बंगाल चुनाव

बंगाल चुनावों में ताल ठोकने को तैयार हैं बिहार के सभी प्रमुख दल पर यहां का गठबंधन वहां नहीं रहेगा कायम

Janjwar Desk
28 Feb 2021 4:27 AM GMT
बंगाल चुनावों में ताल ठोकने को तैयार हैं बिहार के सभी प्रमुख दल पर यहां का गठबंधन वहां नहीं रहेगा कायम
x

file photo

खास बात यह है कि बिहार चुनावों में जहां ये सारे दल किसी न किसी गठबंधन के हिस्सा थे, वहीं बंगाल चुनावों में ये दल गठबंधन के घटक दलों के सामने होंगे..

जनज्वार ब्यूरो/पटना। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में बिहार की लगभग सभी प्रमुख पार्टियां भी मैदान में उतरने की तैयारी कर रही हैं। राजद नेता तेजस्वी यादव जहां असम और बंगाल के दौरे पर निकल चुके हैं, वहीं जेडीयू भी संभावनाएं टटोल रहा है।

बंगाल में वामदल भाकपा और माकपा जहां कांग्रेस के साथ गठबंधन कर मैदान में उतरने जा रहे हैं, वहीं माले भी कई सीटों पर ताल ठोंकने के लिए तैयार है। खास बात यह है कि बिहार चुनावों में जहां ये सारे दल किसी न किसी गठबंधन के हिस्सा थे, वहीं बंगाल चुनावों में ये दल गठबंधन के घटक दलों के सामने होंगे।

पश्चिम बंगाल के चुनावों में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और कांग्रेस एक साथ चुनाव मैदान में उतरेंगे, वहीं माले अकेले 12 सीटों पर उम्मीदवार उतारने वाली है। भाजपा को हराने के लिए भाकपा - माले ने अन्य पार्टियों को समर्थन करने की बात कही है, इसे लेकर पार्टी की ओर से आगामी मंगलवार को निर्णय लिए जाने की संभावना है।

आज रविवार को बंगाल में भाकपा-माकपा, कांग्रेस व अन्य सहयोगी पार्टियों की एक बड़ी रैली होने जा रही है। बताया जा रहा है कि इस रैली में माले के नेता शामिल नहीं होंगे। इसकी पुष्टि भाकपा माले महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने की है।

बताया जा रहा है कि रैली के बाद माकपा-भाकपा के बीच सीटों का बंटवारा भी हो जायेगा। इसे लेकर वामदलों की केंद्रीय कमेटी की बैठक रैली के बाद होगी। कहा जा रहा है कि माकपा द्वारा 150 सीटों पर चुनाव लड़ने की दावेदारी जताई गई है।

उधर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी की पार्टी हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा पश्चिम बंगाल में 26 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इसकी घोषणा जीतनराम मांझी पहले ही कर चुके हैं।

पार्टी नेता बताते हैं कि 'हम' पार्टी कोलकाता, हावड़ा, दुर्गापुर, वर्दमान आदि बिहार से सटे इलाके वाली सीटों पर मैदान में उतरने वाली है। चूंकि यहां दलित और बिहारियों की संख्या अधिक है। चुनाव की तैयारी को लेकर हम पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी बीते 17- 18 फरवरी को कोलकाता का दौरा कर चुके हैं।

बात अगर जेडीयू की करें तो पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए जदयू फिलहाल सीटों के चयन की तैयारी कर रहा है। पार्टी वहां कितनी सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी और किसी अन्य राजनीतिक दल के साथ गठबंधन होगा या अकेले चुनाव लड़ेगी,इसकी घोषणा अगले सप्ताह होने की बात कही जा रही है।

फिलहाल जदयू के प्रदेश अध्यक्ष अशोक दास और पश्चिम बंगाल इकाई चुनाव कमेटी के अध्यक्ष बबलू महतो को सीटों का आकलन करने के लिए कहा गया है। उनकी रिपोर्ट मिलते ही अगले सप्ताह चुनाव लड़ने वाली सीटों की घोषणा की संभावना है।

उधर राष्ट्रीय जनता दल वहां चुनावी तालमेल की कोशिश में जुटा हुआ है। पार्टी नेता तेजस्वी यादव असम से सीधे बंगाल जानेवाले हैं, बताया जा रहा है कि वहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ उनकी मुलाकात होने की बात पार्टी सूत्र बता रहे हैं। कई पार्टी नेता यह भी कह रहे हैं कि बंगाल में आरजेडी दर्जन भर से ज्यादा सीटों पर उम्मीदवार उतार सकती है। तृणमूल कांग्रेस के साथ तालमेल की बात भी चल रही है।

Next Story

विविध

Share it