Top
कोविड -19

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के 26 प्रोफेसरों की कोरोना से मौत, 16 फैकल्टी मेंबर का गंभीर हालत में चल रहा इलाज

Janjwar Desk
8 May 2021 10:37 AM GMT
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के 26 प्रोफेसरों की कोरोना से मौत, 16 फैकल्टी मेंबर का गंभीर हालत में चल रहा इलाज
x
यहां शुक्रवार को दो फैकल्टी सदस्यों की मौत होने के साथ ही 20 दिनों के भीतर 16 वर्किंग और 10 रिटायर्ड फैकल्टी मेंबर्स को कोरोना ने निगल लिया। खुद कुलपति तारिक मंसूर के बड़े भाई की भी कोविड-19 की चपेट में आने से मौत हो गई...

जनज्वार, अलीगढ़। उत्तर प्रदेश की अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में इन दिनों कोरोना वायरस से हो रही मौतें हर किसी को सकते में डाल रही हैं। यहां शुक्रवार को दो फैकल्टी सदस्यों की मौत होने के साथ ही 20 दिनों के भीतर 16 वर्किंग और 10 रिटायर्ड फैकल्टी मेंबर्स को कोरोना ने निगल लिया। खुद कुलपति तारिक मंसूर के बड़े भाई की भी कोविड-19 की चपेट में आने से मौत हो गई।

एनबीटी में प्र​काशित खबर के मुताबिक विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के कोविड वार्ड में फैकल्टी मेंबर्स सहित 16 लोगों का इलाज चल रहा है। जिनमें से कुछ की हालत गंभीर है। एएमयू के प्रवक्ता शैफई किदवई ने बताया कि चिकित्सा विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर 58 वर्षीय शादाब अहमद खान और कंप्यूटर विज्ञान विभाग के प्रोफेसर 55 वर्षीय रफीकुल जमान खान ने शुक्रवार को कोरोना संक्रमण के चलते दम तोड़ दिया।

यूनिवर्सिटी के प्रवक्ता ने बताया कि उप-कुलपति मंसूर ने के भाई 75 वर्षीय उमर फारूक की भी कोरोना से मौत हो गई। वह यूनिवर्सिटी कोर्ट के पूर्व सदस्य और मोहम्मदन एजुकेशनल कॉन्फ्रेंस के सदस्य थे। मंसूर ने कहा कि वह सभी से टीकाकरण और सभी कोविड -19 प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील करते हैं।

बुधवार 5 मई को प्रसिद्ध संस्कृत विद्वान और संस्कृत विभाग के पूर्व अध्यक्ष 56 वर्षीय प्रो खालिद बिन यूसुफ का इंतकाल हो गया था। वे ऋग्वेद में डॉक्टरेट अर्जित करने वाले पहले मुस्लिम विद्वान थे। उनके अलावा अन्य सेवारत संकाय सदस्य, जिन्होंने इस महीने की शुरुआत में कोविड-19 से दम तोड़ा वे पोस्ट हार्वेस्ट इंजिनियरिंग विभाग के प्रफेसर मोहम्मद अली खान (60) थे, राजनीति विज्ञान विभाग के प्रो काजी मोहम्मद जमशेद (55), मनोविज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रो. साजिद अली खान (63), संग्रहालय विभाग के अध्यक्ष मोहम्मद इरफान (62), महिला अध्ययन केंद्र के डॉ. अजीज फैसल (40), इतिहास विभाग के डॉ. जिबरईल (51), अंग्रेजी विभाग के डॉ। मोहम्मद यूसुफ अंसारी (46), उर्दू विभाग के डॉ. मोहम्मद फुरकान संभली (43) और जूलॉजी विभाग के प्रफेसर सैयद इरफान अहमद (62) शामिल हैं।

पिछले महीने उर्दू विभाग में प्रसिद्ध आलोचक और वरिष्ठ संकाय सदस्य, प्रफेसर मौला बख्श अंसारी (58), धर्मशास्त्र विभाग के संकाय सदस्य प्रफेसर एहसानुल्लाह फहद (50) और विश्वविद्यालय पॉलिटेक्निक AMU सईद में चमड़े और जूते के अनुभाग के प्रभारी उज्मन (51) की कोरोना से मौत हो गई थी। अब तक कोविड से संबंधित जटिलताओं के कारण 10 सेवानिवृत्त संकाय सदस्यों की भी मृत्यु हो गई है। इनमें जेएनएमसी के पहले बैच के छात्र, Professor एम मुबाशीर (77), मेडिकल कॉलेज के पहले प्रिंसिपल और यूनिवर्सिटी के पहले छात्र शामिल हैं।

एसोसिएट सदस्य और जनसंपर्क विभाग के प्रभारी राहत अबरार ने कहा कि यह एएमयू समुदाय के लिए बहुत बड़ी क्षति है। इस कोविड ने परिवारों को तबाह कर दिया और हमारे प्रख्यात विद्वानों को छीन लिया है।

Next Story

विविध

Share it