अंधविश्वास

Rajasthan News : पति के जूते से पानी पीती है महिलाएं, भूत-प्रेत के नाम पर खेला जाता है अंधविश्वास का घिनौना खेल

Janjwar Desk
18 May 2022 1:00 PM GMT
Rajasthan News : पति के जूते से पानी पीती है महिलाएं, भूत-प्रेत के नाम पर खेला जाता है अंधविश्वास का घिनौना खेल
x

Rajasthan News : पति के जूते से पानी पीती है महिलाएं, भूत-प्रेत के नाम पर खेला जाता है अंधविश्वास का घिनौना खेल

Rajasthan News : राजस्थान ( Rajasthan News ) के भीलवाड़ा (Bhilwara) में एक देवी का मंदिर ऐसा है, जहां अंधविश्वास के नाम पर देवी स्वरूपा महिलाओं के साथ ही अत्याचार किया जाता है, बंक्याराणी माता मंदिर में भूत-प्रेत का शक होने पर महिलाओं को अपने पति के जूते से पानी पीना पड़ता है...

Rajasthan News : विज्ञान भले ही आज कितनी भी तरक्की कर ली हो, लेकिन अंधविश्वास (Blind Faith) का कीड़ा समय के साथ दूर होने की जगह लोगों के करीब आता जा रहा है। लोग अंधविश्वास के चलते क्या-क्या नहीं करते। अंधविश्वास के चलते लोग ऐसी-ऐसी शर्मनाक हरकतें करते हैं कि उन्हें इसका अंदाजा भी नहीं रहता कि आखिर कर क्या रहे हैं। उस समय इनके दिमाग में केवल अंधविश्वास ही सवार रहता है। ऐसा ही मामला सामने आया है राजस्थान (Rajasthan News) के भीलवाड़ा (Bhilwara) से। जहां अंधविश्वास (Blind Faith) के नाम पर महिलाओं के साथ शर्मनाक हरकतें की जाती हैं।

महिलाओं को पिलाया जाता है पति के जूतों से पानी

राजस्थान ( Rajasthan News ) के भीलवाड़ा (Bhilwara) में एक देवी का मंदिर ऐसा है, जहां अंधविश्वास के नाम पर देवी स्वरूपा महिलाओं के साथ ही अत्याचार किया जाता है। जी हां बंक्याराणी माता मंदिर में भूत-प्रेत का शक होने पर महिलाओं को अपने पति के जूते से पानी पीना पड़ता है। यहां झाड़-फूंक के नाम पर महिलाओं के साथ क्रूरता की जाती है।

पति के गंदे जूते सिर पर रख चलती है महिलाएं

अंधविश्वास के नाम पर मंदिर के पुजारी से लेकर झाड़-फूंक करने वाले तांत्रिक तक महिलाओं के साथ शर्मनाक हरकत करते हैं। महिलाओं के साथ मार-पीट तक की जाती है। इतना ही नहीं यहां महिलाओं को मर्दों के गंदे जूते सिर पर रखकर कई किलोमीटर तक चलने के लिए मजबूर किया जाता है।

सालों से जारी है अंधविश्वास का घिनौना खेल

इस दौरान महिलाओं को गांवों की गलियों से सिर पर जूता रखकर और मुंह में दबाकर जाना पड़ता है। बच्चे उन्हें देखकर हंसते हैं, लेकिन घरवालों के दवाब में उन्हें ऐसा करना पड़ता है। उसके बाद पति के इन्हीं जूतों से महिलाओं को पानी पिलाया जाता है। भूत-प्रेत के नाम पर ये अंधविश्वास का खेल सालों से जारी है। लोगों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। महिलाओं के प्रति इस तरह के व्यवहार से कहीं न कहीं महिलाओं में मानसिक तनाव पैदा हो जाता है और वो भी स्वयं को भूत प्रेत से बाधित समझ बैठती हैं।

Next Story

विविध