दुनिया

Sarmat Missile : 16000 मील प्रति घंटे की रफ्तार से एक साथ 12 ठिकानों पर परमाणु बम गिरा सकती है सरमत मिसाइल, जानिए कितना खरतनाक है ये सफल परीक्षण

Janjwar Desk
21 April 2022 3:30 PM GMT
Sarmat Missile : 16000 मील प्रति घंटे की रफ्तार से एक साथ 12 ठिकानों पर परमाणु बम गिरा सकती है सरमत मिसाइल, जानिए कितना खरतनाक है ये सफल परीक्षण
x

Sarmat Missile : 16000 मील प्रति घंटे की रफ्तार से एक साथ 12 ठिकानों पर परमाणु बम गिरा सकती है सरमत मिसाइल, जानिए कितना खरतनाक है ये सफल परीक्षण

Sarmat Missile : रूसी मिसाइल को बनाने वाले डिजाइन ब्यूरो का कहना है कि इस मिसाइल को रूस के रणनीतिक बल के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी परमाणु प्रतिरोधक क्षमता के रूप में विकसित किया गया है....

Sarmat Missile : रूस और यूक्रेन के बीच जारी भीषण युद्ध को करीब दो महीने का वक्त होने वाला है। इस बीच रूस ने अपनी सबसे महाविनाशक अंतरमहाद्विपीय मिसाइल (Intercontinental Missile) सरमत का परीक्षण किया है। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) इस मिसाइल के परीक्षण का ऐला किया। यह मिसाइल 12 वारहेड लेकर जाने की ताकत रखती है। सरमत मिसाइल (Sarmat Hypersonic Missile) ब्रिटेन, फ्रांस या अमेरिका के टेक्सास प्रांत को अपने एक वार हेड से तबाह करने की क्षमता रखती है। सरमत को रूस ने अपने पश्चिमोत्तर इलाके से दागा था। यह मिसाइल पूरे रूस की दूरी तय करने के बाद मात्र पंद्रह मिनट में ही जापान के पास कामचाटका प्रायद्वीप के पास गिरी। इस महाविनाशक मिसाइल को किसी भी एयर डिफेंस सिस्टम से रोका नहीं जा सकता है। आइए जानते सरमत मिलाइल के बारे में-

हाइपरसोनिक मिसाइल की रफ्तार 16 हजार मील प्रति घंटा

दरअसल रूस की ओर से इस 115 फुट लंबी मिसाइल का एक वीडियो जारी किया गया है। इस मिसाइल को अंडरग्राउंड साइलो से दागा गया। इस दौरान आग की जोरदार लपटें देखीं गईं। सरमत मिसाइल में रॉकेट लगा है जो मिसाइल को 16 हजार मील प्रति घंटे की रफ्तार से ले जाता है। यह हाइपरसोनिक मिसाइल अपने साथ 10 से 15 वारहेड ले जासकती है और एक ही हमले में 15 परमाणु बम गिरा सकती है। बता दें कि रूस के ये परमाणु बम अमेरिका के जापान के हिरोशिमा और नागासाकी शहरों में गिराए गए एटम बम से एक हजार गुना ज्यादा शक्तिशाली हैं।

धरती के किसी भी कोने में हमला करने में सक्षम मिसाइल

रूस की हाइपरसोनिक मिसाइल अपने एक हमले से ब्रिटेन, फ्रांस या टेक्सस के आकार के इलाके को तबाह कर सकती है। इस परीक्षण के बाद रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने कहा कि रूस की इस नई मिसाइल से हमारे दुश्मन इसके बारे में सोचने को मजबूर हो जाएंगे। सरमत मिसाइल दुश्मन के एंटी डिफेंस सिस्टम को उड़ान भरने के बाद चकमा दे सकती है। इससे दुश्मन को संभलने का बहुत कम समय मिलता है। पुतिन के मुताबिक यह मिसाइल धरती के किसी भी कोने में हमला करने में सक्षम है।

रूसी रक्षा मंत्रालय बताया दुनिया की सबसे शक्तिशाली मिसाइल

वहीं रूस के रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि सरमत दुनिया में सबसे शक्तिशाली मिसाइल है जिसकी सबसे ज्यादा रेंज है। पश्चिमी विश्लेषकों ने इस मिसाइल का नाम सतान-2 रखा है। उनका कहना है कि यह रूस की अगली पीढ़ी की मिसाइलों में शामिल है जिस पुतिन अपराजेय बताते हैं। इनमें रूसी किंझल और एवनगार्ड हाइपरसोनिक मिसाइलें भी शामिल हैं।

जबकि ब्रिटिश रक्षा विशेषज्ञ क्रेग रॉबर्ट दावा करते हैं कि रूस की पांच या छह सरमत मिसाइले अमेरिका के पूरे पूर्वी तट को राख के ढेर में बदल सकती है। रूस ने सबसे पहले अक्टूबर 2017 में इस मिसाइल का परीक्षण किया था। उस समय यह धरती पर सबसे खतरनाक और घातक परमाणु मिसाइल थी।

208 टन की है सरमत मिसाइल

रूसी मिसाइल को बनाने वाले डिजाइन ब्यूरो का कहना है कि इस मिसाइल को रूस के रणनीतिक बल के लिए एक सुरक्षित और प्रभावी परमाणु प्रतिरोधक क्षमता के रूप में विकसित किया गया है। सरमत मिसाइल 208 टन वजनी है और करीब 18 हजार किमी तक मार कर सकती है।

इस मिसाइल के परीक्षण के बाद रूसी स्पेस एजेंसी रोस्कोस्मोस के डायरेक्टर दमित्री रोगोजिन ने कहा कि यह हथियार नाटो और यूक्रेन के समर्थकों को एक उपहार है। मिसाइल परीक्षण के अहमियत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि खुद रूसी राष्ट्रपति ने इसका परीक्षण लाइव देखा।

Next Story

विविध