Up Election 2022

UP Election 2022 Results LIVE Updates : हार के कगार पर कैसे पहुंचे अजय कुमार लल्लू, कांग्रेस से कहां हुई गलती, पार्टी कार्यकर्ताओं ने बतायी ये वजह

Janjwar Desk
10 March 2022 2:17 PM GMT
UP Election 2022 Results LIVE Updates : हार के कगार पर कैसे पहुंचे अजय कुमार लल्लू, कांग्रेस से कहां हुई गलती, पार्टी कार्यकर्ताओं ने बतायी ये वजह
x
UP Election 2022 Results LIVE Updates : कांग्रेस के एक कार्यकर्ता से जब पूछा गया कि आपकी पार्टी की ओर से गलती कहां पर हुई है तो उन्होंने कहा कि गलती कुछ नहीं हुई है, जो भी निर्णय कांग्रेस पार्टी का था, प्रियंका गांधी का था। उसके हिसाब से हमारे कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने अपनी पूरी जी जान से लड़े....

UP Election 2022 Results LIVE Updates : उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को एक बार फिर करारी हार का सामना करना पड़ा है। चुनाव आयोग के ताजा मतगणना के आंकड़ों के मुताबिक कांग्रेस को अबतक सिर्फ एक सीट पर जीत मिली है जबकि एक अन्य सीट पर आगे है। कांग्रेस का प्रदर्शन इस बार पिछले चुनावों से खराब दिखाई दे रहा है। खुद पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू अपनी सीट नहीं बचा पाए हैं और उनके हार का सामना करना पड़ा है। हार को स्वीकार करते हुए कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा कि लोकतंत्र में जनता का मत सर्वोपरि है। हमारे कार्यकर्ताओं और नेताओं ने मेहनत की, संगठन बनाया, जनता के मुद्दों पर संघर्ष किया। लेकिन, हम अपनी मेहनत को वोट में तब्दील करने में कामयाब नहीं हुए। कांग्रेस पार्टी सकारात्मक एजेंडे पर चलकर उप्र की बेहतरी व जनता की भलाई के लिए संघर्षशील विपक्ष का कर्तव्य पूरी जिम्मेदारी के साथ निभाती रहेगी।

कांग्रेस का प्रदर्शन इतना खराब क्यों रहा, इसको लेकर जनज्वार ने कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं से लखनऊ में बात की।एक महिला कार्यकर्ता से हमने पूछा कि आप जिस तरह के रिजल्ट देख रहे हैं आपकी पार्टी के निराशानजक हैं, ऐसा क्यों हैं? इस महिला कांग्रेस कार्यकर्ता ने कहा कि ये योगी बाबा की माया है। योगी बाबा कब कैसे-कैसे माया करेंगे कोई नहीं जानता है। हम लोगों की पार्टी में छल प्रपंच नहीं है। प्रियंका सीधी हैं, उनका परिवार सीधा है और उनके कार्यकर्ता सीधे- सच्चे हैं। हम लोगों ने मेहनत की है, आज नहीं कल उनकी पार्टी रंग लेकर आएगी। उन्होंने महिलाओं - युवाओं को तवज्जो दी।

चुनाव परिणामों को लेकर एक अन्य कांग्रेस कार्यकर्ता ने कहा कि उत्तर प्रदेश में हम लोगों ने पूरे पांच साल संघर्ष किया। कोई गलती नहीं हुई है। हम लोग 32 साल बाद 403 सीटों पर चुनाव लड़े हैं, इसका आज नहीं तो कल फायदा मिलेगा। इससे पहले हमने जो भी चुनाव लड़े..कभी सौ सीटों पर..कभी डेढ़ सौ सीटों पर..कभी दो सौ सीटों पर..अब जाकर हर सीट हमने जगह बनायी है। हमारे कार्यकर्ता तैयार हुए हैं। आपका इसका रिजल्ट लोकसभा में देखेंगे।

कांग्रेस के प्रदर्शन पर एक अन्य कांग्रेस कार्यकर्ता ने कहा- ''ये बहुसंख्यक और अल्पसंख्यक की लड़ाई है। बहुसंख्यक ने अपनी ताकत का मुजाहिरा किया और अल्पसंख्यक को हरा दिया। हमारी नेता प्रियंका गांधी ने इसका बीच का रास्ता अपनाकर चालीस प्रतिशत सीट महिलाओं को देने की बात की। क्योंकि महिलाओं की कहीं पर गिनती नहीं हुआ करती थी। प्रियंका जब प्रदेश की महासिचव बनीं तो उन्होंने महिलाओं के लिए चालीस प्रतिशत सीट देकर दिखाया। महिलाओं की लड़ाने की रणनीति के सवाल पर उन्होंने कहा कि चूंकि हमारी नेता ने तय किया और हमने उसको सिरमौर बनाया।''

अजय लल्लू की स्थिति के चुनाव हारने को लेकर एक कार्यकर्ता ने कहा- ये प्रश्न लल्लू जी से पूछना चाहिए कि उन्होंने क्या किया है। प्रदेश अध्यक्ष, विधायक रहे, अबकी क्यों नहीं जीत पाए... ये तो प्रश्न है ही...लेकिन दीदी (प्रियंका गांधी) ने जो चालीस प्रतिशत महिलाओं की पहल की है, अच्छी पहल की है। ये तुरंत चमत्कार नहीं होगा क्योंकि उसमें कुछ महिलाएं ऐसी थीं जिन्हें पड़ौसी तक नहीं जानते थे। उनको टिकट मिल गया। हमारे यहां लखनऊ में 400-400 वोट पा रही हैं।

उन्होंने कहा कि अजय कुमार लल्लू ने यहां पर संगठन कुछ नहीं बनाया। बस वह दीदी (प्रियंका) के साथ हाथ हिलाते रहे। इससे अच्छा मोना दीदी ने अच्छा प्रयास किया। मोना दीदी को भागते देखा है, उनको शूगर भी है लेकिन वह एक्टिव भी थीं। यहां पर ऐसी-ऐसी महिलाएं भी थीं जो चरस-गांजा भी पीती थीं। पुराने लोगों को टिकट नहीं मिल रहा है जबकि जिन्हें टिकट मिला है वह अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए हैं। इतनी कमी हैं कि अगर दीदी (प्रियंका) और राहुल जी इस बात को नहीं समझे तो 2024 तो ऐसे ही छूमंतर हो जाएगा।

पार्टी के एक बुजुर्ग कार्यकर्ता से जब पूछा गया कि आपकी पार्टी की ओर से गलती कहां पर हुई है तो उन्होंने कहा कि गलती कुछ नहीं हुई है। जो भी निर्णय कांग्रेस पार्टी का था, प्रियंका गांधी का था। उसके हिसाब से हमारे कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने अपनी पूरी जी जान से लड़े और उसका परिणाम आपके सामने है। सबसे बड़ी बात 2004 के बाद पहली बार 403 सीटों पर हम पहली बार लड़े हैं। उसका पूरा रिजल्ट आने दीजिए फिर मेरा बयान लीजिएगा।

एक अन्य वरिष्ठ कांग्रेस कार्यकर्ता ने कहा कि हमारी पार्टी सिद्धातों पर चलती है। जाति-पाति या धर्मवाद पर हमारी पार्टी नहीं चलती है। सबको साथ लेकर चलना पड़ता है तो दिक्कतें आएंगी। हमारी पार्टी में जाति देखकर सीट नहीं देते हैं। हमारी पार्टी के नेतृत्व के बराबर किसी भी पार्टी के नेता के पास न ईमानदारी है और न ही नेता है।

Next Story

विविध