बिहार चुनाव 2020

बिहार : दीपांकर भट्टाचार्य व तारिक अनवर ने हार का ठीकरा कांग्रेस पर फोड़ा, मचा घमासान

Janjwar Desk
12 Nov 2020 7:46 AM GMT
बिहार : दीपांकर भट्टाचार्य व तारिक अनवर ने हार का ठीकरा कांग्रेस पर फोड़ा, मचा घमासान
x

बिहार चुनाव की एक जनसभा के दौरान दीपांकर भट्टाचार्य व तारिक अनवर।

महागठबंधन की हार को लेकर सिर फुटव्वल शुरू हो गया है, भाकपा माले ने इसके लिए कांग्रेस को जिम्मेवार बताया है। वहीं, वरिष्ठ कांग्रेस नेता तारिक अनवर ने भी ऐसी ही बात कही है, जिस पर कांग्रेस नेता अखिलेश सिंह ने तीखी प्रतिक्रिया दी है...

जनज्वार, पटना। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में महागठबंधन को मिली हार के लिए भाकपा माले के नेता दीपांकर भट्टाचार्य ने इसके लिए कांग्रेस को जिम्मेवार बताया है। दीपांकर भट्टाचार्य ने कहा कि 70 सीटें कांग्रेस के लिए संभालना ठेढा साबित हुआ और शायद कांग्रेस ही हार की वजह बनी है।

दीपांकर ने कहा कि इस पर समीक्षा करने के लिए समय है। उन्होंने कहा कि वाम दलों में वाम दलों का अच्छा प्रदर्शन रहा। उन्होंने कहा कि पहले चरण में हमने बढिया प्रदर्शन किया क्योंकि मगध व शाहाबाद के इलाके माले का गढ रहा है। उन्होंने राबड़ी देवी के आवास 10 सर्कुलर रोड पर आयोजित बैठक में शामिल होने के लिए जाते वक्त यह बात कही।

वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तारीक अनवर ने भी हार के लिए अपनी पार्टी को जिम्मेवार बताया। उन्होंने कहा कि हमसे कहीं चूक हुई है, इस पर जब हम बैठेंगे तो विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी अपेक्षा 35 सीटों की थी, लेकिन शायद हमसे कहीं चूक हुई है। वहीं, कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य अखिलेश सिंह ने कहा है कि हार के लिए सभी जिम्मेवार हैं। अखिलेश सिंह ने कहा कि तारीक अनवर सबसे बड़े नेता हैं और उन्हें ही सारे उम्मीदवारों को जीताना चाहिए था।

मालूम हो कि बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 70 सीटें मिलीं थीं, जिसमें वह मात्र 19 सीटें जीत पायी। यह संख्या एक तिहाई से भी कह है, जबकि गठबंधन के अन्य दलों से आधी से अधिक सीटें जीतीं हैंै। वाम दलों का प्रदर्शन इसमें सबसे अच्छा रहा।

बिहार की 243 विधानसभा सीटों के महागठबंधन में हुए चुनावी बंटवारे में राजद को 144, कांग्रेस को 70 व वाम दलों को 29 सीटें मिली थीं। इसमें भाकपा माले को 19, सीपीआइ को 6 व सीपीएम को 4 सीटें मिली थीं। राजद खुद को मिली सीटों में आधी से अधिक 75 जीत गई, भाकपा माले भी 19 में 11 सीटें जीत गईं।

उधर, महागठबंधन की बैठक में तेजस्वी यादव को विधायक दल का नेता चुल लिया गया। 109 विधायकों ने उनके नाम पर मुहर लगा दी है।

Next Story

विविध

Share it