Up Election 2022

UP Election 2022 : कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही समेत 32 पर आरोप तय, भाजपा के 100 से ज्यादा विधायकों का कटेगा टिकट

Janjwar Desk
27 Dec 2021 2:48 PM GMT
UP Election 2022 : कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही समेत 32 पर आरोप तय,  भाजपा के 100 से ज्यादा विधायकों का कटेगा टिकट
x
UP Election 2022 : एमपी/एमएलए कोर्ट (MP/MLA Court) ने कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही, राज्य मंत्री रमाशंकर सिंह समेत 32 विधायकों के खिलाफ आरोप तय कर दिए हैं....

UP Election 2022 : उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए कुछ ही महीनों का समय बचा है लेकिन उससे पहले ही 100 से ज्यादा भाजपा (BJP) के विधायकों के टिकट कटने के आसार बन गए हैं। दरअसल एमपी/एमएलए कोर्ट (MP/MLA Court) ने 32 विधायकों के खिलाफ आरोप तय कर दिए हैं। इसके साथ ही अब इस बात की संभावना है कि ये विधानसभा चुनाव न लड़ सकें।

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की रिपोर्ट के मुताबिक कोर्ट ने जिन विधायकों पर आरोप तय किए हैं, उनमें कुछ विपक्ष के बड़े नाम भी शामिल हैं। इस सूची में उत्तर प्रदेश सरकार में कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही (Surya Pratap Shahi) और राज्यमंत्री रमाशंकर सिंह (Ramashankar Singh) भी शामिल हैं।

इसके अलावा नाम कटने वाली भाजपा की लिस्ट में पार्टी की खिलाफत कर चुके 75 की उम्र पार कर चुके विधायकों के नाम शामिल हैं। कुछ ऐसे भी विधायक हैं जिनके प्रदर्शन के आधार पर नाम काटने की चर्चाएं है। यह संख्या 100 के आसपास है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार में कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही पर दंगा भड़काने का आरोप है। उनके खिलाफ आरोप तय हो चुके हैं। उनके खिलाफ पिछले 32 साल से मुकदमा चल रहा है।

वहीं राजस्व और स्टांप मंत्री रवींद्र जायसवाल के पिछले 21 साल से अपहरण और आपराधिक साजिश रचने का मामला चल रहा है। उनके खिलाफ भी एमपी एमएलए कोर्ट आरोप तय कर चुकी है।

इसके अलावा उर्जा राज्य मंत्री रमा शंकर पटेल पर सरकारी कार्य में बाधा डालने का पिछले 27 साल से मुकदमा चल रह है। वहीं महसी से विधायक सुरेश्वर सिंह पर पिछले 26 साल से हत्या, हत्या की कोशिश, दंगा भड़काने और किसी दंगे के दौरान हथियार लेकर बाहर निकलने का मुकदमा चल रहा है। उनके खिलाफ कोर्ट में आरोप तय किए जा चुके हैं।

रिप्रेजेंटेशन ऑफ पीपुल्स एक्ट 1951 की धारा 8 (1), (2) और (3) के तहत 45 विधायकों के खिलाफ आरोप तय किए गए हैं। वहीं 32 विधायकों के खिलाफ 10 साल या उससे अधिक समय से कुल 63 आपराधिक मामले लंबित हैं।

जिन 45 विधायकों के खिलाफ आरोप तय किए गए हैं उनमें 32 भारतीय जनता पार्टी से हैं, 5 समाजवादी पार्टी, 3 बीएसपी, 3 अपना दल (एस) और एक-एक निर्बल इंडियन शोषित आम दल और कांग्रेस से हैं।

Next Story

विविध