Top
कोविड -19

भारत में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर AIIMS डायरेक्टर ने दी चेतावनी, कहा 6 से 8 हफ्तों के बीच हो सकता है अटैक

Janjwar Desk
19 Jun 2021 2:44 PM GMT
भारत में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर AIIMS डायरेक्टर ने दी  चेतावनी, कहा 6 से 8 हफ्तों के बीच हो सकता है अटैक
x

देश में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर रणदीप गुलेरिया ने दी चेतावनी.

गुलेरिया ने कहा कि अभी तक की रिसर्च में ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं कि कोरोना की तीसरी लहर बड़ों से ज्यादा बच्चों को प्रभावित करेगी। इससे पहले भारत के महामारी विशेषज्ञों ने पहले सितंबर-अक्टूबर तक कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जता दी थी...

जनज्वार, नई दिल्ली। भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कोरोना की तीसरी लहर पर चेतावनी जारी की है। उनका कहना है कि यदि कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं किया गया और बाजारों या टूरिस्ट स्पॉट पर लगने वाली भीड़ को नहीं रोका गया तो कोरोना की तीसरी लहर सिर्फ 6 से 8 हफ्तों में पूरे देश पर अटैक कर सकती है।

डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि अभी तक की रिसर्च में ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं कि कोरोना की तीसरी लहर बड़ों से ज्यादा बच्चों को प्रभावित करेगी। इससे पहले भारत के महामारी विशेषज्ञों ने पहले सितंबर-अक्टूबर तक कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जता दी थी।

देश में अप्रैल और मई महीने के बीच कोरोना की दूसरी लहर भारत में पीक पर पहुंची थी। इस बीच देशभर में कोरोना से मौतों की संख्या में रिकॉर्ड बढ़ोतरी दर्ज की गई थी। अधिकतर राज्यों में इस बीच ऑक्सीजन की शॉर्टेज भी देखी गई थी। इसके बाद पिछले कुछ दिनों से कोरोना के केस घटने शुरू हो गए हैं।

कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए विशेषज्ञों ने कुछ उपाय भी बताए हैं। जिसके मुताबिक, भारत की ज्यादा से ज्यादा आबादी का वैक्सीनेशन करना होगा। लोगों को कोविड गाइडलाइंस का पालन करना होगा। ऐसे इलाकों की मॉनिटरिंग करनी होगी, जहां कोरोना केस तेजी से बढ़ रहे हैं। जहां कोरोना पॉजिटिव मरीज 5% से ज्यादा है, वहां कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित करें।

बता दें कि महाराष्ट्र में 1-2 महीने के अंदर कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका है। यह लहर कोरोना के बेहद खतरनाक वैरिएंट डेल्टा प्लस (AY.1) की वजह से आएगी। राज्य की कोविड टास्क फोर्स ने बुधवार को इस महामारी की समीक्षा बैठक में यह जानकारी दी थी। इसके बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मेडिकल टीम और अन्य अफसरों को जरूरी इंतजाम चाक-चौबंद करने का निर्देश दिया था।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने डॉक्टर्स से बड़े स्तर पर सीरो सर्वे कराने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि इससे लोगों में कोविड एंटीबॉडीज का स्तर और टीकाकरण की जानकारी मिल सकेगी। CM ने पिछली लहरों से सीख लेने की बात पर जोर दिया है।

Next Story

विविध

Share it