बिहार चुनाव 2020

रामविलास पासवान के ब्रह्मभोज में बिहार की राजनीति के तीनों ध्रुव दिखे एक साथ, निकाले जा रहे निहितार्थ

Janjwar Desk
20 Oct 2020 4:46 PM GMT
रामविलास पासवान के ब्रह्मभोज में बिहार की राजनीति के तीनों ध्रुव दिखे एक साथ, निकाले जा रहे निहितार्थ
x
लोजपा के प्रदेश कार्यालय में आयोजित इस ब्रह्मभोज कार्यक्रम में प्रदेश भर से लोग पहुंचे हुए थे, राजनीति के कई बड़े चेहरे भी यहां आते रहे, इसी क्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे थे और संयोग ऐसा बना कि थोड़ी देर बाद ही तेजस्वी यादव भी पहुंच गए....

जनज्वार ब्यूरो, पटना। रामविलास पासवान के ब्रह्मभोज के अवसर पर बिहार की राजनीति के तीनों केंद्र एक साथ दिखे। पुत्र चिराग पासवान द्वारा ब्रह्मभोज में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और महागठबंधन की ओर से सीएम फेस तेजस्वी यादव दोनों को निमंत्रण भेजा गया था और संयोग ऐसा बना कि दोनों थोड़ी देर आगे-पीछे ही पहुंचे और साथ-साथ बैठे।

लोजपा के प्रदेश कार्यालय में आयोजित इस ब्रह्मभोज कार्यक्रम में प्रदेश भर से लोग पहुंचे हुए थे। राजनीति के कई बड़े चेहरे भी यहां आते रहे। इसी क्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे थे और संयोग ऐसा बना कि थोड़ी देर बाद ही तेजस्वी यादव भी पहुंच गए।

तमाम राजनीतिक दूरियों और आरोप-प्रत्यारोप वाले बयानों के तीर चलने के बावजूद चिराग ने नीतीश कुमार के पैर छूकर अभिवादन किया। नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव दोनों के बीच में चिराग पासवान बैठे। काफी देर तक चिराग और तेजस्वी आपस में बात भी करते रहे। इसके बीच नीतीश कुमार भी वहीं बैठे थे।

चिराग पासवान के चेहरे पर गम और उदासी भी साफ-साफ दिख रही थी। नीतीश आए तो चिराग ने उन के पैर छुए, लेकिन कोई बातचीत दोनों के बीच नहीं हुई। नीतीश भी चुपचाप बैठे रहे और चिराग भी चुपचाप ही थे। चिराग की दूसरी तरफ तेजस्वी यादव बैठे तो उनके साथ चिराग ने बातचीत की ।

हालांकि ऐसी स्थिति जेनरेशन गैप और हमउम्र होने के कारण भी हुई हो सकती है, पर राजनीतिक हलकों में इसके निहितार्थ भी निकाले जा रहे हैं। वैसे दोनों के बीच क्या बात हुई, यह सामने नहीं आया।

बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार सत्ता की कुर्सी इन्हीं तीनों में से किसी एक के पास रहने वाली है। ऐसे में चुनावी माहौल में तीनों की एक साथ उपस्थिति पर चर्चाएं तो होंगी ही और आगे अपने-अपने हिसाब से इसके निहितार्थ भी निकाले जाएंगे, भले ही यह मुलाकात गम के माहौल में हुई हो।

उल्लेखनीय है कि चिराग पासवान बीते काफी दिनों से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरुद्ध लगातार बयान तो दे ही रहे हैं, जदयू उम्मीदवारों के खिलाफ अपने प्रत्याशी भी उतार चुके हैं। जदयू के नेता भी लगातार लोजपा और चिराग पासवान के विरुद्ध कड़े बयान दे रहे हैं।

हालांकि पहले बीजेपी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आ रही थी, पर इन दिनों बीजेपी के नेता भी चिराग पासवान को वोटकटवा कह रहे हैं। हालांकि चिराग लगातार यही कह रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके अभिभावक हैं और बिहार में अगली सरकार भाजपा-लोजपा की बनेगी तथा मुख्यमंत्री भाजपा का होगा।

Next Story

विविध

Share it