अंधविश्वास

Kaushambi News : आस्था के नाम पर भक्त ने जीभ काटकर मां शीतला को चढ़ाई, इलाज के बाद हालत स्थिर

Janjwar Desk
13 Sep 2022 8:31 AM GMT
Kaushambi News : आस्था के नाम पर भक्त ने जीभ काटकर मां शीतला को चढ़ाई, इलाज के बाद हालत स्थिर
x

Kaushambi News : आस्था के नाम पर भक्त ने जीभ काटकर मां शीतला को चढ़ाई, इलाज के बाद हालत स्थिर

Kaushambi News : शीतला माता के मंदिर में दर्शन करने आए पूरब शरीरा गांव के निवासी एक भक्त ने अपनी जीभ काटकर माता को चढ़ा दी, उसके मुंह से खून निकलता देख वहां मौजूद लोगों ने आनन-फानन में उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया...

Kaushambi News : उत्तर प्रदेश के कौशांबी के कड़ाधाम कोतवाली क्षेत्र से एक अजीबो - गरीब मामला सामने आया है। यहां एक भक्त ने अपनी आस्था को अंधविश्वास में बदल दिया। क्षेत्र के शीतला माता के मंदिर में दर्शन करने आए पूरब शरीरा गांव के निवासी एक भक्त ने अपनी जीभ काटकर माता को चढ़ा दी। उसके मुंह से खून निकलता देख वहां मौजूद लोगों ने आनन-फानन में उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया। इसके बाद प्राथमिक उपचार कर डॉक्टरों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया है। फिलहाल डॉक्टरों का कहना है कि पूरी तरह उसकी जीभ अलग नहीं हुई है। इसके चलते उसकी हालत ठीक है और अब उसे छुट्टी दे दी गई है।

जीभ काटकर शीतला माता को चढ़ाई

बता दें कि यह घटना कड़ाधाम कोतवाली क्षेत्र के शीतलाधाम मंदिर की है। यहां शनिवार (10 सितंबर) को पश्चिम शरीरा थाना क्षेत्र के पूरब शरीरा गांव निवासी 40 वर्षीय संपत अपनी पत्नी भानमती के साथ कड़ाधाम गंगा स्नान करने और शीतला माता के दर्शन करने पहुंचा था। संपत ने गंगा स्नान करने के बाद अपनी पत्नी के साथ कड़ाधाम में माता शीतला के मंदिर जाकर दर्शन और पूजा-पाठ किया। इसके बाद मंदिर की सीढ़ियों पर जाकर उसने अपनी जीभ काटकर मंदिर में चढ़ा दी।

संपत को अस्पताल में करवाया भर्ती

संपत की पत्नी ने पति के मुंह से खून निकलता देख दहाड़े मारकर रोना शुरू कर दिया। इस दौरान मौके पर मौजूद लोगों ने एंबुलेंस बुलाकर संपत को स्थानीय अस्पताल भिजवाया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद डॉक्टरों ने संपत को जिला अस्पताल रेफर कर दिया। वहां संपत का इलाज पूरा होने के बाद उसे छुट्टी दे दी गई है। इस घटना को लेकर परिवार के सदस्यों ने संपत के कर्ज में डूबे होने की बात बताई थी।

पत्नी को नहीं थी पति के जीभ काटने की जानकारी

भक्त संपत की पत्नी भानमती के का कहना है कि वह पति के साथ कड़ाधाम गंगा स्नान और माता शीतला के दर्शन करने गई थी। गंगा स्नान के बाद पति-पत्नी मां शीतला मंदिर में पूजा करके वापस आ रहे थे। इस दौरान पति ने उसे मंदिर के चरण स्पर्श करने को कहा। जैसे ही वह चरण स्पर्श करने लगी तो पति ने ब्लेड से अपनी जीभ काट ली।

पत्नी ने बताया कि उसे पति संपत की किसी भी मान-मनौती या उनके जीभ काटने के कारण की जानकारी नहीं थी। वहीं जिला अस्पताल के इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. विवेक केसरवानी ने बताया कि मरीज की पूरी तरह से जीभ अलग नहीं हुई है। इसके चलते उसकी हालत ठीक है और संपत को छुट्टी दे दी गई है। लोगों की तरह बात भी कर सकता है। बस कुछ दिनों तक उसे अपना ध्यान रखना होगा।

बेटी की शादी के लिए लिया था कर्ज

परिजनों का कहना है कि संपत की माली हालत ठीक नहीं है। हाल ही में उसने बेटी की शादी की थी। इसके लिए पत्नी भानमती ने स्वयं सहायता समूह से कर्ज ले लिया था। उसी कर्ज को चुकाने के चक्कर में संपत ने गांव के अन्य लोगों से भी उधारी पर पैसा ले रखा है। संपत और उसकी पत्नी मेहनत- मजदूरी करने के बाद भी कर्जा भर नहीं पा रहे हैं। इसी से आजिज आकर यह कदम उठाने की बात कही जा रही है।

कर्जदारों से बचने के लिए पड़ोसी के घर में छिपते थे दंपति

पड़ोसी दिनेश कुमार का कहना है कि स्वयं सहायता समूह से ऋण की वसूली के लिए हर सप्ताह लोग आते रहते हैं। जिस सप्ताह देने के लिए पैसा नहीं रहता है, दंपती पड़ोसियों के घर में जाकर छिप जाता है। संपत की पत्नी के अनुसार वसूली के लिए आने वाले लोग मिलने पर बिना पैसा लिए नहीं जाते हैं। बेटी मनीता ने बताया कि उन्हें सरकार की तरफ से उज्ज्वला योजना के तहत गैस सिलिंडर और चूल्हा मिला है, लेकिन आर्थिक संकट के कारण दोबारा गैस नहीं भरवा पाए हैं।

Next Story

विविध