Top
कोविड -19

सीताराम येचुरी के बड़े बेटे को भी निगल गया कोरोना, गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में ली अंतिम सांस

Janjwar Desk
22 April 2021 5:30 AM GMT
सीताराम येचुरी के बड़े बेटे को भी निगल गया कोरोना, गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में ली अंतिम सांस
x
आशीष येचुरी की उम्र करीब 35 साल थीं, करीब दो हफ्तों से उनका कोरोना का इलाज चल रहा था, स्थिति गंभीर होने के गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था....

जनज्वार डेस्क। मार्क्सवादी कम्युनिष्ट पार्टी के नेता सीताराम येचुरी के बड़े बेटे का कोरोना वायरस से निधन हो गया है। येचुरी ने यह जानकारी अपने ट्वीट के जरिए दी है। उन्होंने अपने ट्वीट में बताया है कि उनके बड़े बेटे आशीष येचुरी का आज सुबह कोरोना वायरस की वजह से निधन हो गया।

आशीष कोरोना वायरस से संक्रमित थे, गुरुग्राम के एक अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। आज सुबह उन्होंने आखिरी सांस ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर गहरी संवेदना व्यक्त की है।

आशीष येचुरी की उम्र करीब 35 साल थीं। करीब दो हफ्तों से उनका कोरोना का इलाज चल रहा था। स्थिति गंभीर होने के गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। आशीष के अलावा सीताराम येचुरी के परिवार में उनकी पत्नी और बेटी है।

सीताराम येचुरी ने अपने ट्वीट में लिखा, "यह बहुत दुख के साथ मुझे कहना पड़ रहा है कि मैंने अपने बड़े बेटे आशीष येचुरी को कोविड की वजह से आज सुबह खो दिया। मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने हमें आशा दी और जिन्होंने उसका इलाज किया। डॉक्टर, नर्स, स्वास्थ्यकर्मी, स्वच्छता कार्यकर्ता और अन्य लोग जो हमारे साथ खड़े रहे।"

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी उनके निधन पर दुख जताया है और अपनी संवेदना व्यक्त की है। प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा- श्री सीताराम येचुरी और उनके परिवार के प्रति मेरी गहरी संवेदना। इस तरह एक समय में कोई शब्द नहीं होते हैं, केवल प्रार्थना होती है। आप में हिम्मत है।

विदेश मंत्री सुब्रमण्यम जयशंकर ने ट्वीट कर लिखा- सीता, आपको हुआ नुकसान शब्दों से परे है। आपको इस बेहद कठिन समय में आपको ताकत मिले।

नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने लिखा- मेरे प्रिय भाई सीताराम येचुरी जी! मुझे आपके प्यारे बेटे के असामयिक निधन की खबर सुनकर गहरा दुख और सदमा लगा है। मैं केवल यह सोच सकता हूं कि आप और आपका परिवार क्या कर रहा होगा। दुख की इस घड़ी में मैं आपके साथ खड़ा हूं।


Next Story

विविध

Share it