से भी उन्हें को फायदा हासिल नहीं हो पाया।

Next Story

विविध