Top
अंधविश्वास

अंधविश्वास : पुत्रप्राप्ति के नाम पर तांत्रिक ने महिला को गर्म चिमटे से पीटा-सरिया से दाग 10 दिन तक रखा भूखा, हुई मौत

Janjwar Desk
10 Aug 2020 3:45 AM GMT
अंधविश्वास : पुत्रप्राप्ति के नाम पर तांत्रिक ने महिला को गर्म चिमटे से पीटा-सरिया से दाग 10 दिन तक रखा भूखा, हुई मौत
x
राजस्थान के भरतपुर में अंधविश्वास की भेंट चढ़ी महिला, तांत्रिक कर रहा था बेटा पैदा करवाने का दावा, जिसके लालच में महिला पहुंची थी उसके पास....

जनज्वार, जयपुर। अंधविश्वास में फंसकर लोग ऐसी—ऐसी घटनाओं को अंजाम दे देते हैं, जिनके बारे में सोचकर रूह कांप जाती है। ऐसा ही कुछ राजस्थान के भरतपुर में हुआ है, जहां तांत्रिक ने तंत्र-मंत्र, टोने-टोटके से एक दंप​ती को पुत्र प्राप्ति का झांसा दिया और इलाज के नाम पर महिला को भूखा रखकर गर्म चिमटों से दागा, जिससे उसकी मौत हो गयी।

यह घटना भरतपुर के कुम्हेर की है। यहां कुम्हेर थाना पुलिस ने डीग निवासी एक तांत्रिक श्यामदास उर्फ़ शामू शामू गुर्जर को महिला की हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया है। तांत्रिक ने बच्चा पैदा करने के नाम पर पुत्र प्राप्ति के लिए उसके पास आयी 28 वर्षीय महिला पूनम देवी को तंत्र-मंत्र से इलाज के नाम पर प्रताड़ित किया और उसकी हत्या कर दी है।

शुरुआती जानकारी में सामने आया है कि तांत्रिक ने इलाज के नाम पर महिला को लोहे के गर्म चिमटे से पीटा और भूखा रखा। पुलिस ने इस मामले में तांत्रिक के अलावा मृतका के पति को भी गिरफ्तार कर लिया है।

जानकारी के मुताबिक मृतका की पहले से तीन पुत्रियां हैं, मगर बेटा न होने के चलते पति प्रवेश सिंह जिद करके अपनी पत्नी पूनम देवी को सेवर थाना इलाके के गांव रामनगर के पास जंगल में स्थित तांत्रिक श्यामदास के पास ले गया। उसने बेटा पैदा करने के लालच में लगभग 10 दिनों तक अपनी पत्नी को वहीं तांत्रिक के पास रख दिया। तांत्रिक ने इलाज के नाम पर पूनम देवी को लोहे के गर्म चिमटे से बुरी तरह पीटा। यही नहीं तंत्र—मंत्र के नाम पर वह पूनम को खाने को भी कुछ नहीं देता था।

मीडिया में आई जानकारी के मुताबिक तांत्रिक ने जादू-टोने के नाम पर पूनम देवी के शरीर को गर्म कीलों व सरियों से जगह-जगह दाग दिया और गर्म लोहे के चिमटे से उसकी बुरी तरह पिटाई की। तांत्रिक की क्रूरता को जब पूनम नहीं झेल पायी तो वह खूब चीखी-चिल्लाई, इसी प्रताड़ना में उसकी मौत हो गयी।

घटनाक्रम के मुताबिक पूनम देवी की शादी 2008 में प्रवेश सिंह से हुई थी। शादी के बाद पूनम की एक के बाद एक 3 बेटियां हुईं और ससुराल वाले लगातार उस पर बेटे के लिए दबाव बना रहे थे, इसीलिए पूनम को तांत्रिक के आश्रम में भेजा गया था कि परिवार को वंश मिल जाये।

तांत्रिक कह रहा है कि अस्तावन निवासी प्रवेश उसका भक्त है, जो अक्सर उसके पास आया करता था। प्रवेश को किसी भी हाल में बेटा चाहिए था, और इसीलिए वह अपनी बीवी को लेकर तांत्रिक के पास पहुंचा था कि वह तंत्र-मंत्र से बेटा पैदा करवा देगा। इलाज के नाम पर उसने अपनी पत्नी पूनम को तांत्रिक के पास छोड़ दिया।

अब अपनी सफाई में तांत्रिक कह रहा है कि पूनम की मौत भूखे रहने या फिर चिमटे दागने से नहीं बल्कि उसके शरीर में भूत की आत्मा आने से हुई है। उसके शरीर में आत्मा ने प्रवेश किया तो वह सीढ़ियों से गिर पड़ी, जिससे उसकी मौत हो गई।

इस मामले में ग्रामीण पुलिस वृत्ताधिकारी हरी राम मीणा ने मीडिया से कहा कि एक तांत्रिक द्वारा इलाज के नाम पर महिला को पीटा गया था, जिससे उसकी मौत हुई है। जिस लोहे के चिमटे से महिला को पीटा गया था, उसको भी पुलिस ने जब्त कर लिया है। तांत्रिक व महिला के पति को गिरफ्तार करते हुए आगे की जांच की जा रही है।

Next Story

विविध

Share it