Top
अंधविश्वास

अंधविश्वास : नाक में ​नींबू का रस डालने से हुई शिक्षक की मौत, BJP के पूर्व सांसद ने वीडियो बनाकर बताया था नुस्खा

Janjwar Desk
3 May 2021 8:11 AM GMT
अंधविश्वास : नाक में ​नींबू का रस डालने से हुई शिक्षक की मौत, BJP के पूर्व सांसद ने वीडियो बनाकर बताया था नुस्खा
x
अस्पतालों में कोरोना और कफ का इलाज न मिलने से निराश रोगी जनविरोधी नेताओें, लालची डॉक्टरों और फर्जी बाबाओं के चक्कर में फंसकर अपनी जान गंवा रहे हैं...

भाजपा के पूर्व सांसद और बीजेपी नेता विजय संकेश्वर के खिलाफ कर्नाटक के मुख्य सचिव से शिकायत की गयी है और मृतक शिक्षक के परिजनों के लिए 50 लाख का मुआवजा मांगा गया है...

जनज्वार। पिछले वर्ष कोविड की लहर भारत में आने के बावजूद सरकारों की अदूरदृष्टता और नकारेपन ने पूरे देश की जनता मौत के मुहाने पर बैठा दिया है। देश का कोई ऐसा कोना नहीं बचा है जहां कोरोना न फैल गया हो। ऐसे में इलाज न मिलने से हताश-निराश रोगी नेताओं, बाबाओं, मुनाफाखोर डॉक्टरों, कालाबारियों के लिए 'बलि का बकरा' बन रहे हैं और ये लालची-मुनाफाखोर लगातार रोगियों और उनके परिवारों का बे-मरव्वत शिकार कर रहे हैं।

ऐसा ही एक मामला कर्नाटक के रायचूर जिले से सामने आया है, जहां एक स्कूल शिक्षक ने भाजपा के पूर्व सांसद विजय संकेश्वर के दावे से प्रभावित होकर शरीर में ऑक्सीजन बढ़ाने के लिए 28 अप्रैल को नाक में नींबू कर रस डाल लिया, जिसके बाद अस्पताल जाते वक्त रास्ते में मौत हो गयी। विजय संकेश्वर न सिर्फ भाजपा के पूर्व सांसद और नेता हैं, बल्कि व्यापार की दुनिया में उनकी पहचान ट्रांसपोर्ट माफिया के तौर पर है, जिनको लोग डॉक्टर विजय संकेश्वर कहते हैं। विजय संकेश्वर वीआरएल ग्रुप के चेयरमैन हैं।

ट्रांसपोर्ट कंपनी वीआरएल ग्रुप के चैयरमैन डॉ विजय संकेश्वर ने सप्ताह दिन पहले एक वीडियो जारी कर ज्ञान दिया था कि नींबू का रस दिन में तीन चार बार डालने से आक्सीजन लेवल उपर उठता है और कफ से राहत मिलती है, जिससे कोरोना होने की संभावना खत्म हो जाता है। अपने क्षेत्र और कर्नाटक में ट्रांसपोट बिजनेस टायकून के रूप में ​चर्चित यह नेता जब डॉक्टर के तौर पर यह बातें लोगों को बता रहा था तो अपनी बात को सही साबित करने के लिए यह भी कहा, 'मैंने यह प्रयोग 200 लोगों पर किया है, जिनका ऑक्सीजन लेवल 30—35 मिनट में बढ़ जाता है।'

कर्नाटक के भाजपा नेता विजय संकेश्वर के इसी अंधविश्वासी और आपराधिक बड़बोलेपन में फंसा रायचूर का रहने वाला शिक्षक बासवराज अपनी जान गंवा बैठा, जब उसने अपनी नाक में नींबू का रस डाला। 43 वर्षीय बासवराज दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक के रायचूर जिले के एक सरकारी स्कूल में शिक्षक थे। उन्होंने विजय संकेश्वर द्वारा प्रसारित उस लेमन थेरेपी वाले वीडियो को देखा, जिसमें 200 लोगों का नींबू का रस नाक में डालने से ऑक्सीजन लेवल बढ़ने का दावा किया गया था।

रामतनाल गांव के रहने वाले मृतक बासवराज की पत्नी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि वह पूरे तौर पर स्वस्थ्य थे, लेकिन भाजपा नेता विजय संकेश्वर की प्रेस कांफ्रेंस को देखकर उन्होंने नाक में नींबू डाला, जिसके बाद से वह उल्टियां करने लगे। उनकी खराब होती हालत को देखकर हम लोग अस्पताल ले जा रहे थे कि रास्ते में मेरे पति बासवराज की मौत हो गयी। घर में मैं और मेरी दो ​बेटियां हैं।'

पीएम मोदी की पार्टी के ये सुरमा नेता और वीआरएल ग्रुप के ट्रांसपोर्ट मालिक की वजह से शिक्षक बासवराज की मौत के बाद आरटीआई एक्टीविस्ट और वकील भीमागौड़ा पारागौंडा ने कर्नाटक के मुख्य सचिव से लिखित शिकायत दी है कि विजय संकेश्वर के खिलाफ आपराधिक धाराओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाए। प्रमुख अंग्रेजी अखबार द हिंदू में छपी खबर के अनुसार कर्नाटक के बेलागल्वी जिले के अथानी के रहने वाले भीमागौड़ा पारागौंडा ने मुख्य सचिव पी रवि कुमार को अपनी शिकायत में लिखा है कि भाजपा नेता और पूर्व सांसद विजय संकेश्वर ने 'नाक में नींबू डालने से कोरोना खत्म' का वीडियो बना और प्रसारित कर न सिर्फ आपराधिक कृत्य किया है, बल्कि कोरोना नियमों की भी धज्जियां उड़ाई हैं।

भीमागौड़ा पारागौंडा ने अपनी शिकायत की एक प्रति कमीश्नर के डिप्टी कमीश्नर को भी भेजी है और स्पष्ट तौर पर कहा कि बासवराज मालीपाटिल की मौत के लिए सीधे भाजपा नेता जिम्मदार है। आरटीआई एक्टीविस्ट और वकील भीमागौड़ा ने मांग की है कि विजय शंकर के खिलाफ धारा 306 और आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाए और बासवराज मालीपाटिल के परिवार को 50 लाख का मुआवजा मिले।

नींबू का रस डालने पर क्या कहता है डब्लूएचओ

अगर इस दावे का सच आप जानने की कोशिश करें तो बहुत चौंकाने वाले तथ्य सामने आएंगे। दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य संस्था की वेबसाइट नाक में नीब के रस डालने का अंधविश्वास और गलत प्रयोग मानती है। डब्लूएचओ का कहना है कि नींबू का रस पीने से लाभ होता न कि नाक में डालने से। नींबू में विटामिन सी होता है, इसलिए बॉडी का एचपी लेवल ठीक रहता है, जिससे बॉडी यानी शरीर की इम्यूनिटी क्षमता बढ़ती है। और यह बात समाज के सभी लोग जानते हैं, इसलिए पारंपरिक तौर पर भारतीय परिवारों में नींबू का इस्तेमाल भी होता है, लेकिन नाक में नींबू डालने का ज्ञान देकर इस भाजपा नेता विजय संकेश्वर ने बहुत लोगों के जीवन से खिलवाड़ किया है। ऐसे में इस अपराध की सजा जरूर मिलनी चाहिए।

Next Story

विविध

Share it