Up Election 2022

Uttarakhand Election 2022 : भाजपा ने पांचवीं बार भरोसा जताया दीवान सिंह बिष्ट की सरलता पर

Janjwar Desk
20 Jan 2022 2:19 PM GMT
Uttarakhand Election 2022 : भाजपा ने पांचवीं बार भरोसा जताया दीवान सिंह बिष्ट की सरलता पर
x
Uttarakhand Election 2022 : बेहद सरल व्यवहार, सौम्यता, कार्यकर्ताओं के साथ सीधा संवाद जहां दीवानसिंह बिष्ट को लोकप्रिय "दीवान दा" का सम्बोधन देता है तो उनकी यह सरलता कहीं न कहीं उनकी प्रशासनिक पकड़ पर कमजोरी साबित होती है...

Uttarakhand Election 2022 : भारतीय जनता पार्टी की जारी प्रत्याशियों की पहली ही सूची (BJP Candidates List) में वर्तमान विधायक दीवान सिंह बिष्ट (Deewan Singh Bisht) का नाम शामिल होने से साफ हो गया कि उनकी सरलता व सौम्यता का पार्टी के पास अभी कोई विकल्प नहीं है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने इस विधानसभा में अपने विधायक पर भरोसा करते हुए लगातार पांचवी बार टिकट दिया है।

राज्य के पहली विधानसभा (Uttarakhand Assembly Election) के लिए हुए चुनाव में पहली बार चुनावी समर में उतरे भाजपा प्रत्याशी दीवान सिंह बिष्ट को कांग्रेस (Congress) के प्रत्याशी स्व. योगम्बर सिंह रावत के हाथों पहली बार पराजित होना पड़ा था। इसके बाद उपचुनाव में पार्टी ने दीवान सिंह की जगह स्व. राम सिंह बिष्ट टिकट दिया था। लेकिन उनके निधन के बाद वर्ष 2007 में हुए सामान्य विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने फिर एक बार दीवानसिंह बिष्ट को चुनाव में उतारा था।

इस चुनाव में पहली बार निर्वाचित हुए दीवान सिंह बिष्ट को पार्टी ने 2012 में फिर प्रत्याशी बनाया था। लेकिन इस बार वह कांग्रेस प्रत्याशी अमृता रावत (Amrita Rawat) से चुनाव हार गए थे। 2017 में कांग्रेस के दिग्गज नेता रणजीत सिंह रावत को हराकर दूसरी बार विधानसभा पहुंचे दीवान सिंह बिष्ट अब वर्तमान में लगातार पांचवी (सामान्य चुनाव में) बार भाजपा के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं।

दीवान सिंह बिष्ट भले ही दो बार के विधायक रहे हों, लेकिन वह बेहद लो-प्रोफ़ाइल के नेता माने जाते हैं। बेहद सरल व्यवहार, सौम्यता, कार्यकर्ताओं के साथ सीधा संवाद जहां दीवानसिंह बिष्ट को लोकप्रिय "दीवान दा" का सम्बोधन देता है तो उनकी यह सरलता कहीं न कहीं उनकी प्रशासनिक पकड़ पर कमजोरी साबित होती है।

भारतीय जनता पार्टी के चुनावी सर्वे में बेहद कमजोर सीट में शुमार रामनगर सीट से इस बार प्रत्याशी बदलने की चर्चा थी। लेकिन टिकट की घोषणा बताती है कि पार्टी में दीवान दा की सरलता इतनी हावी पड़ी कि उनका विकल्प पार्टी को ढूंढे नहीं मिला।

टिकट की घोषणा से उत्साहित विधायक दीवान सिंह बिष्ट ने इसे कार्यकर्ताओं का सम्मान बताते हुए कहा कि भाजपा में निष्ठावान कार्यकर्ताओं को हमेशा से सम्मान दिया जाता है। उनको टिकट मिलना इसी का प्रमाण है। इस दौरान उन्होंने अपनी जीत का दावा करते हुए कहा कि इस बार रामनगर की जनता नया इतिहास रचेगी।

Next Story

विविध