अंधविश्वास

Blind Faith: झारखंड में अंधविश्वास का खूनी खेल, रांची में नरबलि और पलामू में डायन बिसाही के शक में मां-बेटे की हत्या

Janjwar Desk
15 Oct 2021 11:15 AM GMT
Blind Faith: झारखंड में अंधविश्वास का खूनी खेल, रांची में नरबलि और पलामू में डायन बिसाही के शक में मां-बेटे की हत्या
x

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

पूछताछ में ग्रामीणों ने पुलिस को बताया है कि तरुण महतो सुबह से ही किसी व्यक्ति की बलि देने की बात कर रहा था... ग्रामीणों की बात सुनकर पुलिस के भी होश उड़ गए...

Blind Faith Murder (जनज्वार): झारखंड में नवरात्रि के शुभ पर्व के दौरान अंधविश्वास के नाम पर दो अलग अलग घटनाओं में तीन लोगों की हत्या की खबर सामने आई है। दोनों ही घटनाएं दुर्गा पूजा के नवमी के दिन हुई। पहली वारदात राजधानी रांची में हुई जहां नरबलि के नाम पर 35 वर्ष के शख्स की निर्मम हत्या कर दी गई। वहीं, दूसरी घटना पलामू जिले की है। पलामू में जमीनी विवाद और डायन बिसाही के आरोप रिश्तेदारों ने मां-बेटे को कुल्हाड़ी से काट कर मौत के घाट उतार दिया गया।

रांची में नवमी के दिन नरसंहार

झारखंड की राजधानी रांची के तमाड़ थाना क्षेत्र के पितई गांव में एक सनकी शख्स ने नरबलि के नाम पर 35 वर्षीय व्यक्ति की हत्या कर दी। मृतक का नाम हराधन लोहरा बताया गया है। हत्या करने वाले शख्स का नाम तरुण महतो है। घटना के बारे में बताया जाता है कि गुरुवार, 14 अक्टूबर की सुबह हराधन लोहरा और तरुण महतो के बीच दातुन काटने को लेकर विवाद हुआ था। इस दौरान दोनों ने एक दूसरे को देख लेने की धमकी दी थी। विवाद के दौरान ही तरुण महतो ने धारदार हथियार से हराधन लोहरा पर हमला बोल दिया।

घायल हराधन लोहरा को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और आरोपी तरुण महतो को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने तरुण के पास से हत्या में इस्तेमाल तेजधार हथियार भी बरामद कर लिया है।

पूछताछ में पुलिस को ग्रामीणों ने बताया कि आरोपी तरुण सुबह से ही हाथ में हथियार लेकर घूम रहा था। पूछने पर नरबलि की बात कह रहा था। जिसके बाद उसने हराधन लोहरा की हत्या कर दी।

वहीं, पुलिस के अनुसार आरोपी तरुण ने विवाद में हमले के आरोप को स्वीकार कर लिया है। तरुण का कहना है कि उसने गुस्से में हराधन लोहरा के गले पर हथियार चला दिया था।

रांची के ग्रामीण एसपी नौशाद आलम ने बताया कि तमाड़ से सूचना आई थी कि हराधन लोहरा नाम के एक व्यक्ति का किसी ने गला रेत दिया है। पूछताछ में ग्रामीणों ने पुलिस को बताया है कि तरुण महतो सुबह से ही किसी व्यक्ति की बलि देने की बात कर रहा था। ग्रामीणों की बात सुनकर पुलिस के भी होश उड़ गए। पुलिस की टीम में छापेमारी कर आरोपी तरुण महतो को गिरफ्तार कर लिया है। ग्रामीण एसपी के अनुसार पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है और हत्या के कारण की तहकीकात में जुटी है।

पलामू में डायन बिसाही के शक में मां बेटे की हत्या

दूसरी घटना राज्य के पलामू जिले के नौडीहा बाजार थाना क्षेत्र के खारा दोहर पंचायत की है। यहां बुधवार, 13 अक्टूबर की देर शाम को दो भाइयों ने अपने ही चाचा और दादी को कुल्हाड़ी से काट कर हत्या कर दी। घटना के बाद दोनों आरोपियों ने मेदिनीनगर टाउन थाने में आत्मसमर्पण भी कर दिया।

जानकारी के मुताबिक, खारा दोहर पंचायत के झुनझुनवा पहाड़ में सुनसान जगह पर मां-बेटे की हत्या उन्हीं के रिश्तेदारों द्वारा कर दी गई। मृतकों की पहचान कलावती देवी (60 वर्ष) और बेटा प्रभु सिंह (38 वर्ष) के रूप में हुई है। आरोप के मुताबिक चचेरे भाई बबन सिंह और विनोद सिंह का चाचा के साथ जमीन का विवाद था। विनोद की मां की मौत करीब एक महीने पहले हो गई थी। मौत के बाद दोनों भाई अंधविश्वास में आ गए थे। उन्हें चाचा और दादी के डायन होने का शक हो गया था। इसी क्रम में दोनों भाईयों ने अपने चाचा प्रभु सिंह और दादी कलावती देवी की टांगी से हत्या कर दी।

ग्रामीणों ने बताया कि आरोपी विनोद सिंह और बबन सिंह का गांव झुलझुल पहाड़ पर खेती करता है। वहीं, उसके चाचा प्रभु सिंह और दादी कलावती देवी झोपड़ी में रहते थे। झुलझुल पहाड़ के खेत को लेकर ही दोनों पक्षों में विवाद था। इस विवाद के कारण और अंधविश्वास में बुधवार की देर शाम दोनों भाइयों ने पहाड़ पर गया और चाचा प्रभु सिंह और दादी कलावती को कुल्हाड़ी से हमला कर दिया, जिससे दोनों की मौत हो गई है। गुरुवार की सुबह दोनों भाइयों ने मेदिनीनगर टाउन थाना पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया और हत्या में इस्तेमाल की गई टांगी भी पुलिस को सौंप दी।



Next Story

विविध

Share it