Top
अंधविश्वास

डायन व काला जादू के संदेह में महिला सहित दो की पीट-पीट कर हत्या, फिर गर्दन काट कर लगायी आग

Janjwar Desk
5 Oct 2020 2:41 AM GMT
डायन व काला जादू के संदेह में महिला सहित दो की पीट-पीट कर हत्या, फिर गर्दन काट कर लगायी आग
x
एक लड़की ने अपनी मौत से पहले दो लोगों पर काला जादू करने का आरोप लगाया, जिसके बाद ग्रामीणों ने उनकी पीट कर हत्या कर दी...

जनज्वार। असम के काबरी एंगलोंग जिले में डायन व जादू-टोना के संदेह में एक महिला सहित दो लोगों की भीड़ ने पीट-पीट कर हत्या कर दी और इसके बाद सिर को धड़ से अलग कर आग लगा दी। यह घटना कारबी आंगलोंग जिले के डोकोमोका थाना क्षेत्र के रोहिमापुर गांव की है।

पुलिस के एक अधिकारी का कहना है कि गुस्साई भीड़ ने दोनों पर काला जादू करने का आरोप तब लगाया था जब रोहिमापुर गांव में एक लड़की की मौत हो गई थी। ग्रामीणों का आरोप था कि लड़की की मौत इन्हीं के काला जादू से हुई। इस संबंध में जिले के एसपी देबजीत देउरी ने बताया कि घटना गुरुवार को कुछ स्थानीय लोगों की शिकायत के बाद सामने आयी। पुलिस अबतक इस मामले में नौ लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

द वायर में प्रकाशित खबर के अनुसार, इस संबंध में बताया जा रहा है कि रोहिमापुर गांव की रहने वाले लड़की रश्मि गौर ने 29 सितंबर को मौत से एक दिन पहले गांव के दो लोगों का नाम लेते हुए उन पर काला जादू करने का आरोप लगाया था। इसके बाद रश्मि की मौत के तीसरे दिन एक और लड़की ने ग्राम प्रधान के घर पर दावा किया कि उन दोनों लोगों की काला जादू की वजह से वह बीमार पड़ गई है।

इस शिकायत के बाद ग्रामीण उग्र हो गए और रामवती और बीजाॅय गौर को पीट-पीट कर मार डाला और शव को पास की एक पहाड़ी पर ले गए और फिर दोनों का सिर धड़ से अलग कर दिया। यह वही जगह दी थी जहां रश्मि गौर का अंतिम संस्कार किया गया था। वहीं, पर रामवती व बीजाॅय गौर के शव को आग के हवाले कर दिया गया।

घटना का खुलासा होने के बाद पुलिस अधिकारियों व एक्जक्यूटिव मजिस्ट्रेट जिंदू बोरा ने घटना स्थल का दौरा किया और मिट्टी के नमूनों के अलावा चिता के अवशेष का जमा किया।

पुलिस ने इस मामले में एक एफआइआर दर्ज कर ली है और दो महिला सहित नौ लोगों को आरोपी बनाया है। इनके पास से हथियार भी जब्त किए गए हैं। पुलिस के अनुसार, इस आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और इन्होंने अपना अपराध कबूल कर लिया है। इस मामले में आरोपियों की तलाश भी की जा रही है।

Next Story

विविध

Share it