विमर्श

इटली में माफिया आधारित रेस्टोरेंट और खाद्य पदार्थों के विरोध में उतरे किसान, कहा यह हमारे देश का अपमान

Janjwar Desk
27 Dec 2022 6:10 AM GMT
इटली में माफिया आधारित रेस्टोरेंट और खाद्य पदार्थों के विरोध में उतरे किसान, कहा यह हमारे देश का अपमान
x
किसानों के सबसे बड़े संगठन कोल्दिरेत्ति ने माफिया आधारित रेस्टोरेंट और खाद्य उत्पादों के विरुद्ध एक मुहिम शुरू की है। इनके अनुसार यह इटली का अपमान है और साथ ही उन लाखों इटलीवासियों का भी अपमान है जिनकी जान माफिया गिरोहों के आपसी युद्ध या फिर उनके विरोध के कारण गयी...

महेंद्र पाण्डेय की टिप्पणी

Largest farmer's union in Italy is protesting against mafia based restaurants and food products. इटली में 1980 के दशक तक हिंसक माफियाओं और इनके गिरोहों का आतंक था, और माफिया और इटली एक दूसरे के पर्यायवाची की तरह इस्तेमाल किये जाते थे। इन माफिया गिरोहों को और इनके बादशाह डॉन को साहित्य में खूब महिमामंडित किया गया और दुनियाभर में फ़िल्में भी खूब बनाई गईं।

हमारा पूरा समाज जाने-अनजाने हिंसा का उपासक है, तभी ऐसे साहित्य बेस्टसेलर बन गए और फ़िल्में सुपर-डुपर हिट। माफिया और डॉन का आकर्षण इस हद तक बढ़ गया है कि अब कई रेस्टोरेंट भी इसी थीम पर खुल गए हैं। हमारे देश में भी बंगलुरु में ला माफिया रेस्तरो-पब, जयपुर में डिसेंट माफिया रेस्टोरेंट, पुणे में माफिया स्काई लाउन्ज और नई दिल्ली में माफिया नामक रेस्टोरेंट है। गोवा, मुंबई और हैदराबाद के कुछ रेस्टोरेंट और बार के नाम भी ऐसे ही हैं।

हाल में ही इटली में किसानों के सबसे बड़े संगठन कोल्दिरेत्ति ने माफिया आधारित रेस्टोरेंट और खाद्य उत्पादों के विरुद्ध एक मुहिम शुरू की है। इनके अनुसार यह इटली का अपमान है और साथ ही उन लाखों इटलीवासियों का भी अपमान है जिनकी जान माफिया गिरोहों के आपसी युद्ध या फिर उनके विरोध के कारण गयी। इसके अलावा हजारों परिवारों को जान-माल की क्षति उठानी पडी।

किसानों के इस संगठन ने इस सिलसिले में पूरी दुनिया में एक विस्तृत अध्ययन किया है। इसके अनुसार इटली के बाहर के देशों में 300 से अधिक रेस्टोरेंट या बार माफिया आधारित थीम पर बनाए गए हैं। इसमें सबसे अधिक स्पेन में 63 है, और इसके बाद क्रम से यूक्रेन, ब्राज़ील, इंडोनेशिया, रूस, भारत, जापान, पोलैंड और अमेरिका में स्थित हैं। कुछ चुनिन्दा रेस्टोरेंट हैं – स्पेन में अल पद्रिनो, फ़िनलैंड में डॉन कोर्लेओने, जर्मनी में बर्गर माफिया, अमेरिका में फालाफेल माफिया और इंडोनेशिया में नासी गोरेंग माफिया।

कोल्दिरेत्ति ने हाल में ही इटली के सिसिली में स्थित पलेर्मो शहर में दुनियाभर में माफिया आधारित खाद्य उत्पादों की एक प्रदर्शनी भी आयोजित की थी। इसी शहर में कुख्यात कैसा नोस्त्रा माफिया गिरोह का जन्म हुआ था। इस प्रदर्शनी में स्कॉटलैंड की मशीनगन के आकार वाली बोतल में मिलाने वाली व्हिस्की, कैसा नोस्त्रा; यूनाइटेड किंगडम का टोमेटो सौस, चिल्ली माफिया; माफिया कॉफ़ी और इल पद्रिनो वाइन जैसे उत्पाद रखे गए थे। यूरोपियन यूनियन में उत्पादों पर कुछ हद तक प्रतिबन्ध है पर रेस्टोरेंट के थीम, नाम और परोसी जाने वाले खाद्य सामग्री पर कोई प्रतिबन्ध नहीं है।

कोल्दिरेत्ति के अनुसार केवल अपना व्यापार बढाने के लिए हिंसा का महिमामंडन स्वयं में एक अपराध है, पर पूरी दुनिया में ऐसा किया जा रहा है। यह उन लाखों लोगों का अपमान है जो माफियाओं के कारण बुरी तरह प्रभावित हुए। ऐसे उत्पाद और रेस्टोरेंट इटली की जनता के विरुद्ध अपराध है, और इसे तुरंत रोका जाना चाहिए। कोल्दिरेत्ति ने यह भी कहा कि लाखों अहिंसक और शांतिप्रिय किसानों द्वारा पैदा किये गए खाद्यान्न से बने उत्पाद को एक हिंसक नाम देना किसानों के साथ अन्याय है और इसे रोका जाना चाहिए।

Next Story

विविध