Up Election 2022

Samyukta Kisan Morcha की 'दंडित' करने वाली अपील ने उड़ाई भाजपा की नींद, 55 किसान संगठनों ने किया समर्थन

Janjwar Desk
3 Feb 2022 12:48 PM GMT
Samyukta Kisan Morcha की दंडित करने वाली अपील ने उड़ाई भाजपा की नींद, 55 किसान संगठन आए एक साथ
x

(संयुक्त किसान मोर्चा की अपील ने बढ़ाई भाजपा की टेंशन)

Samyukta Kisan Morcha : किसान नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा ने उत्तर प्रदेश के किसानों से अपील की है कि किसानों से छल करने के लिए आगामी चुनावों में भाजपा को दंडित करें....

Samyukta Kisan Morcha : उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों के लिए प्रचार का दौर जोर-शोर से चल रहा है। इस बीच संयुक्त किसान मोर्चा (Samyukta Kisan Morcha) की अपील ने भाजपा (BJP) की टेंशन बढ़ा दी है। किसान आंदोलन खत्म होने के बाद से भाजपा जाटों और खासतौर पर पश्चिम उत्तर प्रदेश के किसानों को रिझाने की कोशिश में जुटी हुई है। संयुक्त किसान मोर्चा ने उत्तर प्रदेश के किसानों से अपील की है कि उनकी मांगों को पूरा न कर उनके साथ छल करने के लिए विधानसभा चुनाव में भाजपा को दंडित करें।

किसान नेता योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav) ने गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन को बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा की अपील का 55 किसान संगठनों ने समर्थन किया है। उन्होंने स्पष्ट किया कि मोर्चा का चुनावों में किसी पार्टी के लिए वोट मांगने से कोई लेना-देना नहीं है। नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन का नेतृत्व करने वाले संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा कि एमएसपी पर समिति बनाने और किसानों के खिलाफ मामले वापस लेने सहित उनकी शेष मांगे अभी भी अधूरी हैं।

योगेंद्र यादव ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा (Samyukta Kisan Morcha) ने उत्तर प्रदेश के किसानों से अपील की है कि किसानों से छल करने के लिए आगामी चुनावों में भाजपा को दंडित करें। सरकार ने उनकी मांगे पूरी नहीं की हैं। एमएसपी के लिए अभी तक न तो समिति गठित की गई है और नही किसानों के खिलाफ मामले वापस लिए हैं।

यादव ने कहा कि हम मेरठ, कानपुर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर और लखनऊ सहित नौ स्थानों पर आगामी दिनों में संवाददाता सम्मेलन आयोजित करेंगे। पूरे उत्तर प्रदेश में हमारी अपील वाले पर्चे वितरित किए जाएंगे। संयुक्त किसान मोर्चा का किसी पार्टी के लिए वोट मांगने से कोई लेना-देना नहीं है। मोर्चा गैर राजनीतिक था और रहेगा।

बता दें कि किसान आंदोलन के असर के चलते भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को इन दिनों पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गांवों में घुसना मुश्किल साबित हो रहा है। 403 सीटों वाली उत्तर प्रदेश विधानसभा का चुनाव सात चरणों में होना है। पहले चरण का मतदान 10 फरवरी को होना। 7 मार्च को चुनाव के नतीजे सामने आएं।

Next Story

विविध