अंधविश्वास

औरंगाबाद में अंधविश्वास में दंपती की हत्या, झाड़-फूंक करने वाले शख्स को पत्नी समेत काट डाला

Janjwar Desk
30 Jun 2021 9:37 AM GMT
औरंगाबाद में अंधविश्वास में दंपती की हत्या, झाड़-फूंक करने वाले शख्स को पत्नी समेत काट डाला
x

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

औरंगाबाद के एक गांव में कुछ लोगों की बिगड़ी तबीयत तो अंधविश्वास में ओछा-गुणी करने वाले शख्स को पत्नी समेत टांगी-गड़ासे से काट डाला

जनज्वार, औरंगाबाद। बिहार (Bihar) के औरंगाबाद जिले में दोहरे हत्याकांड (Double Murder) से सनसनी फैल गयी है। बुधवार 30 जून की सुबह पति-पत्नी का शव खून से सना मिला है। जिसके पास कुल्हाड़ी और गड़ासा रखा था, जिससे यकीन हो गया है कि हत्या में इन्हीं का इस्तेमाल किया गया है। इस घटना के बाद से गांव में तनाव है। वहीं अब तक कातिल का कोई सुराग हाथ नहीं लगा।

माना जा रहा है कि अंधविश्वास में इस डबल मर्डर को अंजाम दिया गया है। क्योंकि मरा गया शख्स झाड़-फूंक का काम करता था। गांव के लोगों को शक था कि वो काला जादू करता है। वहीं बीते कुछ दिनों गांव के कुछ लोगों की तबीयत बिगड़ गयी थी। ऐसे में संबंधित शख्स और उसकी पत्नी को टांगी-गड़ासे से काट देने की बात सामने आ रही है। इस निर्मम हत्या से गांव में तनाव और दहशत का माहौल है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

क्या है पूरा मामला

मिली जानकारी के मुताबिक, दोहरे हत्याकांड का यह पूरा मामला बिहार के औरंगाबाद जिले में मदनपुर थाना क्षेत्र के जमुआईन गांव का है। जहां अंधविश्वास में आकर खून बहाया गया। खबर है कि तंत्र-मंत्र के चक्कर में एक दंपती को पहले जमकर पीटा गया। इसके बाद टांगी-गड़ासे से उनपर हमला कर, उनकी हत्या कर दी गई। यह घटना बुधवार 30 जून तड़के सुबह करीब पांच बजे हुई। बताया जा रहा है कि ग्रामीणों ने ही 55 वर्षीय पनवा देवी और 60 वर्षीय उसके पति फकीरा भुइयां की हत्या टांगी, गड़ासा व कुदाल से कर दी।

गांववालों से हुआ था विवाद

जांच में ये बात सामने आयी है कि फकीरा भुइयां गांव में झाड़-फूंक का काम करता था। उस दौरान गांव में कुछ लोगों की तबीयत खराब हो गई, जिसका आरोप लोगों ने फकीरा भुइयां पर लगाया। मृतक के बेटे का कहना है कि मंगलवार 29 जून की रात गांव के कुछ लोगों से उसके पिता का विवाद भी हुआ था। हालांकि, इसके बाद दोनों पक्षों में समझौता करा दिया गया था, लेकिन सुबह फकीरा और उसकी पत्नी को पीट-पीटकर मार डाला गया। दोनों के शव क्षत-विक्षत हो चुके थे। चेहरे समेत शरीर के अन्य अंगों पर कटे का निशान था। बगल में कुल्हाड़ी और गड़ासा रखा था, जिससे यकीन हो गया है कि हत्या में इसी का इस्तेकमाल किया गया है।

मामले की जांच करने पहुंचे अधिकारी

इधर मामले की जानकारी मिलते ही मदनपुर सर्किल पुलिस की टीम ने मौके पर पहुंच कर शवों को अपने कब्जे में ले लिया। इस डबल मर्डर केस में मदनपुर पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में भी लिया है, जिनसे पूछताछ की जा रही है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही दोषियों को पकड़ लिया जाएगा।

हालांकि, गांव में ये भी चर्चा है कि मंगलवार 29 जून को दंपती के बीच झाड़-फूंक को लेकर बहस हुई थी। जिसके बाद गांव के कुछ लोगों ने मामले को शांत कराने और झगड़ा सुलझाने की कोशिश की। साथ ही कुछ प्रबुद्ध लोगों ने बुधवार सुबह मामले पर तफ्तीश से बात करने की बात कही, लेकिन सुबह दोनों का शव मिला। ग्रामीणों का कहना है कि दोनों के झगड़े का किसी तीसरे से फायदा उठाया औऱ दोनों की निर्मम हत्या कर दी। कयास तो ये भी लगाये जा रहे हैं कि पति-पत्नी के झगड़े को सुलझाने आये शख्स ने ही उग्र होकर इस जघन्य अपराध को अंजाम दिया और दोनों को मार डाला। बहरहाल, हत्या के पीछे के वास्तविक कारण का खुलासा तो फिलहाल नहीं हो पाया है। लेकिन इस दोहरे हत्याकांड को लेकर कई तरह की बातें गांव में हो रही हैं।


Next Story

विविध

Share it